कैमरे ने मिलवाया, एक- दूजे का बनाया, चंडीगढ़ के द अकी फोटोग्राफी , बियॉन्ड एक्सीलेंस के स्टार्टअप की रोमांस कथा

Spread the love

चंडीगढ़ से विनोद भावुक की रिपोर्ट

द अकी फोटोग्राफी, बियॉन्ड एक्सीलेंस ट्राई सिटी चंडीगढ में वेडिंग, प्री वेडिंग, फैशन, पोर्टफोलियो, प्रॉडक्ट्सए इवेंट्स, नेचुर व वाइल्उ लाइफ फोटोग्राफी में माहिर एक बड़ा ब्रांड है। इस स्टार्टअप की कहानी हिमाचल प्रदेश के दो युवाओं के फोटोग्राफी के प्रति जुनून की कहानी है। हमीरपुर के भोटा के अखिल शर्मा और कांगड़ा की प्रीतिका के बीच परिचय का आधार फोटोग्राफी ही बनी। दोनों फोटोग्राफी के शौकीन है। फोटोग्राफी ही दोनों को करीब लाई और नजदीकियां प्यार में बदल गईं। जिंदगी भर साथ रहने के लिए दोनों ने 14 अक्टूबर 2018 को सगाई कर ली और 21 अप्रैल 2019 को परिणय सूत्र में बंधने जा रहे हैं।

पढ़ाई छोड़ जाना पड़ा चंडीगढ़

कहानी कुछ यूं शुरू होती है। हमीरपुर जिला के भोटा का अखिल शर्मा मिडल क्लास फैमिली से संबंध रखते हैं। 26 फरवरी 1989 को पैदा हुए अखिल के पिता दुकानदार हैं, जबकि मां गृहणी हैं। उनकी एक बड़ी बहन है, जिसकी शादी हो चुकी है। वर्ष 2006 में भोटा से जमा दो करने के बाद बाद एमएलएसएम कॉलेज सुंदरनगर से बीसीए करने के लिए एडमिशन ली। परिवार के आर्थिक हालात ऐसे नहीं थे कि अपनी पढ़ाई जारी रख पाते ऐसे में वर्ष 2010 में चंडीगढ़ जाकर नौकरी करने लगे और साथ ही एमसीए की पढ़ाई भी करने लगे।

May be an image of 2 people and people smiling

शुरू की वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफी

चंडीगढ़ मेंं अखिल की महज सात हजार की मासिक पगार वाली नौकरी थी। वर्ष 2013 में दूसरी कंपनी में 12,500 मासिक वाली नौकरी मिल गई। अखिल को फोटोग्राफी का शौक स्कूल के दिनों से ही था। नौकरी से थोड़े पैसे जोड़े और फुजी फिल्मस का कैमरा खरीदा और फोटोग्राफी शुरू कर दी। दो साल हर रविवार को अखिल सुखना झील के आस पास फोटोग्राफी करता रहता। इस दौरान कई लोग शाबाशी देते तो कई मजाक भी उड़ाते, लेकिन धुन के पक्के अखिल तारीफ और आलोचना से इतर रह कर अपने काम में जुटे रहते।

सोनीपत से फिर चंडीगढ़

अखिल का कहना है कि वर्ष 2015 में 22000 मासिक पैकेज वाला जॉब ऑफर मिला तो सोनीपत चला गया, लेकिन 8 महीने की नौकरी में फोटोग्राफी के लिए कुछ नया मिल जाए जो जुलाई 2016 में फिर से चंडीगढ़ लौट आया। चंडीगढ़ में एक कंपनी में बतौर आईटी मैनेजर जॉब शुरू कर दी। पैसे आए तो अच्छा कैमरा खरीद सुखना झील में वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफी फिर से शुरू कर दी। अब तक अनुभव से अखिल के काम में गहराई आ चुकी थी। उससे खींचे फोटो को रिस्पांस मिलने लगा।

पहले प्रोफेसनल शूट से मिले छह हजार

वर्ष 2017 में अखिल ने अपना पहला प्रोफेशनल शूट किया। हालांकि इस शूट से उन्हें केवल 6000 रूपए मिले, लेकिन इस असाइनमेंट ने फोटोग्राफी में अखिल के हुनर के लिए कद्रदानों के दरवाजे खोल दिए। पैसे आए तो प्रोफेशनल सेटअप लगा लिया। इस तरह से चंडीगढ़ में द अकी फोटोग्राफी , बियॉन्ड एक्सीलेंस स्टूडियो की शुरूआत हुई। एक साल के अंदर ही अखिल ने साबित कर दिया कि फोटोग्राफी के हुनर में वह बेमिसाल है। आज द अकी फोटोग्राफी एक भरोसे का ब्रांड है, जो लीक से हट कर काम करने के लिए जाना जाता है।

May be an image of 2 people

प्रीतिका ने पढाय़ा फोटोग्राफी का पाठ

अखिल बताते हैं कि जब वह वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफी कर रहे थे तो अपने फोटोग्राफअपनी वेबसाइट और फेसबुक पेज पर अपलोड करते थे। सोशल मीडिया पर शूलिनी यूनिवर्सिटी में पढ़ रही प्रीतिका उनकी फोलोअर बनी। प्रीतिका खद फोटोग्राफी में माहिर थी और अखिल को फोटोग्राफी की बरीकियां और जरूरी टिप्स देती थीं। प्रीतिका के गाइड करने के बाद अखिल की फोटोग्राफी की कला में निखार आता गया और एक अभरते हुए फोटोग्राफर के तौर पर अखिल चंडीगढ़ में खुद को साबित करने में कामयाब रहे।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *