स्टार्टअप — हाई-स्पीड इंटरनेट, पावर बैकअप वाला 20 सीटर वर्किंग स्टूडियो, घुमक्कड़ों में खुद बना दिया हिमाचल का पहला आईटी पार्क

Spread the love

धर्मशाला के रक्कड़ गांव के ‘घुमक्कड़’ परिसर के वर्किंग स्टूडियो से हुई देश के कई स्टार्टअप्स की शुरूआत, ‘टेक हिमालय’ की तैयारी

धर्मशाला से विनोद भावुक की रिपोर्ट

दुनिया भर की एक बड़ी जमात अपने लैपटॉप बैग में अपना ऑफिस लिए दुनिया भर की धुमक्कड़ी करती रहती है। कितने ही वेब डेवलपर्स, डिजाइनर, कोडर, फोटो- वीडियोग्राफर, ब्लॉगर व आईटी प्रोफेशनल सैर सपाटा करते हुए अपना जॉब वर्क या प्रोजेक्ट वर्क करते रहते हैं। धौलाधार के आंचल में बसे कांगड़ा जिला मुख्यालय धर्मशाला शहर से सटा रक्कड़ गांव आजकल ऐसे सैंकड़ों प्रोफेशनल की पहली पसंद बन गया है। रक्कड़ का ‘घुमक्कड’़ एक आईटी पार्क के तबदील हो चुका है। यह हिमाचल प्रदेश का पहला आईटी पार्क है और यहां से कई स्टार्टअप्स की नींव पड़ी है। मजेदार बात यह है कि इस पार्क की परिकल्पना को खुद घुमक्कड़ों ने हकीकत में बदला है। आज कल यहां ‘टेक हिमालय’इवेंट की तैयारी चल रही है, जिसके लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन शुरू हो चुका है।

No photo description available.

मिट्टी व स्लेट से बने घर

घुमक्कड़ परिसर में ग्रीन बिल्डिंग मॉडल पर मिट्टी से बने स्लेट वाले परम्परागत घर पहाड़ की पुरातन वास्तुकला का प्रतिनिघित्व करते हैं। परिसर में 25 कमरों सहित 100 लोगों के ठहरने की व्यवस्था है। परिसर में रेन वाटर हार्बेस्टिंग व सोलर एनर्जी का प्रयोग होता है। यहां हाई-स्पीड इंटरनेट कनेक्शन और पावर बैकअप 20 सीटर को– वर्किंग स्टूडियो है।

No photo description available.

‘घुमक्कड़ किचन’ में कांगड़ी धाम

घुमक्कड़ परिसर के फार्म में जैविक व प्राकृतिक खेती की जा रही है। फार्म फ्रेश जैविक व स्थानीय भोजन परिसर में ही बने सामुदायिक भोजन कक्ष में भोजन परोसा जाता है। यहां की कांगड़ी धाम बेहद मशहूर है। सामुदायिक रसोई ‘घुमक्कड़ किचन’ में आप खुद भी अपना भोजन तैयार कर सकते हैं। परिसर में कचरा प्रबंधन की उचित व्यवस्था है और सफाई में इको क्लीलिंग उत्पादों का प्रयोग होता है। घुमक्कड़ यहां कई स्थानीय युवाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध करवा रहा है।

May be an image of 2 people

ऑर्गेनिक फार्मिंग व जड़ी— बूटियों की खेती

घुुमक्कड़ में आने वाले प्रोफेशल ऑर्गेनिक फार्मिंग व जड़ी— बूटियों की खेती करने के गुर भी सीख सकते हैं। घुमक्कड़ की ओर से यहां आने वाले प्रोफेशनल्स के लिए ट्रेकिंग की व्यवस्था भी करता है। परिसर मे नियमित लोकसंगीत के आयोजन होते हैं। यहां आप लोकगीतों की धुनों पर थिरक सकते हैं। घ्ुामक्कड़ में आने वाले प्रोफेशनल गैर सरकारी संस्ंथाओं के साथ स्वच्छता अभियान में बढ़- चढ़ कर भाग लेते हैं।

May be an image of 1 person

वर्किंग फ्रॉम द हिल्स

घुमक्कड़ गद्दी समुदाय से सम्बन्ध रखने वाले महेंद्र शर्मा ने यहां दस साल पहले यहां छोटे से रेस्टारेंट्स की शुरूआत की थी। आईटी क्षेत्र में आए बूम के दौरान अपने स्टार्टअप्स के लिए रचनात्मक वातावरण की तलाश में दुनिया भर के – वेब डेवलपर्स, डिजाइनर, कोडर, और आईटी पेशेवर कुदरत की गोद में बसे धर्मशाला पहुंचने लगे। ऐसे ही कुछ प्रोफेशनल्स ने महेंद्र सिंह को ‘लोकल दोस्त’ बनाते हुए ‘कॉ वर्किंग प्लेस’ की कंसेप्ट से घुमक्कड़ को विकसित करने में रचनात्मक सहयोग दिया।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *