भेड़पालक के बेटे ने बैंक की नौकरी छोड़ पास की एचएएस परीक्षा

Spread the love

फोकस हिमाचल, शिमला

कहते हैं दिल में कुछ अलग करने का जज्बा हो तो गरीबी भी आडे. नहीं आती है। ऐसा ही कर दिखाया है कि शिमला की चौपाल तहसील के गांव क्यारना के कुलवंत सिंह पोटन ने। उनका  हिमाचल प्रदेश प्रशासनिक सेवाओं(एचएएस) में आर्थिक तौर पर कमजोर वर्ग से चयन हुआ है। भेड़पालक गुलाब सिंह पोटन और माता शांति देवी पोटन के बेटे ने क्षेत्र और माता-पिता का नाम रोशन किया है। कुलवंत सिंह पोटन ने जून 2013 से फरवरी 2019 तक यूको बैंक में मैनेजर के रूप में सेवाएं दीं। नौकरी छोड़कर एचएएस की तैयारी की और सफलता हासिल की।

कुलवंत ने कहा कि वह आज जो भी हैं, उनके पिता गुलाब सिंह पोटन, चाचा मान सिंह पोटन और भाई होमिंद्र पोटन की बदौलत हैं। बैंक की नौकरी के साथ प्रशासनिक सेवा परीक्षा की तैयारी जारी रखी। प्रशासनिक सेवा करते हुए हमेशा आमजन के लिए उपलब्ध रहेंगे। लोगों की समस्याओं को दूर करने और सरकार की योजना आमजन तक पहुंचाने का प्रयास करेंगे। कहा कि वह पढ़ने में आम छात्र थे। कुलवंत की पांचवीं तक की पढ़ाई प्राथमिक पाठशाला चौपाल के मशराह से हुई। 10वीं हैदराबाद, 12वीं और स्नातक स्तर की शिक्षा अमृतसर से पूरी हुई है।

 


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *