पड़दादा आजाद हिन्द फ़ौज के लिए शहीद, दादा और पिता भी रहे सैनिक, पड़पोती इंडियन एयर फ़ोर्स में पायलट, पीढी दर पीढी सैन्य वर्दी से प्रेम की प्रेरककथा

Spread the love

पालमपुर से संजीव कौशल की रिपोर्ट

नेता जी सुभाष चन्द्र बॉस के आह्वान पर देश को ब्रिटिश हुकूमत की गुलामी से आजाद करवाने के लिए कांगड़ा जिला के जयसिंहपुर उपमंडल के छोटे से गांव अंदराणा के पृथी चंद कटोच आजाद हिन्द फौज के सिपाही बने थे और साल 1942 में आजाद हिन्द फौज की ओर से देश के लिए लड़ते हुए शहीद हुए थे। देश की आन- बान और शान के लिए उनके बेटे परसराम कटोच ने भी भारतीय सेना को चुना। इस कटोच परिवार का फौजी वर्दी के लिए जुनून कि पृथी चंद कटोच के पोते राजेश कटोच ने भी भारतीय सेना में सेवायें प्रदान कीं। सैनिकों के इस परिवार की चौथी पीढी एवं पृथी चंद कटोच की पड़पोती जूवी कटोच भारतीय वायुसेना में अफसर बन कर इस परम्परा का निर्वहन कर रही हैं।

पोती के लिए दादा हैं रोल मॉडल

जूवी कटोच ने 31 दिसम्बर, 2018 को हैदराबाद के डूंगीगल स्थित एयरफोर्स एकैडमी को बतौर प्रशिक्षु पायलट ज्वाइन किया और एक साल के कड़े प्रशिक्षण उपरांत 21 दिसम्बर, 2019 को बतौर एयर फोर्स पायलट पासआऊट हुई। जूवी को देशसेवा के लिए सेना में जाने की प्रेरमा अपने दादा व पिता से प्रेरणा मिली है। इंडियन आर्मी में अफसर बनकर जूवी कटोच प्रदेश के ग्रामीण अंचल की युवतियों के लिए एक रोल मॉडल हैं।

उच्च शिक्षित हैं जूवी कटोच

जूवी कटोच की जमा दो तक की शिक्षा डीएवी स्कूल आलमपुर से हुई और उसके बाद पालमपुर स्थित कृषि विश्वविद्यालय से बीएससी की। गवर्नमैंट कॉलेज धर्मशाला से बीएड व हिमाचल प्रदेश सैंट्रल यूनिवर्सिटी से फिजिक्स में एमएससी करने के बाद जूवी ने सैन्य परीक्षा उत्तीर्ण कर बड़ी सफलता हासिल की। जूवी की माता रंजना कटोच गृहिणी हैं व पिता राजेश कटोच भारतीय सेना से सेवानिवृत्त हैं,जबकि मामा राज ठाकुर भी पूर्व सैनिक हैं।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *