छट्टी कक्षा में पढ़ते हुए सांस्कृतिक कार्यक्रम में मिला था प्रथम पुरस्कार, अब लोकगायक के तौर धूम मचा रहे इशांत भारद्वाज, अपना म्यूजिकल बैंड और म्यूजिक एकेडेमी, यूट्यूब चैनल पर हिट

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

पालमपुर से ललिता कपूर की रिपोर्ट
इसे लोकसंगीत का जादू ही कहें कि इशांत भारद्वाज बचपन से ही लोकगीत गुनगुनाने लगा था और छट्टी कक्षा में थे तो स्कूल के सांस्कृतिक आयोजन में प्रथम पुरस्कार जीतकर अपनी गायन प्रतिभा से सबको परिचित करवा दिया था. डेढ़ दशक की संगीत साधना से आज इशांत भारद्वाज हिमाचल प्रदेश के उभरते हुए लोकगायक हैं. उनका न केवल अपना म्यूजिक बैंड है, बल्कि एक म्यूजिक एकेडेमी का भी संचालन कर रहे हैं. उनके गाये कई गीत हिट रहे हैं और उनके यूटयूब चैनल पर उनके चाहने वाले मिलियंस में पहुँच चुके हैं. जागरण, माता की चौकी, नुआला, साईं की चौकी, गद्दियाली लोकगायन संध्या, स्टेज शो और लाइव परफोर्मेंस में इशांत माहिर कलाकार हैं.
कई हिट गीतों के गायक इशांत
कांगड़ा जिला के शाहपुर विधानसभा क्षेत्र के दरिणी इलाके के रिड़कुमार डाकघर के तहत आते डिब्बा गांव के रोशन लाल और लज्या देवी के घर पैदा हुए इशांत को लोकगायन की विरासत परिवार से मिली और बचपन से ही लोकसंगीत का आनंद लेने लगा. जमा दो की पढाई पूरी करने तक वह लोकगायक के तौर पर पहचाना जाने लगा था. संझड़ी होई, उठी जा वे कान्हा, बनिया आया, स्वर्ण लोक गाथा भाग 1 और भाग 2 और निक्की देई गुजरी जैसे गीतों ने इशांत की मखमली आवाज को लोकगायिकी के शौक़ीन लोगों के घर- घर पहुंचा दिया. उनके युट्यूब चैनल को दो महीनों के अन्दर 3 मिलियन जे ज्यादा व्यूज मिलने का रिकॉर्ड बन गया.
डेढ़ दशक के संगीत साधना, 7 साल म्यूजिक टीचर रहे
इशांत भारद्वाज पिछले 16 साल से संगीत साधना कर रहे हैं. सात साल उन्होंने म्यूजिक टीचर के तौर पर सेवाएं दी हैं. उसके बाद पूरी तरह से संगीत के लिए समर्पित हो गए. आज उनका इशांत भरद्वाज म्यूजिकल ग्रुप है और दो साल से शाहपुर में म्यूजिक एकेडमी का संचालन कर रहे हैं. उन्होंने संगीत के कई बड़े कार्यक्रमों में प्रस्तुति देने के साथ जज की भूमिका भी अदा की है. इशांत के यूट्यूब चैनल पर उनके गाये गीतों का आनंद ले सकते हैं. इशांत इन दिनों अपने अगले प्रोजेक्ट की तैयारियों में जुटे हैं.

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *