लोकगीतों पर पीएचडी करने वाले शाहपुर के डॉ. सतीश ठाकुर ने 15 पहाड़ी फिल्मों में गाए गीत

लोकगीतों पर पीएचडी करने वाले शाहपुर के डॉ. सतीश ठाकुर ने 15 पहाड़ी फिल्मों में गाए…

‘पहाड़ी मृणाल’: बंदा कमाल, लिक्खिेया बेमिसाल, चंद्रमणि वशिष्ठ होरां सन 1958 च कित्ती सिरमौर कला संगम दी स्थापना, लोक साहित्य ताईं योगदान

‘पहाड़ी मृणाल’: बंदा कमाल, लिक्खिेया बेमिसाल, चंद्रमणि वशिष्ठ होरां सन 1958 च कित्ती सिरमौर कला संगम…

पुस्तक समीक्षा : मानवीय संवेदनाओं से सार्थक साक्षात्कार, समाज की चिंताओं को उद्घाटित करती हैं मनोज चौहान की ‘पत्थर तोड़ती औरत’

पुस्तक समीक्षा : मानवीय संवेदनाओं से सार्थक साक्षात्कार, समाज की चिंताओं को उद्घाटित करती हैं मनोज…

  जुड़वा बहनों का कमाल, चीन तक नाच से धमाल, सोलन की रिया और श्रिया ने छोटी उम्र में डांस और एक्टिंग में छोड़ी छाप

जुड़वा बहनों का कमाल, चीन तक नाच से धमाल, सोलन की रिया और श्रिया ने छोटी…

पुस्तक समीक्षा : विसंगतियों के बावजूद जीवन जीने की ललक से ‘गुलमर्ग गुलज़ार होगा’

पुस्तक समीक्षा : विसंगतियों के बावजूद जीवन जीने की ललक से ‘गुलमर्ग गुलज़ार होगा’   समीक्षक,…

पहाड़ी तांईं करी गे विशेष, पपरोले वाळे मास्टर ‘शेष’, शेष अवस्थी होरां कित्ती बैजनाथ कला संगम दी स्थापना, पहाड़ी-हिंदी शब्दकोश च योगदान

पहाड़ी तांईं करी गे विशेष, पपरोले वाळे मास्टर ‘शेष’, शेष अवस्थी होरां कित्ती बैजनाथ कला संगम दी…

  हिमभारती’ दी रूपरेखा बणाई, पहाड़िया दी अलख जगाई, हिमाचल प्रदेश भासा, कला एवं संस्कृति अकादमी दे पहले सचिव हरि चंद पराशर दा ‘पहाड़ी शब्दकोश’ च बड्डा योगदान

  हिमभारती’ दी रूपरेखा बणाई, पहाड़िया दी अलख जगाई, हिमाचल प्रदेश भासा, कला एवं संस्कृति अकादमी दे…

म्हाचले दा मिर्जा गालिब, कुल्लू दा ‘चांद कुल्लवी’,  हिमाचल प्रदेश भाषा, कला कने संस्कृति अकादमी दे पहले अध्यक्ष थे लालचंद प्रार्थी

म्हाचले दा मिर्जा गालिब, कुल्लू दा ‘चांद कुल्लवी’,  हिमाचल प्रदेश भाषा, कला कने संस्कृति अकादमी दे पहले…

‘लगा ढोलो रा ढमाका म्हारा हिमाचल बड़ा बांका’, ‘पहाड़ के वैद’ दे नाएं ते मशहूर वैद्य सूरत सिंह ने म्हाचले च चलाया ‘पझौता आंदोलन’

‘लगा ढोलो रा ढमाका म्हारा हिमाचल बड़ा बांका’, ‘पहाड़ के वैद’ दे नाएं ते मशहूर वैद्य…

सांकृत्यायन दे साथी, सेराथाना दे ‘शम्मी’, ‘कांगड़ा लोक साहित्य’ लिखणे ताईं मिलेया श्रेष्ठ साहित्यकार सम्मान

सांकृत्यायन दे साथी, सेराथाना दे ‘शम्मी’, ‘कांगड़ा लोक साहित्य’ लिखणे ताईं मिलेया श्रेष्ठ साहित्यकार सम्मान कांगड़े…