दिल्ली विश्वविद्यालय से अध्ययन और गुरु नानक विश्वविद्यालय से भूकंप पर रिसर्च करने वाले कांगड़ा के पुनीत गुलेरिया हैं हिमाचल के स्टेट जियोलॉजिस्ट

Spread the love

दिल्ली विश्वविद्यालय से अध्ययन और गुरु नानक विश्वविद्यालय से भूकंप पर रिसर्च करने वाले कांगड़ा के पुनीत गुलेरिया हैं हिमाचल के स्टेट जियोलॉजिस्ट
शिमला से फोकस हिमाचल ब्यूरो रिपोर्ट
दिल्ली विश्वविद्यालय के हंसराज कॉलेज से भूगर्भ शास्त्र में स्नातकोतर और गुरु नानक देव विश्व विद्यालय अमृतसर से भूकंप पर शोध करने वाले पुनीत गुलेरिया हिमाचल प्रदेश के स्टेट जियोलॉजिस्ट के पद पर तैनात हैं. कांगड़ा जिला के देहरा विधनसभा क्षेत्र के त्रिपल गांव के पुनीत गुलेरिया ने साल 2003 में खनन अधिकारी मंडी के तौर पर अपने करियर की शुरुआत की और 1 अप्रैल 2018 को स्टेट जियोलॉजिस्ट के पद पर पदोन्नत हुए. पुनीत गुलेरिया की गिनती उन अफसरों में होती है जो अपने काम के प्रति हमेशा समर्पित रहते हैं.
खनिजों की रिसर्च और रेगुलेशन की जिम्मेवारी
हिमाचल प्रदेश में खनिजों को लेकर रिसर्च और खनन रेगुलेशन जैसी अहम जिम्मेदारी उनके विभाग की है. इसके अलावा यह विभाग लोक निर्माण विभाग सहित अन्य कई विभागों को कंसलटेंसी सर्विस भी देता है. पुनीत गुलेरिया के स्टेट जियोलॉजिस्ट बनने के बाद मंडी के करसोग और सिरमौर के नौराधार में सीमेंट उद्योग स्थापित करने की प्रक्रिया शुरू हुई है, जो विभिन्न चरणों में है.
दोस्तों के दोस्त हैं पुनीत
17 जुलाई 1974 को जन्मे पुनीत अपनी कद- काठी को लेकर भी अपनी खास पहचान रखते हैं. 6 फुट 3 इंच कद और 105 किलो वजन वाले पुनीत के व्यक्तित्व की सबसे बड़ी खूबी उनकी सदाबहार मुस्कान है और वे ठेठ कांगड़ी बोली बोलने में माहिर हैं. लो प्रोफाइल पुनीत को जानने वाले बताते हैं कि वे दोस्तों के बीच बेहद पापुलर हैं.

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *