कभी था लंबागांव के राजा का निवास, अब दुनिया के बेस्ट पचास होटलों में शुमार, टेटलर्स ट्रैवलर्स की रेटिंग में धर्मशाला के हेरिटेज क्लाउड़स एंड विला के नाम बड़ा खिताब

Spread the love

कभी था लंबागांव के राजा का निवास, अब दुनिया के बेस्ट पचास होटलों में शुमार, टेटलर्स ट्रैवलर्स की रेटिंग में धर्मशाला के हेरिटेज क्लाउड़स एंड विला के नाम बड़ा खिताब
धर्मशाला विनोद भावुक की रिपोर्ट
कांगड़ा जिला मख्यालय धर्मशाला में कोतवाली बाजार और तिब्बतियन मार्केट के बीच नौ एकड़ के दायरे में स्थित क्लाउड़स एंड विला कभी लंबागांव- कांगड़ा के राजा का निवास स्थान हुआ करता था। धर्मशाला में अंग्रेजों के शासन के दौरान यहां राजा ने समरहाउस बनाया गया।
दुनिया के पचास बेस्ट होटलों में शामिल
वर्तमान में यह धरोहर इमारत हेरिटेज होटल के तौर पर सारी दुनिया में अपनी खास बनाने में कायम रही है। टेटलर्स टैवलर्स ने अपनी च्लोबल स्टड़ी में इस होटल को दुनिया के पचास बेस्ट होटलों में शामिल किया है। अप्पर धर्मशाला में स्थित इस धरोहर इमारत में राजसी ठाठ बाठ की तमाम सुविधाएं उपलब्ध हैं।
अप्सरा हॉल में ठहरकर राजकुमार होने का फील
कुदरत की गोद में बने इस भवन की वास्तुकला अपने निर्माण की कहानी खुद ब्यान करती है। हेरिटेज क्लाउड़स एंड विला के अप्सरा हॉल में ठहरकर कोई भी राजकुमार होने का फील ले सकता है।
324 वर्ग किलोमीटर तक फैली थी रियासत
वर्तमान में आदित्य देव सिंह लंबागांव- कांगड़ा सियासत के वारिस हैं। वह इस रियासत के 488 वें राजा हैं। 1947 में जब भारत आजाद हुआ, उस समय इस रियासत के पास 439 गांवों की सरदारी थी और रियासत 324 वर्ग किलोमीटर तक फैली हुई थी।
वर्ष1988 तक आदित्य देव सिंह के नाम लंबागांव, राजगीर और महल मोरियां की जागीरें थीं। दून स्कूल के पढ़े आदित्य देव की शादी जोधपुर राजघराने की चंद्रेश कुमारी से हुई है। चंदे्रश कुमारी हिमाचल प्रदेश सरकार और केंद्र सरकार में मंत्री रह चुकी हैं

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *