होलोग्राम को स्कैन करते ही पता चल जाएगा कि शराब असली है या नक़ली, मोबाइल ऐप लॉन्च करने करने की तैयारी, उपभोक्ता कर सकेंगे शराब की गुणवत्ता की जांच

Spread the love

होलोग्राम को स्कैन करते ही पता चल जाएगा कि शराब असली है या नक़ली, मोबाइल ऐप लॉन्च करने करने की तैयारी, उपभोक्ता कर सकेंगे शराब की गुणवत्ता की जांच

 

शिमला से फोकस हिमाचल ब्यूरो रिपोर्ट

किसी उपभोगता ने हिमाचल प्रदेश में किसी भी वाइन शॉप से जो शराब की बोतल खरीदी है, वह असली है अथवा, नकली, अब उसका स्मार्ट फोन बता देगा। प्रदेश का राज्यकर एवं आबकारी एवं विभाग जल्द ही एक मोबाइल ऐप लॉन्च करने जा रहा है, जिससे शराब की गुणवता की जांच संभव होगी। उपभोगता को सिर्फ मोबाइल ऐप डाउनलोड करना होगा और प्रदेश में बेची जा रही शराब की प्रामाणिकता को सत्यापित करने के लिए बोतल पर चिपकाए गए होलोग्राम पर उपलब्ध बारकोड को स्कैन करना होगा। होलोग्राम को स्कैन करते ही पता चल जाएगा कि शराब असली है या नक़ली। राज्यकर एवं आबकारी एवं विभाग के आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि इस प्रोजेक्ट को जल्द लागू किया जा रहा है।

एंड-टू-एंड ट्रैक एंड ट्रेस सिस्टम डवलप  

हिमाचल प्रदेश में अवैध शराब के धंधे और इससे उत्पन्न हो रही गंभीर समस्या को रोकने के लिए शराब की आपूर्ति श्रृंखला के एंड-टू-एंड ट्रैक और ट्रेस के लिए आबकारी व कराधान विभाग की ई-गवर्नेंस परियोजना आख़िरी चरण में है। ट्रैक एंड ट्रेस सिस्टम के सॉफ्टवेयर को डवलप करने के लिए पिछले एक साल में अधिकतर काम पूरा किया जा चुका है और अब लांच करने की तैयारी है। विभागीय सूत्रों का कहना है कि हाल ही में नकली शराब प्रकरण के प्रकाश में आने के बाद तेज़ी से एंड-टू-एंड ट्रैक और ट्रेस सिस्टम को लांच करने की तैयारी है।

ऑनलाइन होंगे सारे रिकार्ड्स

ट्रैक एंड ट्रेस समाधान की शुरुआत से न केवल राज्यकर और आबकारी विभाग को फायदा होगा, बल्कि अंतिम उपभोक्ता भी लाभान्वित होंगे। इस सिस्टम के लांच होने के बाद शराब आपूर्ति श्रृंखला के सभी रिकॉर्ड ऑनलाइन रखे जाएंगे और इसे कहीं से भी वास्तविक समय के आधार पर प्राप्त किया जा सकता है। इस प्रणाली की सबसे बड़ी विशेषता ये होगी कि असली व नक़ली शराब की पहचान करना उपभोक्ता के हाथ में रहेगा। शराब के परिवहन के संबंध में डेटा चलते-फिरते आसानी से ऑनलाइन उपलब्ध होगा और बारकोड की स्कैनिंग के माध्यम से विभाग का एनफोर्समेंट विंग शराब की प्रामाणिकता को आसानी से पहचान सकेगा। इस प्रकार अवैध शराब के धंधे पर लगाम लगायी जाएगी।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.