हालात से थपेड़ों से टकराई, जिद्दी धुन ने करोड़ों दिलों में जगह बनाई, परिवार की जिम्मेदारियां निभाते हुए गायिकी में मुकाम हासिल करने वाली सोलन की इंदुबाला की प्रेरककथा

Spread the love

हालात से थपेड़ों से टकराई, जिद्दी धुन ने करोड़ों दिलों में जगह बनाई, परिवार की जिम्मेदारियां निभाते हुए गायिकी में मुकाम हासिल करने वाली सोलन की इंदुबाला की प्रेरककथा
सोलन से पौमिला ठाकुर की रिपोर्ट
हालात ने उस जिद्दी धुन की राह रोकने की हर साजिश बुनी, लेकिन अपनी मखमली आवाज के दम पर उसे करोड़ों दिलों में घर बना लेने से नहीं रोक पाए। सोलन के छोटे से कलीन गांव के एक आम से घर की सबसे बड़ी बेटी इंदुबाला आज गायिकी की दुनिया का बड़ा सितारा है। करोड़ों लोग उनके गीतों के दिवाने हैं, लेकिन उसकी यहां तक पहुंचने की संघर्षगाथा से कम ही लोग परिचित हैं।
इंदुबाला जब कॉलेज में पढ़ रही थी तो पिता का साया सिर से उठ गया। दो छोटे भाईयों, जिनमें एक विकलांग है, की जिम्मेदारी उसके कंधों पर आ गई। एक तरफ जहां घर को संभालना था, दूसरी तरफ अपनी पढ़ाई पूुरी करनी और फिर अपने बचपन के सपने को भी उड़ान देनी थी। इंदुबाला ने सबसे पहले अपने घर को संभाला, घर की आर्थिकी की नींव को मजबूत करने के लिए घर कर सबसे बड़ी बेटी का सबसे बड़ा रोल रहा है। फिर अपनी पढ़ाई पूरी की ओर जुनून से अपने सपनों में रंग भरने की जिद को भी पूरा कर दिखाया। अब वह बॉलीवुड में प्लेबैक सिंगर बनने की राह पर है।
सोशल मीडिया ने बनाया सिंगिंग स्टार
पिछले साल इंदु की गायिकी तब चर्चा में आई, जब बेटी बचाओ थीम पर एक अजन्मी बेटी की गर्भ में पुकार जी लेने दे, जी लेने दे ओ मेरी मां मुझे जी लेने दे…सोशल मीडिया पर जबरदस्त वायरल हुआ। कुछ ही दिनों में यूट्यूब पर इस गीत को 75 लाख लोगों ने देखा और सुना। इस गीत की दिवानगी का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि देश के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल में भी अपने फेसबुक पेज पर इस गीत को शेयर किया। सोशल मीडिया ने इंदु को बड़ा सिंसिंग स्टार बना दिया, लेकिन यह अचानक नहीं हुआ। यहां तक पहुंचने के लिए उसका सालों का संघर्ष और रियाज शामिल था।
गायकी में ब्रेक नहीं मिला तो बनी ब्यूटीशियन
कॉलेज की पढ़ाई पूरी करने के बाद इंदु ने प्राचीन कला केंद्र सोलन में स्व. नारायण दत्त शर्मा से छह माह तक संगीत की बारीकियां सीखीं, पर उन्हें गायकी के लिए कहीं से कोई ब्रेक नहीं मिला। ऐसे में अजीविका चलाने के लिए उन्होंने ब्यूटीशियन का कोर्स किया और ब्यूटी पार्लर में जॉब की। जॉब के साथ- साथ घर पर भी लड़कियों को ब्यूटीशियन का काम सिखाना शुरू कर दिया। इस बीच वह अपनी गायिकी के समय निकाल ही लेती और नियमित रियाज करती रहीं।
पेंटिंग और एक्टिंग में भी कमाल
इंदुबाला ने कुछ पैसे जोड़े और वर्ष 2014 में अपना पहला म्यूजिक वीडियो ‘मेरे पास आ निकाला। उसके बाद ‘ओ पिया’ म्यूजिक वीडियो बनाया, जिसे खूब चर्चा मिली। इंदु ने ‘बिग्निंग फॉर ब्रेथ’ फिल्म में ‘जी लेने दे, जी लेने दे ओ मेरी मां मुझे जी लेने दे…’गीत गाया। इसी गीत को नए वीडियो के साथ रिलीज किया, जिसे सोशल मीडिया ने हाथों हाथ लिया। फिर लाइव परफॉरमेंस के अवसर मिलने लगे। वे मंडी शिवरात्रि, मिंजर मेला चंबा, लवी मेला रामपुर, अंतरराष्ट्रीय दशहरा कुल्लू के के अलावा नागपुर, जम्मू और पंजाब में लाइव परफॉर्म कर चुकी हैं। उन्हें कुकिंग, पेंटिंग और एक्टिंग का भी शौक है। उन्होंने ‘बेवफा’ और ‘भक्ति में शक्ति’ म्यूजिक वीडियो में अभिनय किया है और उनके पास पेंटिंग का बढिय़ा कलेक्शन हैं।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *