स्टार्टअप : पर्यटन की पढ़ाई, धारकंड़ी से कमाई, सोशल मीडिया के जरिये सैलानियों को मोहित करने वाले तरसेम जरयाल की प्रेरक कथा

Spread the love

स्टार्टअप : पर्यटन की पढ़ाई, धारकंड़ी से कमाई, सोशल मीडिया के जरिये सैलानियों को मोहित करने वाले तरसेम जरयाल की प्रेरक कथा
धर्मशाला से संजीव कौशल की रिपोर्ट
पर्यटन की असीम संभावनाएं होने के बावजूद राजनीतिक इच्छाशक्ति के अभाव के चलते पिछड़ा रहा शाहपुर का धारकंडी क्षेत्र एक स्थानीय युवा के प्रयासों से पर्यटकों की पसंद बनने लगा है। हॉस्पिटैलिटी में स्नातक व एमएससी करके बाद स्थानीय युवक तरसेम जरियाल ने इस क्षेत्र को पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने का स्टार्टअप शुरू किया। तरसेम जरियाल ने दिल्ली में तीन साल तक पर्यटन और मेहमाननवाली के क्षेत्र में कार्य किया है। इस दौरान उन्होंने देखा कि स्थानीय व विदेशी पर्यटकों को शांति, हरयाली युक्त व पहाड़ी क्षेत्र सबसे पसंदीदा जगह है और उनके गांव में वे सब कुछ है। उन्होंने अपनी नौकरी को अलविदा कर दिया और गांव लौट आए। स्थानीय युवाओं को जाड़ कर टीम बनाई तथा उन्हें खुद ही प्रशिक्षण भी दिया।
सोशल मीडिया से बुलाए पर्यटक
तरसेम जरयाल ने धारकंडी के धार्मिक, ट्रैकिंग, कैंपिंग व अन्य सुंदर जगह को दुनिया के सामने लाने के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल किया। एक टीम बनाई है जो उपरोक्त साइटों की फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी कर यूट्यूब व फेसबुक पर अपलोड कर रही है। टीम गौरत्न ट्रेक, ख़बरू वॉटर फॉल, लग वैली ट्रेकिंग व कैंपिंग साईट को कैमरे में कैद कर सोशल मीडिया के माध्यम से देश व दुनिया तक पहुंचा चुकी है। सोशल मीडिया पर धारकंडी की खूबसूरत साइटों को देश- भर में पसंद भी किया जा रहा है। दिल्ली,चंडीगढ़, लुधियाना व अन्य राज्यों से पर्यटक ग्रुप संपर्क सांध रहे हैं।
बजटर्स यू ट्यूब चैनल की टीम पहुंची
शाहपुर का वोह गांव व ख़बरू झरना अब जल्द ही दुनिया के कई देशों में अपनी सुंदरता की छटा बिखेरेगा। खूबसूरत व अनटच क्षेत्रों को दुनिया से रु-ब-रु करबाने में जुटी दी बजटर्स यू ट्यूब चैनल की तीन सदस्यीय विदेशी टीम ने वोह पहुंच कर यहां की खूबसूरती को अपने कैमरे में बंद करके ले गई है। यह टीम वल्र्ड यात्रा पर निकली है तथा इसका मकसद दुनियां को ऐसे क्षेत्रों से रु-ब-रु करवाना है जो कम बजट में घूमे जा सकते हो। यह टीम अभी तक सात देशों की यात्रा कर वहां के खूबसूरत पर्यटन क्षेत्रों को अपने यूट्यूब चैनल के माध्यम से दुनिया के सामने रख चुकी है14 फरवरी से भारत यात्रा पर है इस टीम में क्लोविया की लीना,बेल्जियम के थाइज़ व यूके लंदन के पैड़ी शामिल है। यह टीम दिल्ली,आगरा व जयपुर के बाद धारकंडी पहुंची।
यू ट्यूब चैनल लेज़ी बन्दे की दस्तक
तीनों विदेशियों के साथ यू ट्यूब चैनल लेज़ी बन्दे की 15 सदस्यीय टीम भी वोह पहुंची। टीम ने मेहमानों का हिंदू रीति रिवाज के साथ माथे पर तिलक लगा व गले में हार पहना कर स्वागत किया। मेहमान करीब चार किलोमीटर का पैदल सफर तय कर ख़बरू झरना पहुंचे। रात को मोरछ गांव में टेंट लगा कर इनके रहने का बंदोबस्त किया गया था। रात को भोजन में इन्हें देसी लाल चावल व राजमाह परोसे गए तथा कैम्प फायर कर उन्हें स्थानीय संगीत व संस्कृति से भी रु-बरु करवाया गया।
ख़बरू वॉटर फाल
धारकंडी के वोह गांव में सबसे ऊंचा झरना है।इस झरने तक पहुंचने के लिए लगभग चार किलोमीटर का पैदल रास्ता तय करना पड़ता है।इसके रास्ते में कई प्राकृतिक जल स्त्रोत,पुराने तरीके से बने घर व खेत सहित कई जगह आती है जिन्हें निहारे बिना पर्यटक रह नही पाते है।
गौरत्न ट्रेक
यह ख़बरू झरने से थोड़ी दूर पर है।यहाँ पहुंचने के लिए करीब पौने दो घन्टे का पैदल रास्ता तय करना पड़ता है।यह सबसे बेहतर ट्रेकिंग रुट व कैपिंग साइट है।यह साइट ट्रयूण्ड को भी मात देती है।
लग वैली
यह दरिणी के ऊपरी भाग में है।यह भी सबसे बेहतर ट्रेकिंग रूट व कैंपिंग साइट है।यहाँ तक पहुंचने के लिए भी करीब 2 घन्टे पैदल ट्रेकिंग करनी पड़ती है।खड़ी चढ़ाई चढऩे के बाद ऊपर एक बड़ा मैदान है।
शिव द्रोणी ट्रेक
यह अढ़ाई घन्टे का ट्रेकिंग रूट है। इसके अलाबा भी कई ऐसे क्षेत्र है।
नोट : अगर आप भी इन खूबसूरत जगह में जाना चाहते है तो इस ग्रुप से संपर्क साध सकते है। यह ग्रुप आप के हिसाब से टेंट,गाइड व भोजन आदि की व्यवस्था मामूली खर्च पर करता है।
मोबाइल 9817766895

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *