सियासत के खेल और खेल का मैदान, भवानी ने हुनर से बनाई पहचान, दो बार नेशनल और पांच बार स्टेट खेलने वाले ने दूसरी पारी में झटके छह गोल्ड मैडल

Spread the love

सियासत के खेल और खेल का मैदान, भवानी ने हुनर से बनाई पहचान, दो बार नेशनल और पांच बार स्टेट खेलने वाले ने दूसरी पारी में झटके छह गोल्ड मैडल
नगरोटा बगवां से जसवंत जस्सो की रिपोर्ट
सुलाह विधानसभा क्षेत्र की झरेट पंचायत ऐतिहासक कन्यादेवी मंदिर के कारण दूर-दूर तक मशहूर है. भवानी प्रसाद इस पंचायत के पूर्व प्रधान हैं और वर्तमान में वे हिमाचल प्रदेश वन विभाग में अनुबंध कर्मचारी के तौर पर कुल्लू में तैनात हैं. उन्होने राज्य स्तरीय विभागीय खेलों में लगातार दो साल तीन-तीन गोल्ड मैडल जीत कर कुल छह गोल्ड मैडल जीत कर सनसनी मचा दी है. उन्होंने टेबल टेनिस के सिंगल, डबल और वेटरन कैटगरी में गोल्ड की हैट्रिक बनाई है.
जोगिंद्रनगर से चमके भवानी
28 मई 1970 को जन्मे भवानी प्रसाद के पिता बस्सी पावर प्रोजेक्ट में फीटर थे. भवानी की पहली से लेकर स्नातक की शिक्षा जोगिंद्रनगर से हुई. अपने स्कूल और कॉलेज के दिनों में उभरते हुए खिलाड़ी रहे. वे 1985-89 तक चार साल अंडर 19 फुटबाल में मंडी जिला की टीम के कैप्टन रहे. उन्होंने हॉकी और फुटबाल में 5 स्टेट और 2 नेशनल खेले. उस दौरान वे टेबल टेनिस के भी बेहतरीन खिलाड़ी रहे.
राजनीति में बिरला रिकॉर्ड
भवानी 1995-2005 तक लगातार दो बार झरेट पंचायत के प्रधान निर्वाचित हुए. उनके नाम जिला कांगड़ा में सबसे छोटी उम्र में प्रधान बनने क़ा रिकार्ड है. वर्तमान में उनकी पत्नी अंजना कुमारी पंचायत की प्रधान हैं. भेडु महादेव विकासखंड में यह अकेला कपल है जिसने बारी बारी पंचायत की सरदारी की है. उनका इकलौता बेटा बीएससी होटल मैनेजमेंट की पढ़ाई कर रहा है.

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *