साहित्यकार भूपेंद्र जम्वाल ‘ भूपी’ का पहाड़ी भाषा पर विचार : ‘पहाड़ कन्ने पहाड़ी’

Spread the love

जित्थू तिकर अपणी गल्ल कुसी जो दसणे दा सवाल है, सबनां जो भाषा या बोलिया दी ज़रूरत मसूस हुन्दी; कने असां हिमाचलियां जो जिसा भाषा दी दिले ते जरूरत लगदी सैह है– पहाड़ी । पर इक्क सवाल हल्ली भी हल नी होया जे इस प्रदेशे दी सरकारी कमकाज कने पढ़ाइया-लखाइया दी भाषा एह काहलू बणगी?
हिमाचले दे साहित्यकार , कलाप्रेमी, कने संस्कृति दे राखे केइयां बहेर्यां ते कोशिश करादे जे अपणिया भाषा जो किहियां बचाइये। अज हालत एह है कि असां अपणेयां बच्चेयां जो भी पहाड़ी नी सखालदे।
मते सारे लफ्ज़ गवाची ही गे। जे इहियां ही रेह्या तां क्या एह भाषा हौले-हौले मुकी जांगी ? प्रदेश दे बुद्धिजीवी जेहडिय़ां कोशिशां करादे सैह बेकार चली जांगियां ? हल्ली जे, अज्ज भी मते सारे माहणू ऐसे हैन जेह्ड़े अपणिया बोलिया ताईं डुग्गी पीड़ बुझदे।
मुस्कल एह भी आई जांदी जे पहाड़ी कुसा बोलिया जो मन्निए? कांगड़ी ? चम्बियाली? कुलवी ? मण्डियाली ? कहलूरी ? बघाटी ? महासुवी ? सिरमौरी ?? आखर कुसजो मानक लेई के चल्लिए ? इक शुद्ध विन्यास कने व्याकरण दी ज़रूरत सांजो पौणी है। इस वास्ते इक ऐसी बोली चुंणना पौणी जिसा जो सबते जादा ग्लाया, समझेया जांदा होएं।
हुण , कांगड़ी इक ऐसी बोली है जिसा जो पूरे हिमाचल प्रदेश बिच सारेयां ते ज़ादा यानि कि लगभग चाळी फ़ीसदी ते भी ज़्यादा हिमाचली ग्लांदे, जाणदे कने समझदे हैन। जोगिन्द्रनगर सीमा ते लेई के पठानकोट सीमा, कने चुवाड़ी ते घुमारवीं सीमा तिकर बड़े बड्डे क्षेत्र च विच इसा दा फलाव है।
अगर इसा बोलिया जो शुद्ध मानक मन्नी करी होरणी सारियां बोलियां दे लफ्ज़ इस च खुल्ले तौर पर शामल करी दित्ते जाह्न तां एह मुस्कल भी दूर होई जाणी। इसा गल्ला पर प्रदेश दे लग्ग लग्ग हिस्सेयां च रेहणे वाले बुद्धिजीवियां भी हामी भरियो है।
इस बिच माड़ी मोटी दिक्क़त किन्नौर कने लाहौल-स्पीति बालेयां जो रेही सकदी। बाकी पूरे प्रदेश बिच असां अरामे कन्नै इक्की दूइया बोलिया देयां लफ्ज़़ां जो समझी ही लैंदे हैन।
भाषा कने शब्द-भण्डार दे मामले विच कुछ कुर्बानियां भी देणा पेई सकदियां। जाहलू असां कोई मि_ेयां फलां वाला रुक्ख लगांदे तां निकेयां निकेयां बूटेयां कने घाए प_े जो अपणा वजूद गवाणा ही पौंदा है।
जाहलू गल्ल पहाड़ी भाषा दी औंदी तां इक्क पेच होर फसदा और सैह पेच है लिपिया दा। असां सारे ही जाणदे हैन जे पहाड़ी रियासतां दी लिपि टाकरी रेहियो। पुराणे ग्रन्थ, हसाब- कताब सब इसा ही लिपिया बिच मिलदे। पर अज्ज टाकरी जाणने वाले गिणुएं ही हैन बचेयो।
कुछना संस्कृति देयां सच्चेयां सपाहियां हिम्मत नी छड्डी कने टाकरी जो दोबारा सारेयां साह्मणे ल्योंदा। एह सच्ची मुच्ची इक बड्डी क़ामयाबी है। कैंह जे कुसी वक्त पर प्शावर ते लेई के नेपाल देयां पहाड़ां तिकर एही लिपि इस्तेमाल हुन्दी थी।
अज्ज कोई भी पहाड़ी प्रदेश इसा लिपिया दा प्रयोग नी करादा। बक्खे दे ही प्रदेश जम्मू कश्मीर जो लेई लेया। इत्थू दी डोगरी बोली अज्ज भाषा दा दर्जा लेई बैठियो पर इसाजो देवनागरी बिच ही लिखेया जांदा है। असां दे साहित्यकार भी अज्जे तिकर देवनागरी दे ही सहारें चलदे आए हैन। ऐसे वक्त बिच जे असां ग्लाण जे हुण असां पहाड़ी टाकरी च ही लिखणी तां मैं समझदा एह कोई फायदे वाळी गल्ल नी हुणी। असां पहाड़ी दी तरक्क़ी बिच पहलें ही बड़े रोड़े बछायो हैन। इसा जो होर ज़ादा करड़ा नी बणाणा।
पुराणा साहित्य भी पढऩा, टाकरी भी सिखणी; अपणी संस्कृति भी बचाणी पर नोएं साहित्य बास्ते एहड़े बह्नण नी पाणे जे लिखणा ही मुस्कल होई जाएं। इस वक्त इक्क सर्वसांझे हल दी ही ज़रूरत है।
अज्ज जिसा तौळा कन्नै पहाड़ी दा शब्द भण्डार घटा करदा है, एह ही हाल रेह्या तां इक दिन एह भाषा भी सिर्फ इतिहास ही बणी के रेही जाणी। फिरी काहल्की लोक्कां कताबां च ही पढऩा कि पहाड़ी भी कोई भाषा थी।
जितने मठैह्ने खुणगे उतनी पोल ही पौणी, मिलणा कख नी। इस वक्त सांजो ज़रूरत है इकजुट होई के कम्म करने दी, कि_ेयां होई के सोचणे कने अग्गे बधणे दी, तां जे असां पहाड़ी भाषा जो सैह जगह दुआई सकिए जिसा दी एह हक़दार है। जे असां तुसां सारे हिमाचल वासी मिली के कोशिश करगे तां सैह ध्याड़ा दूर नी है, जाहलू पहाड़ी सरकारी कम्मेकाजे कने पढ़ाइया दे इक्की विषय दे रूप च नजरी औणी।कई महान विभूतियों की यादगारों की गवाह है चंबा की यह ऐतिहासिक जगह, डलहौजी की मिट्टी, देशभक्तों के निशान
लैखक : भूपेंद्र जम्वाल ‘ भूपी, पहाड़ी साहित्यकार, नगरोटा बगवां, कांगड़ा, हि. प्र.

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.