सांकृत्यायन दे साथी, सेराथाना दे ‘शम्मी’, ‘कांगड़ा लोक साहित्य’ लिखणे ताईं मिलेया श्रेष्ठ साहित्यकार सम्मान

Spread the love

सांकृत्यायन दे साथी, सेराथाना दे ‘शम्मी’, ‘कांगड़ा लोक साहित्य’ लिखणे ताईं मिलेया श्रेष्ठ साहित्यकार सम्मान

कांगड़े ते वीरेंद्र शर्मा ‘वीर’ दी रिपोर्ट

साड़ा म्हाचल परदेस पहाड़ी परदेस ऐ। शिवालिक पहाडिय़ां मतलब भगुआन शिव दियां जटां, काळी धार, मध्य हिमालय च चांदियां दी चादर ओह्डियो जास्कर, कनै छैळ-छबीली नारां साईं धौळाधार कनै उपरला हिमालय हिंदुकुश कनै कैलास पर्वत। जिह्यां हिमालय पर्वत पराणेयां समेयां ते लेई केदेसे दा भाग्य-विधाता, कनै संतरी बणी केसारे देसे दी दुसमणा ते रख्या करदा औआ करदा तिह्यां ई धौलाधार बि अनुकूल वातावरण, लग्ग ई तरह दे संस्कार कनै संस्कृति दे बकास दा मूळ ऐ। इसा धौळाधारां दिया गोदां च जलंधर पीठ, भगुआन भोळेनाथ दे तिन्न कैलास, बाबा बालकनाथ, नगरकोट माता बज्रेश्वरी, भलेई माता, शक्तिपीठ ज्वालामुखी, चिंतपूर्णी, हडिंबा माता, बालासुंदरी, नैणादेवी कनै चंड-मुंड दा संहार करने आळी माता आदि हिमानी चामुंडा बगैरा अणमुक देवते। जितणे तिसते ज्यादा तिन्हां जो मनणे आळे भोले-भकड़े लोक। संस्कार कनै संस्कृति दि पछ्याण धौलाधारां दियां गोदा च बसेयों लोकां दी कुळज, इन्हां सारेया देवी-देवतेयां च आदि हिमानी माता चामुंडा दि नगरी च परोहत कनै उस टैमे दे म्हाचल, पंजाब, जम्मू तिक्कर मन्नेयों-तन्नेयों अंकज्योतिष पंडित बद्रीदत्त अवस्थी कनै माता तुलसी देवी दियां कुखा ते 16 जून 1929 दे सुभ त्याहड़ैं बालक शम्मी शर्मा जन्म हुया।

 

पंजाब विश्वविद्यालय ते पीएचडी

चामुंडा कन्नै-कन्नै सेराथाणा बि परुआरे दी जगह जमीनां थियां। बालक शम्मी बचपणे ते ई शांत सुभाबे दा कनै पढ़ाइया च तेज था। पिता पंडिताई करदे हे कनै मन्नेयो जोतसी थे तां सैह गुण अपणे आप ई शम्मी च आई गे। कताबां म्हाचली संस्कृति, म्हाचली भाखा, कुदरत दी देण पेड़-पौधे, रीति-रुआज नै बड़ा प्यार था। इन्हां चीजां पर बजुर्गां ते सुणदे रैंदे, कनै इस पासैं लोकां दे घटदे रुझान दे बारे सोचदे रैहंदे। म्हाचले च पढ़ाइया ते बाद मास्टर लगी गे, कनै पढ़ाई बि करदे रेह। बीए धर्मशाला ते, एमए जालंधर ते करी के पंजाब विश्वविद्यालय चंडीगढ़ ते सूर और तुलसी की जीवन दृष्टि का तुलनात्मक अध्ययन पर पीएचडी कित्ती।

हर गल्ल कापियां च  लिखणे दा सौक


मने च औंदी हर गल्ल लीखणु-कापियां च लिखणे दा सौक पढ़ाइया कन्नै-कन्नै ई हा पेई गेया। वेदां च ऋग्वेद कनै शुक्ल यजुर्वेद दियां सोळा ऋचां, पुरुष सूक्त पढ़ी केसमझेया पई भगुआन ते पैहलैं वेद इ सबते उप्पर है। यज्ञ, नवग्रह पूजन-अर्चन, देव आराधना, कर्मकांड दे सोळा उपचार कनै देव अभिषेक बारे विस्तार नै पढ़ेया कनै लिखेया। धौलाधारा दियां जोतां, गुफा, कल-कल करदी खड्डां-नदियां, नाळां-गोहरां, खेत्रां पहाड़ां, माहणुए दे सुख-दुख, रीति-रुआजां, मंत्र-तंत्रां दे हर रूपे जो अपणे मने दिया चेतना जो डुग्घे तिक्कर जगाई लेख, निबंध, कवतां, कहाणियां मंत्रोचार अनुवाद सोळा संस्कारां, लिखी-लिखी साहित्य दी चिणग बाळदे रेह।

कांगड़ी लोक साहित्य पर कम्म


सन् 1956-1959 तिक्कर महापंडित राहुल सांकृत्यायन जाहलु म्हाचल च नागरी प्रचारिणी सभा दा स्नेहा लेई के अपणी त्याहसक जात्रा पर आए तां किन्नौर, शिमला, मंडी, कुल्लू, चंबा, कांगड़ा सबती गए। कांगड़ा आई के जिस गुणी सज्जण नै तिन्हां दा टाकरा होया सैह डॉ. शम्मी शर्मा इ थे। राहुल सांकृत्यायन कन्नै मिली के मतियां जगहां घुम्मे, डुग्घाइया च जाई ‘कांगड़ी लोक साहित्य’ पर कम्म कित्ता। जेहड़ा कि ‘हिंदी साहित्य का वृहद इतिहास’ देयां कुल सतारहं खंडां चा सोळमें खंड जेहड़ा कि करीब इक्क हजार बरकेयां दा ग्रंथ ऐ तिदे च बकायदा डॉ. शम्मी शर्मा होरां दे नाएं कनै योगदान दे जिकर कन्नै बनारस ते परकासत होया। एमएस रंधावा (आईएएस) नै पंजाब केपर्वतीय प्रदेश पर कम्म कित्ता। चार धाम जातरा कित्ती।

पोथीघर प्रकाशन ते छापणे दा कम्म


डॉ. शम्मी शर्मा भाषा कनै भाव साधक थे। पहाड़ी, हिंदी, अंग्रेजी, उर्दू, टांकरी कनै संस्कृत भाखां च छंद (हिंदी-पहाड़ी) कवतां, श्लोक, लेख-निबंध, संस्कार, अनुवाद आदि लिखे। जेहड़ा लिखदे तिदही छपाई खातर बड़ी मुसकल औंदी ही, दूर जाई केटैम लाणा पौंदा कम्म
फिरी तसल्लिया दा होए न होए क्या पता। तिन्हां मसूस कित्ता पई तिन्हां सौगी होर मते लखारियां जो एह इ मुस्कल औंदी। इस करी सेराथाना आळैं घरैं ई ‘पोथीघर प्रकाशन’ दे नाए ते कताबां-पोथु छापणे दा कम्म शुरू करी ता। अपणे टैमे दा हर छोटा-बड्डा लखारी तिन्हां दा बड़ा मान करदा था। हर कुसी जो दिले नैं सखांदे मदद करदे। अकाशवाणी बगैरा ते शोध, लेख, कवतां दा प्रसारण मते साल होंदा रेह्या।

कवि सम्मेलनां दी शान


कवि सम्मेलनां दी शान हुंदे थे सैह, शांत कनै मिणसार थे पर स्पष्टवादी बि थे। कुसी नैं गलत हुंदा सैहन नी थे करदे। कुसी गल्लां दा बरोध करने तरीका बि बड़ा खास था। इक बरी दी गल्ल ऐ पई कुथी इक्क बड्डा कवि सम्मेलन होया। दूरे-पारे ते मते बड्डे-छोटे लखारी आए, पर गलतियां नै तिन्हां जो साद्दा देणा रह्यी गेया। डॉ. शम्मी शर्मा नै क्या कित्ता पई, कवि सम्मेलन च चली गे पर दरुआजे बाहर बही गे। कनै सम्मेलन खत्म होणे तक बाहर ई बैठी रेह। आयोजकां जो पता लग्गा तां हत्थ-पैर फुल्ली गे, बड़ा मनाया पर सैह अंदर पंडाळे च नी गए तां नी गए। सम्मेलन खत्म होया तां बाहरे ते ई उठी के बापस आई गए।

राती दी रोटी घरैं खाणी

डॉ. शम्मी शर्मा होरां दी इक्क गल्ल खास थी पई, जादा मजबूरी न होए तां सैह कोसत करदे दे पई कुथी बि जाणा पौए राती दी रोटी घरैं ई जाई केखाणी। डॉ. शम्मी शर्मा कुसल प्रशासक बि थे, कनै लंबी नौकरी करी प्रिंसिपल दिया पोस्टा ते रटैर होए थे। 17 अक्तूबर 2011 सैहं एह नश्वर शरीर त्यागी केदूर आसमान च इक सूक्ष्म तारा बणी गे।

शर्मा होरां दे प्रकाशित पोथु 

बिखरे कण (गद्य गीत) 1954-1955
पंजाब केपर्वतीय प्रदेश (बाल साहित्य)
पर्वती हिमाचल (कांगड़ा) लोक साहित्य पर निबंध
हिमजा (लोक संस्कृति पर निबंध)
स्वरता (लोक नाट्य) निबंध
पहाड़ी गांधी बाबा कांसीराम व्यक्तित्व एवं कृतित्व
अध्यापन केतीस वर्ष
कुंतली (हिंदी कविता संग्रह)
अस्मिता (हिंदी कविता संग्रह)
भ्यागा दा परगड़ा (पहाड़ी कविता संग्रह)
वर्चस्विता (हिंदी काव्य संग्रह)
मिंजरां (पहाड़ी कविता संग्रह) संपादन
सहज कहानियां (आंचलिक पर्वतीय हिंदी कविता संग्रह)
एक कदम आगे (हिंदी कविता संग्रह)
माता बज्रेश्वरी देवी का मंदिर और इतिहास
श्री चामुंडा नंदीकेश्वर मंदिर और इतिहास
युग यगीन त्रिगर्त
पुरुष सूक्तएक विवेचन
संस्कार कौमुदी (सोळा संस्कार) शृंखला

शम्मी जो मिल्ले सम्मान

कांगड़ा लोक साहित्य परिषद द्वारा श्रेष्ठ साहित्यकार
यशपाल साहित्य परिषद सम्मान
हिमाचल लेखक संघ द्वारा सम्मान
रोटरी क्लब द्वारा शिक्षक सम्मान
हिमाचल केसरी सम्मान
शिक्षा संस्कृति पुरस्कार
सिरमौर कला संगम द्वारा डॉ. परमार पुरस्कार।

परंपरा दी खिंद
त्रिगर्ते देया माणुआं तू अज कियां जीया करदा
परंपरा दिया खिंदा जो तू अज्ज कैंहनी सीया करदा
मुक्की गे तेरे गीत, जेडिय़ां वेदां दियां धीयां ऋचां
छुटी गइयां जातरां, लीखणु नरेल लुहान धुजां
कुथु गे सेह बाजे नरसिंगे-सन्हाई-नगारे
कारजां दे मंगलगीत जेहड़े लगदे थे प्यारे
इन्हां बड्डेयां राम ढोलां बिगुलां च सुआद जांदा सुकदा
भैं-भैं कनें ढम ढमाकेच सुर जांदा सुकदा
त्रिगर्ते देया माणुआं तू अज कियां जीया करदा
परंपरा दिया खिंदा जो तू अज्ज कैंह नी सीया करदा

भुल्ली गई हण कुडिय़ां जो पखड़ीथलू कने मंदलू
बत्ता दी पुजाक नार सेह सुजदी नी समुंदरू
नाहां दे सनिच्रबार शिवां दे सुआर अज्ज जांदे मुकदे
घरां बिच मोख कनें तित्थां तुहार बार अज जांदे छुटदे
अपणा नाच, गाणा पुराणा हुण खरा कैंहनी लगदा
कांगड़े दिया कलमां दिया चितरां हुण कैंहनी लिखदा
त्रिगर्ते देया माणुआं तू अज कियां जीया करदा
परंपरा दिया खिंदा जो तू अज्ज कैंह नी सीया करदा

चंबे दे रुमाल, कुल्लू दी शाल अज्ज सुपणे बणी गे
चितरां बणाणे वाळे तेरे चितरेरे अज्ज कुथु गे
चंदरौलि नचांदे मंदलूंआं बजांदे न चाक नीं रेह
बारां जो गांदे-गुग्गा छत्तर उठांदे जोगी मुकी गे
घरां बिच धर्म-कर्म, पूजा-पाठ देवते दा सब भुली गे
फजूल संस्कार एह मुन्नी-मुन्नुए दा जागरा बिभी छुट्टी गे
त्रिगर्ते देया माणुआं तू अज कियां जीया करदा
परंपरा दिया खिंदा जो तू अज्ज कैंह नी सीया करदा

सरस्वती वंदना (द्रुत विलंबित छंद)

शरद चंद्र समान प्रभा बड़ी
त्रिभुवना बिच नां सदा चले।
कमल शस्त्र बड़े हथ धारयो
शुंभ-निशुंभ सरस्वती तें दले।।

लक्ष्मी वंदना (मालिनी छंद)

हथ मद कलशा, है बाण रुद्राक्ष माला।
धनुष कलश घंटा शूल लक्ष्मी महा है।।
कमल पर खड़ी है, है प्रसन्न सदा ही।
महिष असुर मारी दैत्य सेना मुकाई।।

 

 


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.