श्रद्धांजलि – स्कूलां साईंसा पढाई, कित्ती साहित्य दी कमाई, कवि सम्मेलना दे मंझेयो मंच संचालक थे रूप शर्मा ‘निर्दोष’, पहाड़ी भाषा ताएं कित्ता मता कम्म

Spread the love

श्रद्धांजलि – स्कूलां साईंसा पढाई, कित्ती साहित्य दी कमाई, कवि सम्मेलना दे मंझेयो मंच संचालक थे रूप शर्मा ‘निर्दोष’, पहाड़ी भाषा ताएं कित्ता मता कम्म

म्हीरपुरे ते वीरेंद्र शर्मा ‘वीर’ दी रिपोर्ट

छोट्टे-छोट्टे गारुआं दी गराह्खड़ चुल्ही दिया धूड़ी च ही दबोइयो रैह तां फिरी जिन्नी मर्जी देर दबोई रैह सेक हौळैं-हौळैं खत्म हुंदा जांदा, कनैं फिरी किछ समा बीतणे पर अग्ग बुझदी-बुझदी बुझी जांदी। अपर जे किछ तूहणे-तूहणे घाए दे तिन्हां तिनकेयां दा मेल बि बुझदेयां गारूआं नै होई जाए तां हौआ दे इक्की हल्के देह फराटे नै बुझदी अग्ग फिरी जगही पौंदी। देया कि किछ होया अपणे कनै टब्बरे दे पेटे दी अग्ग बुझाणे खात्तर अपणे घरां-बारां ते केई कोह दूर अंबरसर जाई छोटा-मोटा वुपार करना गेयो सुरगवासी मानजोग हंसराज दे घरै कनै सुरगवासी गीता शर्मा दिया कुखा ते 2 अप्रैल 1945 दे सुभ ध्याडैं जन्में मस्तमौला, हरफनमौला, हंसमुख आदतां दे मालक म्हाचली पहाड़ी कनै हिंदी भाषा दे अपणे टैमे दे बड्डे लखारी रूप शर्मा ‘निर्दोष’ होरां पर। मूरहलेयां दिना रूप शर्मा दी छोटिया क्लासा दी पढ़ाई म्हीरपुर कनै ऊना जिलेयां दिया बुरजडिया कंडैं सोलहासिंगी धारा च बसेयो छैळ ग्राएं दै स्कूलैं भ्यांबि जिला ऊना होई। गांह बड्डियां क्लासां च पढऩे खातर पिता अंबरसर अप्पू कैं लई गे। मुसकल कनै गरीबिया कनै समेयां घरे ते दूर जाई बगान्नै मुलखैं जाई पढऩा सौखा नी था। कैंह जो सैह शांत पहाड़ां दे माह्णु कन्नै ओत्थु सब पदरे मदानां दे बसिंदे पंजाबी बोलणे आळे, उप्परे ते मोटरां गड्डियां दी चैं-पौं।

पढ़देयां होया साहित्य कनै प्रेम

 

दिन बीतदे गे दसमीं कित्ती, फिरी खालसा कॉलेज ते बीएससी, बीएड। थे तां साईंस दे छात्र, पर साहित्य कनै प्रेम था। उप्परे ते पहाड़ां कनै मां बोलिया नै डुग्घा लगाव बरोबर बणी रेह्या। भगत सिंह पढ़ेया, लोक साहित्य पढ़ेया। होर बि मता साहित्य रट्टी लेया, एमए फलौसफी करी लेई। पढ़ाइया दुरान इ डैरियां च लिखणा सुरू करी तेया था। मंच संचालक तां बड़े तगड़े बणी गे। पढ़ाई पूरी करी के फिरी सैह राजकीय उच्च विद्यालय पीरसलूही च विज्ञान दे अध्यापक लगी गे। वापस पहाड़ां च आई के तां मतेयां लखारियां नै चिठी पतरा, उठणा-बैठणा सुरू होई गेया होणा।

26 दिनां च लिक्खी पहली कवता

 

दरअसल अंबरसर जाहलु रैंहदे थे तां ओथु मते पंजाबी लखारियां ने दोस्ती थी। अप्पु बि पहाड़ी घट्ट कनै पंजाबी ज्यादा बोलणा हे लगी पेयो। तां मां बोलिया नै डुग्घा ख्याल होणे सोचदे हे पई पहाड़ां दे लखारी कैंह पहाडिय़ा च घट्ट लिखदे हुंगे। इस ख्याले लई के पहाडिय़ा च कबता लिखणे दी कोस्त सुरू कित्ती, बड़ी मुसकल होई। बार-बार कटणे-बढणे ते बाद पूरे छब्बी दिन लाई के खेतीबाड़ी करने आळेयां जो दिक्खी-दिक्खी पहली कवता लखोई ‘किसान’।

रात-दिन तुकबंदी

 

फिरी अंबरसर ई कंपणी बागे च बैठी चौं पंजां पंजाबियां सणाई। सैह खुस बि होए, कनै साबासी बि दित्ती। बस फिरी क्या था, राति जो चुल्ही दिया धूड़ी च दबोइया गराहखडी साईं रूप शर्मा दे दमाके दी अग्ग बि मघी पेई। हौसला बधेया तां लोक संस्कृति ने जुड़ेयो पराणे पहाड़ी लोक गीतां जो बार-बार सुणयां। तिन्हां जो आधार मन्नी के पहाड़ी कवतां कनै एकांकी लिखणा सुरू करी तियां। रात-दिन तुकबंदी करी-करी काफिए मळांदे रैहणा। फिरी संपर्क होया उस जमाने दे मसहूर अखुआर दैनिक वीर प्रताप दे सह संपादक विश्वनाथ आचार्य होरां नै। तिन्हा पहली कबता छापी, नां था ‘सौणे दा महीना’। इसते बाद होर फलेरेया, गलाया पई बड़ा छैळ लिखदा तू। इसते बाद तां छपणे दा रोग लगी गेया, कनै मतेयां पत्र-पत्रिका च छपेया।

मंझेयो मंच संचालक

पूर्व सांसद, शिक्षा मंत्री हिमाचल प्रदेश सुरगवासी नरायण चंद पराशर होरां टैमे-टैमे पर बड़ा प्रेरित कित्ता। अंबरसरे देयां दिना ते ई जोड़ीदार बणी गेयो रत्न चंद शर्मा होरां बि फलेरी-फलेरी लिखणे जो मजबूर करदे ई रेह। म्हाचल आई मास्टर जे लगी गे तां इत्थु आई मंच संचालन दा जिम्मा बार-बार नभाणा लग्गे। इक्क दिन आया पेई कवि सम्मेलना कनै बाकी कार्यक्रमां दे मंझेयो मंच संचालक बणी के स्थापित होई गे।

कई साहित्यिक मित्र बणे

डॉ. ब्रह्मदत्त शर्मा, डीडी गुलज़ार नदौणवी, डॉ. पियूष गुलेरी, डॉ. प्रत्यूष गुलेरी, देसराज डोगरा, सागर मनोहर पालमपुरी होरां साईं कई साहित्यिक मित्र बणे। कनै तिन्हां ते बरीकियां सिक्खियां। डॉक्टर प्रेम भारद्वाज कनै भगतराम मुसाफिर होरां नै तां गाटी बड़ी मजेदार जमदी थी। घरे आळिया सुदर्शना शर्मा म्हेशा हौसला बंधाया। माता सरसुती दे सीरबादे ते एकांकी, नाटक, कवता-कहाणियां, गीत मता किछ लिखेया। कई रचना तां प्रतियोगिता पूरे म्हाचले च पैहले नंबरे पर रइयां। मसहूर रचना दी गल्ल करिए तां एकांकी/नाटक संग्रह ‘नीच’ लाला जी, नौईं राह, सत कीड़े रेह, जिन्हां लोकां दे दमाके च गैहरा असर कित्ता। हास्य-व्यंग्य लिखेया, बाल साहित्य लिखेया। इक ते बधी के कवि सम्मेलनां दी सोभा बणे। आकाशवाणी कने जालंधर दूरदर्शन ते मति बरी कवता पाठ दा प्रसारण होया। ‘आस परदसियां’ दी पहाड़ी कबतां दी बड्डेयां-बड्डेयां सिरै-मथैं लाई।

कवता सुणाई के पढ़ाई रा म्हौल

घरैं लखारियां दा जमाबडा लगी रैंहदा। क्लासा न्याणेयां जो कवता सुणाई के ई म्हौल बणाई दिंदे, कनै ढंगे पढ़ाइया ताईं त्यार करी दिंदे। 1991 च वैस्ट शिक्षक अवॉर्ड मिल्ला। ‘रोने वाले रोते रहे’ हिंदी कहानियां दी कताब खासी मसहूर होई। कई कवि सम्मेलन करुआए। ‘तरुण मिलाप संघ’ कने ‘युवा प्रताप मंच’ दे सदस्य रेह। मने ते पाक-साफ थे कोई पाप दमाके कदी औंदा नी था। इस करी नाएं पिछैं साहित्यिक नां ‘निर्दोष’ लगाया। सन दो हजार चार (2004) च प्रिंसीपल बणी के सेवानिवृत्त होए।

दो डैरियां अप्रकाशित कवतां

दो डैरियां हाली बि अप्रकाशित कवतां कनै गजलां कनै भरोइयां। सालां साल मिणहत करी पहाड़ी भाखा च डिक्शनरी लिखी बणाई के कुसी लखारिए जो दुरुस्त करने वास्ते दित्ती, अप्पर फिरी तिहा दा क्या बणेया कोई पता नी? गल्लां-गल्लां च ई हसाई-हसाई के पेटैं पीड़ लाई देणे आळा हरफनमौला लखारी 20 अगस्त 2011 जो सबना जो रुआई के इसा दुनिया ते चली गेया। सैह दिन कनै एह दिन बचारी विधवा सुदर्शना शर्मा जी दूंह धियां चा अपणियां इक्की धिया जो अपणे बहाल रखी के बुढापा कट्टा करदे। सिर्फ ताहलकणे मुखमंत्री प्रोफेसर प्रेम कुमार धूमल होरां जरूर इक्क चिठ्ठी लिखी, बाकि तां बडे दुखे दी गल्ल ऐ पई भाषा विभाग दा तां ग्लाणा इ क्या कुसी लखारिएं बि मुड़ी के तिन्हां दे परुआरे पासें दा हाल नी पुच्छेया।

सैह घरैं तूली लाई गए

खरे भले बसये घरे नरक बणई गए
झूठ सच बोली कपी भेद सारे खेली करी
भले चंगे घरे जो धूडी च मलाई गए
ठगी ठगी खांदे रेह बुद्धु बि बणांदे रेह
जांदे जांदे अप्पु बिचैं असां जो फटाई गए
मिली जुली रैहंदे थे निंद भरी सौंदे थे
ऐसी मेख मारी जिद्दां उमरां दी पाई गए
इत्थु किछ होर बोल्या ओथु किछ होर
चलदैं घराटैं फेरा पुआई दुआई गए
ईश्वर बचाए देह दोगलेयां माहणुआं ते
खरे खांदे जींदेयां दे चैनेओह गुआई गए
बोलै ‘निर्दोष’ बची जाह देह महणुआं ते
बैठे बिठायां जेहडे उल्लु न बणाई गए।

 

आस परदसियां दी

दूर सडक़ा, धूड़ उड़ी
सुणियां मोटर आई
रोटियां पकांदी
दौड़ी पई इक अल्हड़ मटियार
गिल पिया धडक़ी
इकी पले च, सौ-सौ बार
गेया एह, गरां ऐ सौरियां दा
मुंहए पर कालख
हत्थां नै आट्टा, हाखीं अथरू
बिखरेया झाटा
भुली गेई सिरे रे
चादरू री सम्हाल, दौड़ी-दौड़ी जाए
मुहए च कल्ही बोली जाए
कदी पौए, कदी ठोकरां खाए
बड़ी बेसबरी
खबरै किन्नी क होई गई बेकरार।
हफ्फी गई दौड़ी-दौड़ी, पर पुज्जी गई
काळुए दी बडी बाहल
इत्थु खडोई लग्गी करना
मोटरा दा इंतज़ार
बैठी लग्गी सोचणा
होई गे पंज साल
भुल्ली गेइयो सैह सकल बि उन्हां दी
डुग्गी-डुग्गी हाखीं
लम्मा लम्मा लक
घुंघराले बाळ
कुंडी-कुंडी मुछां
पर चुक्केया किछ भार
डुब्बी गेई डुग्गेयां ख्यालां च
घरैं आई करी
नेडैं-नेडैं औंगे जाहलु
झूंड मैं तां कड्डी लैणा
लख भला मनाण मिंजो
मुहं मैं लुकाई लैणा
बांह बिच जे लैंगे मेरा
हथ मै छड़ाई लैणा
पिच्छे ते सैह जाहलु जांहगे थकी
अप्पु मैं मनाई लैणा
खोई गई ख्यालां बिच
अल्हड़ जुआनी उहदी
भुली गेई आई गेई मोटर
बाईं आळे अंबे बाहल
बेसबरी होई दिखणा लग्गी
उतरे पंज छे फौजी
दिखेया मूंहडैं पर
चुक्केया किछ भार
देखी करी फौजियां
नसी पई घरे जो।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *