लॉकडाउन में सामने आया नूरपुर की लोकगायिका रेखा जरियाल का हुनर, फेसबुक लाइव से घर- घर पहुंची मखमली आवाज, यू टयूब चैनल ‘जीवन रेखा’ पर भी हिट

Spread the love

लॉकडाउन में सामने आया नूरपुर की लोकगायिका रेखा जरियाल का हुनर, फेसबुक लाइव से घर- घर पहुंची मखमली आवाज, यू टयूब चैनल ‘जीवन रेखा’ पर भी हिट
पालमपुर से ललिता कपूर की रिपोर्ट
कांगड़ा के नूरपुर उपमंडल के औंध गांव की शिक्षिका एवं लोक गायिका रेखा जरियाल के लिए कोविड के चलते हुआ हुआ लोकडाउन वरदान बन गया. पेशे से प्री प्राइमरी शिक्षिका रेखा ने इस दौरान फेसबुक लाइव के जरिए अपनी मखमली आवाज में लोकगीत गाकर लोक संगीत के चाहने वालों का खूब मनोरंजन किया. उनके गीत सोशल मीडिया पर जम कर वायरल हो रहे हैं और खूब लाइक मिल रहे हैं. रेखा के हिट लोकगीत उनके यूटयूब चैनल “जीवन रेखा” पर भी सुने जा सकते हैं.
भाई ने किया प्रोत्साहित, बहन के हुनर की चमक
रेखा का मायका चंबा जिला के चुवाड़ी क्षेत्र के कैम्ब्ली गांव में है. दो भाईयों और दो बहनों में सबसे बड़ी रेखा को बचपन से ही लोक संगीत का शौक था और अपने स्कूल के दिनों में एक उभरती कलाकार थीं. गणतंत्र दिवस के लिए सांस्कृतिक दल में दिल्ली के लिए चयन हुआ, लेकिन किसी कारणवश रेखा भाग नहीं ले पाई.लॉकडाउन के दौरान रेखा के भाई अनिल ने उन्हें गायन के लिए प्रेरित किया.
कई हुनर में माहिर हैं रेखा
प्री प्राइमरी शिक्षिका रेखा ने ब्यूटीशियन का डिप्लोमा भी किया और कटिंग टेलरिंग में भी माहिर हैं. अध्यापन के अलावा रेखा सुबह- शाम ब्यूटीशियन और बुटीक संचालन का कार्य भी करती हैं. रेखा का कहना है कि उसके मायके और ससुराल दोनों पक्षों ने उसके हुनर को निखारने में मदद की है. रेखा भविष्य में और भी कई हिट गीतों को गाने की योजना पर काम कर रहीं हैं.
रेखा के लोकगीत नीचे दिए यू टयूब लिंक को खोल कर सुनिए-

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *