लिम्का बुक में दर्ज लेह से मनाली तक बाइक पर पहुंचने का वर्ल्ड रिकॉर्ड , 55 साल की मोक्षा ने बाइकिंग से बदली जिंदगी

Spread the love

मनाली से विनोद भावुक की रिपोर्ट

मुकद्दर को नहीं कोसा, खुद पर किया भरोसा , लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज रिकॉर्ड टाइम में लेह से मनाली पहुंचने का कारनामा
साहस और रोमांच के खेल बाइकिंग में उसके नाम वर्ल्ड रिकॉर्ड दर्ज है। वह ‘बैक एन बियोड़’ कंपनी की मालिक है, जो देश भर में बाइक टूर का आयोजन करती है। 55 साल की सिंगल मदर मोक्षा ने तमाम विपरीत परिस्थितियों के बावजूद हिम्मत और दिलेरी के दम पर न केवल खास मुकाम हासिल किया है, बल्कि आर्थिक आजादी की ऊंची उड़ान भी भरी है। 2007 से इंटरनेशनल डेस्टिनेशन मनाली में आकर अमेरिकी ट्रैवलर कोनी से हुई मुलाकात के बाद मोक्षा की जिंदगी का मकसद बदल गया और उसने बाइकिंग के क्षेत्र में खुद को साबित कर एक प्रेरककथा लिख दी। आज मोक्षा महिला सशक्तिकरण और बेटी बचाओं जैसे अभियानों का हिस्सा है।मन की बात में पहुंचा चंबा के शिक्षक आशीष बहल का पत्र, पीएम मोदी ने मिंजर मेले पर लिखे पत्र का किया जिक्र

बाइक पर अकेले भारत भ्रमण
अमेरिकी ट्रैवलर कोनी से रॉयल इनफील्ड पर भारत भ्रमण कर रही थीं। मनाली में जब मोक्षा की मुलाकात कोनी से हुई तो वह उससे बेहद प्रभावित हुई। इस मुलाकात के बाद मोक्षा ने खुद ट्रिप पर जाने का प्लान बनाया। मोक्षा ने अकेले ही मनाली से लेह तक रॉयल इनफील्ड से सफर किया। मोक्षा ने लेह से वापस मनाली तक का सफर रिकॉर्ड 20 घंटे और 20 मिनट में पूरा किया। मोक्षा के इस रिकॉर्ड को लिम्का बुक आफ वल्र्ड रिकार्ड में जगह मिली। निग्गर : ‘बॉब ईटन’ अमेरिकी पहाड़िया , कांगड़ी बोलणे वाळेे अमरिकी माहणुए ने राजीव त्रिगर्ती कन्ने भूपेंद्र जम्वाल ‘भूपी’ दी सिद्दी गल्ल- बात


छोटी उम्र में शादी, छोडऩा पड़ा ससुराल
पंजाब के होशियारपुर की मोक्षा की 1984 में छोटी उम्र में ही शादी हो गई थी। शादी के एक साल बाद ही वह एक बेटी मां बन गई। मां बनने के बाद मोक्षा के लिए जिंदगी इतनी खुशनुआं नहीं रहीं। बेटी पैदा करने पर उन्हें ससुराल वालों के ताने सुनने को मजबूर होना पड़ा। मोक्षा और उनकी मासूम बेटी को प्रताडऩा का भी शिकार होना पड़ा। मोक्षा को जब लगा कि पति भी उसका साथ देने के बजाये अपने परिवार वालों का पक्ष लेता है तो तंगआकर मोक्षा ने ससुराल छोडऩे का फैसला कर लिया। मायके जाने के बजाये वह चंडीगढ़ आ गई।समीक्षा : कहानीकार शेर सिंह का कहानी संग्रह ‘आस का पंछी’,  यथार्थ और जीवंत घटनाओं  व परिवेश की कहानियां

बेटी की एजूकेशन के लिए चंडीगढ़ में स्ट्रगल
चंडीगढ़ में मोक्षा ने एक परिवार के यहां ड्राइवर की नौकरी कर ली। बाद में वह होटल में भी काम करने लगीं। 80 और 90 का दशक महिलाओं के काम करने को लेकर इतना सहज नहीं था, इसलिए मोक्षा को काफी दिक्कतें आ रहीं थी। मोक्षा कहती हैं कि एक सिंगल मदर जब अकेले काम करके अपने पैरों पर खड़े होने की कोशिश करती है तो लोग इसे स्वीकार ही नहीं करते, लेकिन उस वक्त मेरे लिए कोई और विकल्प भी नहीं था। मोक्षा ने 1989 में अपने पति से तलाक ले लिया। 1999 के बाद वह अपनी बेटी के स्कूल में वॉर्डन के तौर पर काम करने लगीं। अब उसके जीवन का एक ही मकसद था बेटी प्राची को बहतर शिक्षा देना। प्राची की स्कूल की पढ़ाई 2004 में खत्म हो गई।रहस्यमय : मनाली के लेह मार्ग में है मिनरल वाटर पीने वाले भूत का मंदिर, इससे बेखबर आगे बढ़ने पर भूत मांगता है पानी और सिगरेट


सिंगल मदर को संघर्ष से सक्सेस
बेटी की स्कूली पढ़ाई से थोड़ा मुक्त होने पर उसी साल मोक्षा काठमांडू चली गईं और वहां माउंटेनियरिंग का कोर्स पूरा किया। सिंगल मदर मोक्षा 2007 में मनाली आ गईं। उसके पिता मनाली में सेब की बागवानी करते थे, लेकिन पिता के काम में शामिल होने के बजाये मोक्षा ने खुद की एक ट्रैवल एजेंसी खोली। बंटाने की बजाय अपनी खुद की एक ट्रैवल एजेंसी खोली। यहां आकर मोक्षा ने न केवल खुद बाइकिंग में वर्ल्ड रिकॉर्ड स्थापित किया बल्कि बाइकिंग टूर आर्गेनाइज करवाने के लिए सारे देश में मशहूर हो गई।रहस्य : कांगड़ा किले में थे खजाने से भरे 21 कुएं,  गजनवी ने आठ कुओं को लूटा, ब्रिटिश फौजों ने पांच पर किया हाथ साफ़ , खजाने से भरे आठ कुएं अभी भी  मौजूद


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.