‘लगा ढोलो रा ढमाका म्हारा हिमाचल बड़ा बांका’, ‘पहाड़ के वैद’ दे नाएं ते मशहूर वैद्य सूरत सिंह ने म्हाचले च चलाया ‘पझौता आंदोलन’

Spread the love

‘लगा ढोलो रा ढमाका म्हारा हिमाचल बड़ा बांका’, ‘पहाड़ के वैद’ दे नाएं ते मशहूर वैद्य सूरत सिंह ने म्हाचले च चलाया ‘पझौता आंदोलन’

नाहन तेे वीरेंद्र शर्मा ‘वीर’ दी रिपोर्ट

जितणा कि मोहनदास कर्मचंद गांधी नैं चरखे कत्ते, अहिंसावादी आंदोलन कित्ते, कनै जादिया दी जंग ताईं लोकां जो जागरुक करने कनै अंग्रेजां दे नक्कैं दम्म करने ताईं बड़ा बड्डा योगदान दित्ता कनै राष्ट्रपिता कहळुआए। तितणा नी तां तिसते कुसी पासैं तिसते घट्ट मिं नी होर बि मते देह जोद्धे होर होए जिन्हां दा योगदान कुसी पासे ते बि जादिया दी पूर्ण औहत पाणे ताईं भुलाया नी जाई सकदा। पूरे देसे दे क्रांतिकारी जोद्धेयां छडी बि देइए कनै अपणे म्हाचले दी ही गल्ल करिए तांमि बडी लम्मी लैण लगी जाणी तिन्हां सारियां महान आत्मा दी। इंद्रपाल, यशपाल, रामरखी देवी, कामरेड परसराम, सरला शर्मा, सदाराम चंदेल, भागमल सौहटा, दौलतराम सांख्यान, कृष्णानंद स्वामी, लाल चंद प्रार्थी, शिवानंद रमौल, ठाकुर हजक सिंह, सत्यदेव, पदमदेव और पहाड़ी गांधी बाबा कांसीराम बगैरा-बगैरा। इन्हां सारेयां जनजागरण करिके, आम सभा करीके, जादिया दे गीत-कविता अपणी मां बोलिया च लिखि-लिखि कनै ग्राएं-ग्राएं गाई-गाई लोकां च जोस भरेया, आंदोलन कित्ते, जेलां च गे, काळे पाणी दि सजा कट्टियां, कनै अंग्रेजी सरकारा देयां जुल्मां ते देसे दिया जादिया दा बिगुल फूकेया। कनै देसे जो जाद कराणे ते पैहलैं हार नी मन्नी। इन्हां सारेया कन्नै ई मूहरलिया लैणी च मूहरले ई दो माहणु हिमाचल निर्माता डॉ. यशवंत सिंह परमार कनै वैद्य सूरत सिह होरां बि होए, जिन्हां दा जिकर न कित्ता जाए न गल्ल अधूरी ही रैहणी। इन्हां सारेयां नां च सबते पैहलैं म्हाचली वीर सपूत लेखक, कवि, गीतकार, कलाकार आयोजक प्रबंधक क्रांतिकारी देसे दिया जादिया दिया जंगा च देवभूमि म्हाचल दे ‘पझौता आंदोलन’ दे मुख इंजीनियर वैद्य सूरत सिंह होरां दा जन्म 24 अगस्त 1912 को देवी सिंह होरां दैं घरैं धार्मिक बचारां दी मालकण माता मुन्नी देवी दिया कुखा ते इन्हां दे नानकेया दैं घरै चाखळ होया। हालांकि इन्हां दे पिता-दादा दा ग्रां राजगढ़ तसीला दे हाब्बण लाके दा कटोगड़ा ऐ। बालक सूरत सिंह हाल्ली त्रीं सालां दा था कि माता दा सुरगवास होई गेया। बालक सूरत सिंह जो माम्मेयां दैं घरैं ही बचपण बताणा पेया। पिता देवी सिंह जो बच्चे दि परवरस ताईं दुआ ब्याह करना पेया। बिमाता बसंती देवी नै सक्किया माऊ ते बि बधी के प्यार दित्ता, जिस करी बालक सूरत जो कुसी गल्ला दा घाटा मसूस नी होया।

छोटी उम्रा च ‘वैद्य’ दी उपाधि


उस बेलैं सरमौर रियासता दी जनसंख्या डेढ लख थी, पर पढ़ाइया ताईं कोई प्रबंध नी था। इतनी बड्डी रियासता च इक्क हाई स्कूल था नाहन। इस करी महासय साही राम नै सिरमौर दे फागु च गुरुकुल खोलेया तां पिता देवी सिंह नै बालक सूरत बि ओथु पढऩा पाई ता। शास्त्री कुंदनलाल कनै आचार्य श्रीनिवास नै झट इ पछियाणी लेया कि सूरत सिंह दा जन्म बड्डा कम्म करी ताईं होया। आचार्य श्रीनिवास होरां दे पैरैं इक्क बरी मते फोड़े निकळे तां जंगले ते जड़ी-बूटियां दे पत्तेयां दा सिल्ला पर कुट्टी के लेप बणाया कनै बिगड़ेयो फोड़े झट ई ठीक करी ते। इस करी आचार्य नै बालक सूरत सिंह जो वैद्य दी उपाधि दित्ती। इसा गल्ला पर गांह चल्ली करी सूरत सिंह नै बदंगी करी गुरुआं दिया कहावता पर मोहर लाई ती।

गुरकुल च पढ़ाई, संस्कृत दा ज्ञान


पैहलैं गुरकुल च पढ़ाई करी संस्कृत दा गूढ़ ज्ञान लेया कनै लहौर विश्वविद्यालय ते संस्कृत प्राज्ञ कनै विशारद कित्ती। फिरी ऋषिकेश जाई आयुर्वेद महाविद्यालय ते आयुर्वेद विशारद कनै आयुर्वेदाचार्य कित्ती कनै प्रमाणित तौर पर वैद्य सूरत सिंह बणी के मसहूर होए।

‘पहाड़ के वैद’ दे नाएं ते मशहूर
घोड़ी पाळी कनै दूर पार जाई के लाज करना लग्गे। मन नी लग्गा तां मित्रे सूर्यदत दे बोलणे पर मुजफ्फरनगर (उत्तर प्रदेश) दे नेडैं नारसम नाएं दे छोटे देह ग्राएं दवाखाना खोल्या। कम नी चल्ला तां नेडैं इ धतियाणा जाई दवाखाना खोली जन सिओआ सुरू कित्ती कनै बोलबाणी सुभा कनै कुसी बि बुमारिया दा लाज करने दे तरीके करी बड़े मसहूर होए। हालि बि तिस लाके दे स्याणे जबरे-जबरियां ‘पहाड़ के वैद’ दे नाएं ते याद करदे। भलेयां दिना दी गल्ल ऐ धतियाणा मुजफ्फरनगर च कुसी दा ब्याह था। तिथु इन्हां दा बड्डा मुन्नु कपूर सिंह कनै त्रै-चार ओथु दे न्याणे लैंटरे दे छज्जे दे टुटणे करी तिदे हेठ दबोई के मरी गे। वैद्य सूरत सिंह इसा दुर्घटना ते उभरी नी सके, मन नी लग्गा दा था ता सब किछ घोडिय़ा पर कटोगड़ा वापस आई गे।

‘सिरमौर प्रजामंडल’ च कूदे
इस दुरान तिन्हां दिख्खेया पई राजा सिरमौर अंग्रेजी हकूमता जो मता भारी कर चुकाणा पौंदा था। राज तां नाएं दा था, इसारा तां अंग्रेजां दा इ चलदा हा। राजैं क्या कित्ता पई फसल तां फसल महीं-गाईं, भेड्डां-बकरियां पर बि बगार ‘भारी कर’ लाई ता। लोक अत्यचार ते तंग होई थे गेयो। छोटे-मोटे आंदोलन होआ दे थे। वैद्य सूरत सिंह बि सिरमौर प्रजामंडल च कुद्दी पे। ग्राएं-गाएं बदंगिया दैं बाहनै जाई के प्रचार करी लोक जंग ताईं त्यार कित्ते।

बाबा कांसी राम ते प्रभावित
भारत छोड़ो आंदोलन ते प्रभावित तां थे ई बाबा कांसी राम ते बि प्रभावित होए, कनै जींदेयां जी विदेशी दा बहिष्कार कनै स्वदेशी अपनाणे ताईं सिर्फ खादी पैहनणे दी कसम खाहदी। रियासता धारा-353 लग्गी, कनै गिरफ्तार करी लेया। अप्पर खबर अग्गी साईं फैली तां गरीब कनै कर्जाई रियासता दा म्हौल होर न बिगड़ै, इस करी छोटे-मोटे मुकदमें लाई छडी ता। इस करी होर मजबूत होई के उभरे।

‘पझौता आंदोलन’ दी बागडोर
‘पझौता आंदोलन’ जेहड़ा कमजोर था लग्गेया पौणा तिदि बागडोर अपणै हत्थैं लई के जोरै-सोरैं अंग्रेजां दे खलाफ चिणग लाई के अग्ग भडकाई ति। माहौल बिगड़ेया तां दो म्हीने ‘मार्शल लॉ’ लाई ता, वैद होरां दा तमंजला मकान डायनामाइट लाई के डुआई ता।

मसहूर होए जेल च लिखे गीत 
11 जून 1943 जो क्रांतिकारी सूरत सिंह होरां दिया अध्यक च कुलथ किले दैं सामणे टेकरिया पर सभा करा करदे थे। सेना नै अंधाधुंद गोळी चलाई ति। मत्ते फट्टड़ होए। कामना राम होरां गोली लगणे करी मौके पर इ शहीद होई गे। मत्ते तां तांह-तुहां तितर-बितर होई गे, पर 69 क्रांतिकारी फिरी बि पकड़ा च आई गे। तिन्हां च 14 बरी करी ते तिन्नां जो दो-दो साल कठोर सजा, 52 क्रांतिकारियां जो काळा पाणी दी सजा दित्ती। बादे च घटाई के पैहलैं दस, फिरी सत्त कनैं पंज साल करी ति। इन्हां सारेयां क्रांतिकारियां दे नेता वैद्य सूरत सिंह होरां जो नाहन जेला कड़ी लाई के सींकचां च होड़ी ता। वैद्य होरां जेला च होर बि मुखर होई गे। जादिया ताईं कविता, गीत, संस्मरण, चिठियां लिखणा सुरु करी तियां जो कि ‘जेल के गीत’ दे नाएं ते बड़े मसहूर होए, कनै जनता च होर जोस पैदा होया।इलाहाबाद कोर्ट नै मुकदमे दा फैसला 33 पेजां दा दित्ता।

 

जादिया ते बाद सजा माफ
देस आजाद होई गेया, जादिया ते बाद जाहलु सिरमौर रियासता दा विलय देसे च होया उसते हफ्ताभर पैहलैं इन्हां दी सजा माफ होई। वैद्य होरां लोक संस्कृति, खाण-पाण, रैहण-सैहण, मति गल्लां दि सौ गल्ल पई जो कुसी बि हालती च बोलिया दा संरक्षण करी बचाणा चांहदे थे। कला तां वरासता च मिल्लियो हि तां कलाकारां ताईं ‘पहाड़ी कलाकार संघ’ बणाया। आकाशवाणी दे पैहले ए ग्रेड कलाकार ठाकुर किशन सिंह, विद्यानंद सरैक, चंद्रमणी वशिष्ठ बगैरा नैं मिली के नाटी-मुजरे, लोक नृत्य करियाळा दबारा जिंदा कित्ते। जादिया बाद ‘पझौता स्वतंत्रता सेनानी कल्याण परिषद बणाई’।

डॉ. परमार होरां ताईं छड्डी सीट
म्हाचल बणेयां तां पच्छाद ते वैद्य सूरत सिंह होरां जो कांग्रेस दी टिकटा पर लडऩे जो बोल्या गेया। अप्पर तिन्हां इंसानियत दा परिचय दित्ता, कनै सीट मैजिस्ट्रेट डॉ. यशवंत सिंह परमार होरां जो छड्डी ती। परमार होरां मने दिया उआजा पर शिलाई ते बि चुनाव लड़ेया। इत्थु बड़ी मजेदार गप्प होई। कदी डॉ. परमार नै जज रैंहदेयां जैलदार धर्म सिंह जो सजा सणाई थी। उस वक्त जैलदार धर्मसिंह दा शिलाई च घोषणा कित्ती पई डॉ. परमार बुरी तरह रहाई देणा, डॉ परमार जो बुरी तरह रहाई बि दित्ता। हालांकि परमार पच्छाद ते जित्ती के मुखमंत्री बणें।

वैद्य होरां निर्विरोध विधायक बणे
थोड़ेया दिनां बाद ई जैलदार धर्मसिंह ने स्तीफा देई ता। बेसती तां होई पर इसा गल्ला जो सांभणे ताईं डॉ. होरां मित्र वैद्य सूरत सिंह जो भेज्जेया। जैलदार होरां बोल्या पई वैद जी परमार होरां नै बदला लैणा हा, सैह लई लेया मेरा कम्म कनै बदला पूरा। हुण तुहां लड़ा। तुहाड़े खलाफ कुनी नी खडोणा। होया बि सैह हि। वैद्य सूरत सिंह निर्विरोध जित्ती के विधायक बणी गे। इक बरी फिरी सैह शिलाई ते चुनाव लड़े, कनै जित्ते। खादी बोर्ड दे चेयरमैन रेह। छुआछूत, बाल विवाह कनै बड़ी-बड्डी कुरीति ‘रीत जां खीत’ बि खत्म करुआई।

गळतियां सुधारी जबाब
दरअसल वैद होरां दे मने च क्रांति दी लुंग सन् 1930 च जाहलु लाहौर रावी दैं कंडैं कांग्रेस महाअधिवेशन होया तां उंगरी। सराबा दे ठेके फूकी ते, सरदार भगत सिंह, सुखदेव राजगुरु दी फांसी दी सजा रोकणे ताईं दस्तखत करुआणे दा अभियान चलाया। तिथ पाई के चिठियां लिखणे दी आदत बणी गई। जवाहर लाल नैहरू तक जो चिठियां लिखियां, हर चिठिया दा जबाब गळतियां पर गोळा लाई सुधार करी जरूर दिंदे थे।

आंदोलन ताईं उठाई अवाज
‘सविनय अवज्ञा’ आंदोलन चल्ला तां लोकां जो जात-पात भुलाई के गांह बधी लड़ाई लडऩे जो बोल्या। दीपराम, दयाराम, नीताराम, सूरतराम वर्मा कनै वैद्य सूरत होरां दी घरिआली मुनहरो देवी नैं बि गांह बधी के हिस्सा लेया। पैण-कुफ्फर दे मियां देवी सिंह कनै घणु दियां खच्चरां जाहलु बगारा च पकड़ी लइयां कनै इह्यां इ तसीलदार पच्छाद कसोरी लाल कन्नै कलैक्टर जैन ग्राएं-ग्रांएं दे दौरे पर जाहलु आए तां तिन्हां देयां आदेशां अग्गी होर च घ्यो पाया। ‘करो या मरो’ दा नारा दई राजा सिरमौर जो किछ मांगां रखियां। रियासता फूट पाणे ताईं होकु कनै सिंघटा नाएं दे दो क्रांतिकारी माहणु मरुआई ते, पर वैद्य सूरत सिंह होरां लोक पक्के करि तेयो थे।

जेला च लिखया ‘पझौता आंदोलन’
जेलर इन्हां दे ज्ञान ते बड़ा प्रभावित होया कनै रोज चुपके-चुपके खुआर दिंदा पढऩे जो, पंचतंत्र कनै भर्तृहरि शतक दित्ते पढऩे जो। कागज, पैन, दुआत दित्ती तिस पर पूरा ‘पझौता आंदोलन’ लिखि ता।

‘लागा ढोलो रा ढमाका’ मसहूर लोकगीत 
वैद्य होरां दा इक्क मसहूर लोकगीत ‘लागा ढोलो रा ढमाका’ दा संगीत तिन्हां दे चेले कृष्ण लाल‌ सहगल नै दित्ता कनै ठाकुर किशन सिंह नै गाया। एह गीत इतणा मसहूर होया पई बॉलीबुड दे मसहूर गायक महेंद्र कपूर होरां बि गाया। 30 अक्तूबर 1992 दैं ध्याडैं सैह पंजतत्वां च विलीन होई गए। सन 1993 च देसे दे गृह राज्यमंत्री राजेश पायलैट होरां जयंती समारोह मनाया कनै डाक टिकट जारी कित्ता। 1994 च हाब्बण तिन्हां दी संगमरमर दी मूर्ति‌ स्थापित कित्ती गई, तिसदा दा लोकार्पण महाशय तीर्थराम नै कित्ता। हुण तिन्हां दे बड्डे बेटे नै 11 जून, 2018 दे ध्याडैं पझौता गोलीकांड दी स्वर्ण जयंती मनाणी ऐ।

 

वैद्य सूरत सिंह दी इक्क रचना-
फुली कोरो बोलो फुलणु-फुलणु,
डाली फुलो रा पलाशो।
बांका मुलका हिमाचला,
तेरी चोटी ऊपर कलाशो।
कलाशो मेरेया हिमाचला, तेरे……..।
हिंखोतीरिए बोलो चिटीए चादरै
कोटगढोरेया बागा
शिमलेया बोलो जाखुआ मेरेया,
तांदा दिलडु लागा
लागा मेरेया….।
धारे-धारे दी मोटरो चालो,
नोदी नोदीए घालो
होसी खेलीरो, नाचो रो पोखरू,
नीऊ आपणा रबालो, रबालो…….।
चांगे मांडी रो चरनीयों भाइयो,
बांकि कुल्लुई नोरे
ज्वालामुखी रीए देविए सुखणा,
तेरी कोरणी म्हारे,
म्हारे मरेया।
सतलुजो रीए बांठणे नोदिए,
भाखड़े रीए माए
दूरो-दूरो दे जातरू आमेयां,
ताईं देखदे आए ……।
आए मेरेया …….।
चूड़ी-चानणी कोहेडिए चिटिए,
रोई लुंबिया लंबी
एकी पोशोदा सातु रा खोलटा,
रे के छाई री तुंबी
तुंबी मेरेया …..।
शुण तीरथा खालसरोरेया,
माई रिणके री झीले
घाटी चोढदे काम्मरो चुटी,
गीलै गोबरो रे घिले
घिले मेरेया ……।
हिमाचलो रे हिम्मती माणुषो,
खाओ सिडकू-घीवे
दुखो-बिपतेरे झेलीए
सोदके ओसो चाइले जीवे
जीवे मेरेया…..।
पांगी, लोहालो स्पिति कणावरो
म्हारे शिरोरे ताजो
खाणी-पीणे खे मुकतो ‘बोईदा’
ओसो उसऊने रो नाजो
नाजो……।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.