इस सचिव से सीखिए पंचायत को आदर्श बनाने की कला, अमित जसरोटिया के हुनर से बैजनाथ की घोड़-पीठ पंचायत के खाते में राष्ट्रीय पुरस्कार

Spread the love

इस सचिव से सीखिए पंचायत को आदर्श बनाने की कला, अमित जसरोटिया के हुनर से बैजनाथ की घोड़-पीठ पंचायत के खाते में राष्ट्रीय पुरस्कार
बैजनाथ से प्रीतम सिंह की रिपोर्ट
हिमाचल प्रदेश के पंचायती राज सचिवों को नियमित करने की लम्बी लड़ाई लड़ने और उसे अंजाम तक पहुंचाकर साल 2015 में सचिवों को नियमित करवाने वाले हिमाचल प्रदेश पंचायती राज सचिव संघ के राज्य अध्यक्ष पंचायत अमित जसरोटिया ने अपने हुनर से एक बार फिर साबित किया है कि पंचायतों को आदर्श बनाने में एक पंचायत सचिव की अहम भूमिका होती है। अमित जसरोटिया बैजनाथ की उस घोड़-पीठ पंचायत के पंचायत सचिव हैं, जिसे राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस के अवसर पर 23 अप्रैल को दो राष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है और पंचायत को 15 लाख की राशि पुरस्कारस्वरूप मिली है। पंचायत को नानाजी देशमुख राष्ट्रीय ग्रामसभा पुरस्कार के तहत 10 लाख की राशि और दीन दयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तिकरण पुरस्कार में 5 लाख की धनराशि पंचायत को पुरस्कार में मिली है।
पहले भी कर चुके हैं कमाल
अमित जसरोटिया की पहचान एक ऐसे पंचायत सचिव के तौर पर की जाती है, जो न केवल अपने ऑफिस टाइम बल्कि छुट्टी वाले दिन भी पंचायत के कार्यों में जुटे रहते हैं.
इससे पहले जब वे बैजनाथ उपमंडल की ग्राम पंचायत भेठ झिकली के पंचायत सचिव के पद पर कार्यरत थे, उस समय उस पंचायत को भी पूरे भारत के अंदर नानाजी देशमुख राष्ट्रीय गौरव ग्रामसभा पुरस्कार से नवाजा गया था और पंचायत को 10 लाख की पुरस्कार राशि पंचायत को मिली थी।
सचिवों के अध्यक्ष
अमित जसरोटिया वर्तमान में पंचायती राज सचिव संघ हिमाचल प्रदेश के राज्य अध्यक्ष हैं। इनके ही नेतृत्व में पंचायती राज सचिवों को नियमित करने की लड़ाई लड़ी गई थी, जिसके फलस्वरुप साल 2015 में पंचायत सचिवों को सरकार ने नियमित किया था। अमित जसरोटिया समाजिक कार्यों में भी बढ़-चढ़कर भाग लेते हैं। कोविड के दौरान वह फ्रंटलाइनर वर्कर थे और विभाग ने उनको जो भी जिम्मेवारी सौंपी, उन्होंने बखूबी निभाया।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *