यूनियन ऑफ़ वर्ल्ड कार्टूनिस्ट में सलेक्ट को कर ऊना के आर्टिस्ट- कार्टूनिस्ट सुनील सूरी ने दुनिया भर में बढ़ाया हिमाचल का मान, छोटी उम्र में बड़े कद का चित्रकार हिमाचल का होनहार

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

यूनियन ऑफ़ वर्ल्ड कार्टूनिस्ट में सलेक्ट को कर ऊना के आर्टिस्ट- कार्टूनिस्ट सुनील सूरी ने दुनिया भर में बढ़ाया हिमाचल का मान, छोटी उम्र में बड़े कद का चित्रकार हिमाचल का होनहार
ऊना से विनोद भावुक की रिपोर्ट
साल 2018 की बात है। हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला मे पानी की गंभीर समस्या चल रही थी और पर्यटकों को शिमला न आने की सरकार एडवाइजरी कर रही थी, उसी दौरान ऊना का एक युवा आर्टिस्ट कार्टून के जरिये सिस्टम पर तंज कस रहा था। उस आर्टिस्ट का बनाया एक कार्टून एक न्यूज़ पेपर में प्रकाशित हुआ तो कार्टून बनाने का जुनून सिर पर सवार हो गया और बहुत से कार्टून बना डाले। ज्यादातर कार्टून राजनीतिक व्यवस्था की पोल खोलने वाले थे। साल 2020 में कोरोनाकाल में उसकी सलेक्शन यूनियन ऑफ़ वर्ल्ड कार्टूनिस्ट( union of world cartoonist) में हुई और अपनी कला से दुनिया के कला जगत में हिमाचल प्रदेश का नाम रोशन किया। इससे पहले यह युवा आर्टिस्ट साल 2019 में चम्बा जिला के अंतर्राष्ट्रीय मिंजर मेला का लोगो, थीम और न्यू चम्बा का डिज़ाइन बनाकर अपने हुनर की छाप छोड़ चुका है। साल 2018 में उसका आर्ट वर्क एडसॉफ द वर्ल्ड ( Adsoftheworld) मे भी पब्लिश हुआ है। दिल्ली में आयोजित आल इण्डिया डिजिटल आर्ट एग्जिविशन में प्रख्यात मूर्तिकार राम सुतार उनके काम की तारीफ़ कर चुके हैं। ऊना के सुनील सूरी छोटी उम्र में एक आर्टिस्ट और कार्टूनिस्ट के तौर इंटरनेशनल लेवल पर सुर्खियां बटोर रहे हैं।
बचपन से रंगों से खेलने का शौक
सुनील सूरी को बचपन से ही कला में रूचि थी और रंगों से खेलने में आनंद आता था। जब डीएवी स्कूल ऊना से पढाई शुरू हुई तो रंगों से सही ढंग से मुलाक़ात हुई। सुनील ने स्कूल के दिनों में चित्रकारी में हाथ आजमाना शुरू किया और जब स्कूल की प्रतियोगिताओं में उनके बनाये चित्रों को दाद और पुरस्कार मिलने लगे तो चित्रांकन में रूचि बढ़ती गई। नियमित और निरंतर अभ्यास से सुनील की कला में दिनोंदिन निखार आता गया और स्कूल की पढ़ाई पूरी करते ही सुनील ने कला की दुनिया में गहरे उतरने के लिए कला की पढ़ाई के लिए मन बना लिया।
फाइन आर्ट्स में स्नातकोत्तर
प्रोफेशनल आर्टिस्ट बनने के लिए सुनील सूरी ने कॉलेज ऑफ़ आर्ट्स दिल्ली से फाइन आर्ट्स स्नातक किया। यहीं पर कला, कला साधकों और चित्रकला के माहिरों से मुलाक़ातें उसके अंदर के कलाकार को और दक्ष करती गईं और चित्रकला की बारीकियों को जानने की ललक पैदा हुई। फाइन आर्ट्स की पढ़ाई के साथ नियमित कला साधना से उसकी कला निखरती गई। सुनील सूरी ने फाइन आर्ट्स करने के बाद चंडीगढ़ से मास्टर इन फाइन आर्ट्स की डिग्री ली। सुनील जब दिल्ली में था तो उसे नेशनल गैलरी ऑफ़ मॉर्डन आर्ट्स में दस दिन की इंटरशिप का अवसर मिला।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *