म्हाचले दा मिर्जा गालिब, कुल्लू दा ‘चांद कुल्लवी’,  हिमाचल प्रदेश भाषा, कला कने संस्कृति अकादमी दे पहले अध्यक्ष थे लालचंद प्रार्थी

Spread the love

म्हाचले दा मिर्जा गालिब, कुल्लू दा ‘चांद कुल्लवी’,  हिमाचल प्रदेश भाषा, कला कने संस्कृति अकादमी दे पहले अध्यक्ष थे लालचंद प्रार्थी

कुल्लू से वीरेंद्र शर्मा ‘वीर’ दी रिपोर्ट

म्हाचली पहाड़ी यनिके हिमाचली भाषा दा त्याहस कोई चाळी-पंजाह साल पराणा नी ऐ। जाहलुए ते इत्थु पहाड़ा पर मानव सभ्यता बसी ताहलुए ते ई आम बोल-चाल दी भाषा पहाड़ी बि रही। अज्ज म्हाचली भाषा जेहड़ा मकाम हासल कित्तेया तिस पर सबनां जो बड़ा मान होणा बि चाहिदा, कनै है बि। कैंह कि मातृभाषा दा माहणुए दे मन, बुद्धि, बचार, त्याहसक कनै सांस्कृतिक बकास बड़ा डुग्घा योग है। जिह्यां माऊ दे दुद्धे पी करी माहणु बड्डा हुंदा, तिह्यां ई मां बोली जानि मातृभाषा तिद्हा मानसिक बचारिक कनै सांस्कृतिक बकास। म्हाचली पहाड़ी यनिके हिमाचली भाषा दे मंझा जंत्री, बदंग, भजन, अणगिणत पोथु कनै कताबां सदियां ते प्रचलन च हन्न। कनै लगातार लखोंदियां औआ करदियां।

15 अप्रैल 194 8 दैं त्याहडैं जाहलु बत्ती पहाड़ी रयासतां मळाई के म्हाचल प्रदेश प्रशासनिक इकाई दा गठन होया। म्हाचल प्रदेशे दे गठणे दा त्याहस असल च म्हाचली भाषा दे बकासे दा त्याहस है। इस ताई मतेयां लोकां दा डुग्घा योगदान ऐ। राणी विक्रम, कवि दत्तू, महाराजा संसार चंद ,रिषदेव डोगरा, कुंदामल डॉ. सुनीति कुमार चटर्जी, पद्म विभूषण डॉ. सिद्धेश्वर, पहाड़ी गांधी बाबा कांसी राम, हिमाचल निर्माता डॉ. यशवंत परमार, चौधरी हरिराम, ठाकर भूमिदेव, रूप सिंह फूल, टीकाराम जोशी, फजल अली, हरनाम दास, देसराज महाजन, हरिचंद पराशर, राजकुमारी अंबिका, सुदर्शन कौशल नूरपुरी, पंडित मोहन लाल दत्त, बख्शी प्रताप सिंह, राहुल सांकृत्यायन, डॉ. शम्मी शर्मा , वैद्य सूरत सिंह, स्वामी पूर्णानंद, पंडित पदमदेव, रायसाहिब चौधरी, ज्ञान सिंह, बगैरा हन्न। इन्हां सारेयां सौगी हि मूहरलिया लैणी च इक्क होर ना औंदा सैह ना ऐ लालचंद प्रार्थी चांद कुल्लवी।

किसान परिवार च पैदा होये

लाल चंद प्रार्थी होरा दा कश्मीरी बाह्मण परुआर कोई चार पंज सौ साल पैहलैं कश्मीर चे जम्मू चंबा हुंदा होया। पैहलैं लौहळ-स्पीति दे उदयपुर तांदी रस्ते पर उदयपुर ते करीब 7 – 8 किलोमीटर दूर थिरौट दे नेडैं दूर पहाड़ा च सैंद्धाड़ी नाएं ग्रांएं आई बसेया। फिरी करीब दो ढाई सौ साल पैहलैं कुल्लू जिले च मनाळी दे नेडैं नग्गर। लालचंद प्रार्थी होरां दा जन्म साधारण किसान पिता टेकचंद दे घरैं माता रेवती देवी दिया कुखा ते घरैं 3 अप्रैल 1916 दैं शुभ ध्याडै़ं होया।

पढ़ाइया च तेज प्रार्थी

लालचंद प्रार्थी नै पंद्रह सालां दिया उम्रा च सन 1931 च कुल्लू जिले दे इकलौते हाई स्कूले ते दसमीं कित्ती। पढ़ाइया च तेज, कुदरत कनै संस्कृति प्रेमी प्रार्थी बचपणे ते ई हर कम्मे च तेज था। एह गल्ल तिन्हां दे गुरुकनै अपणे समे दे कुल्लू दे बड्डे विद्वान स्व. डोलाराम ठाकुर कनै महंत अनूप राम बि बोलदे थे। सैह दसमीं करने ते पैहलैं ई कवतां बगैरा लिखणे लगी पेयो। दसमीं पास करने ते बाद आगे दी पढ़ाइया खातर लाहौर चली गे कनै 1934 च एसडी कॉलेज लाहौर ते भारतीय चिकित्सा प्रणाली आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति पर स्नातक कित्ती।

‘सेवा सदन नग्गर’

पहाड़ां च बसणे आळी जनता दे दुख-दरिद्र, कमजोरियां बखूबी समझदे थे। म्हेसा लोकां दि सियोआ ताईं त्यार रैहणे आळे लाल चंद होरां कुल्लू स्कूले च पढ़देयां ई नग्गर ते ई समाजिक संस्था ‘सेवा सदन नग्गर’ सुरू करी तियो थी। आयुर्वेद च स्नातक करदे वगत सतारहां बरियां दे थे जां जे तिन्हां दूंह पेजां दी लम्मी कबता लाहौर पत्रिका दे सन 1933 च ‘कांगड़ा समाचार’ च छपी। जिहं तिक्कर लाहौर रेह देशप्रेम, सेवाभाव, चरित्र निर्माण कनै शृृंगार रस दियां रचना लगातार कांगड़ा समाचार, डोगरा संदेश  कनै देहात सुधार च छपदियां रहियां। लाहौर ते बापस आई के बुजुर्गां दी साक्षरता कनै अनपढ़ जनता दी शिक्षा ताईं ‘ग्राम सुधार साक्षरता कमेटी’ बणाई के कम्म कित्ता।

‘सचित्र बाल रामायण’ दा लेखन


जादिया ते पैहलैं ई सन 1939 च अपनी पैहली स्वतंत्र कताब ‘सचित्र बाल रामायण’ लिखी जो कि हुण विलुप्त ई ऐ। दुए विश्व युद्ध दी सुरुआत ते लई के देसे दिया जादिया तिक्कर तिन्हां अपणे लिखणे दा दुआ ध्या चलाया, भारत छोड़ो आंदोलन च जोरैं-शोरैं हिस्सा लेया। संगीत कनै लोकनृत्य च पारंगत होए कनै प्रदर्शन मौका तोपदे रेह कनै प्रदर्शन करदे बि रेह। सौग्गी-सौग्गी आयुर्वेदिक चिकित्सक ते तौर पर सिओआ बि करदे रेह। मंत्री बणने ते बाद मतेयां ग्रां च प्रौढ़ शिक्षा केंद्र बि खोले। प्रौढ़ शिक्षा ताईं दो पाठ्य पुस्तकां बि लिखियां। इन्हां दियां कताबां च स्थानीय त्याहस, लोककथां जरूर सामल रैंहदियां।

धर्मशाला टी-एस्टेट च मनेजर
एह बि सौक इ था पई 1939-1941 तिक्कर धर्मशाला संगीत स्कूल खोल्या था। स्कूल ज्यादा दिन तां नी चल्ला पर प्रार्थी होरां दी लाहदी पछयाण पूरे पहाड़ी प्रदेशे च होई गई। गुजारे ताईं किछ समा धर्मशाला ई टी-एस्टेट च मनेजर बणी के कम्म कित्ता, कनै कानियनिस्ट पार्टी दे सर सिकंदर हयात खां कनै छोटू राम होरां दे संपर्क च बि आए। देसे दिया जादिया ते पैहलैं जाहलु कौंसिल दे चुनाव होणा लग्गे तां सबना दी नजरा च चढ़े। मुकाबले ते बचणे करी कनै पंचायत अधिकारी बणाई ते। पर सैह कुथु बज्जी के रैहणे आळे थे। तिन्हां तां किछ होर ई मथेया था। इस करी सैह नौकरी बि छड़ी ती। छमाही पत्रिका ‘देवभूमि’ चलाई, संपादन कनै प्रकाशन कित्ता। इहा पत्रिका दे दो स्तंभ उडदू च ‘लुहरी से लिंगटी तक कनै कुल्लुई च’ प्रार्थी दे खड़प्पके’ बड़े मसहूर होए। इन्हां दूनी स्लोग्ना हेठ धार्मिक, सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक व्यवस्था पर लोकां जो जागरुक कित्ता।

‘नया पंजाब जिंदाबाद’ संपादकीय
1952 पैहले आम चुनाव होए तां कुल्लू ते पंजाब विधानसभा ताईं निर्वाचित होए। उसते बाद म्हाचल बणी गेया पर। इक्की बरिया 1957-1962 जो छड्डी लगातार 1977 तिक्कर कुल्लू ते जितदे रेह। लेख, कविता, नज्म, गज़ल लेखन काज लगातार चली रेह्या। 1956 च ‘नया पंजाब जिंदाबाद’ दे नाएं ते देवभूमि च संपादकीय लिखेया। कांगड़ा, कुल्लू, ऊना आदि किछ लाकेया कनै उत्तराखंड दे किछ हिस्सेयां जो बि विशाल म्हाचल च सामल करने दी वकालत कित्ती। कनै कांग्रेस अध्यक्ष बणने ते बाद कुल्लू कनै सारे कांगड़ा जिले जो म्हाचल च सामल करने दा रेजोल्यूशन पास कराया। म्हाचली त्याहस पर बड़ी मिणहत कित्ती कनै जाणकारिया दा समुद्र कठा कित्ता।

 ‘हिमाचल कला संस्कृति एवं भाषा अकादमी’ दा गठन
इक्क नवंबर 1966 जो जाहलू पंजाब दे पुनर्गठन ते बाद विशाल म्हाचल बणेया प्रार्थी जी नै दिल लाई के पहाड़ी भाषा कनै संस्कृति दे विकास पर कम्म कित्ता, कनै पहाड़ी भाषा ताईं भाषा सलाहकार समिति दा गठन कित्ता। लोकां जो मां बोलिया च लिखणे ताईं प्रेरित कित्ता। 1967-1977 तक मंत्री रैंहदयां मसूस कित्ता पई शिक्षा पभाग दे अधीन राज भाषा नै न्याय नी होई सकदा। इस करी ‘हिमाचल कला संस्कृति एवं भाषा अकादमी’ दा गठन कित्तेया। जिहा दा उद्घाटन 2 अक्तूबर 1972 दे ध्याडैं होया। अगलैं इ साल मुखमंत्री डॉ. परमार होरां दे सोगी मिली के सुतंत्र भाषा एवं संस्कृति विभाग दी स्थापना कित्ती।

‘कुल्लूत देश की कहानी’

सैकड़ेयां दे स्हाबैं गज़ल लिखी, मुशायरे करुआए, पर व्यस्तता करी छपुआई नी सके। फिरी बि तहरीक, पासवां, शायर, बीसवीं सदी च गज़ल छप्पदियां रहियां। सन 1971 च 332 बरकेयां दी व कालजयी कताब ‘कुल्लूत देश की कहानी’ खंड छपी। अपर खंड दो चाहि के बि छाप्पी नी सके। गज़ल संग्रह ‘बजूदो अदम’ बि तिन्हां दे सुरग सधारी जाणे ते बाद 1986 च हिमाचल कला संस्कृति भाषा अकादमी नै छाप्पेया जिहा दे सैह पैहले अध्यक्ष थे। मता किछ सैह उड़दू च लिखदे थे, पर पैहला प्यार पहाड़ी भाषा ई थी। टैमे-टैमे पर गांह बधी के जगह-जगह पहाड़ी कवि सम्मेलन कित्ते। पहाड़ी भाषा च कविता, एकांकी, कहाणी, निबंध, उपन्यास संग्रह लिखणे ताईं प्रेरत कित्ता, कनै कई पुरस्कार योजना बणाइयां।

लोक संस्कृति दा संरक्षण

कालजां दियां पत्रिकां च पहाड़ी अनुभाग बणाए। पहाडिय़ा च बोलणे-लिखणे दी हीन भावना ते उप्पर उठी के आगे बधणे जो प्रेरत कित्ता। लोक संगीत, लोककलां, लोकनृत्य ताईं  गीत गाए, पैरां घंघरू बन्ही के नाटियां पाई, जनता जो अपणी पहाड़ी संस्कृति बचाणे ताईं प्रेरत कित्ता। सैह गलांदे थे पई हिंदी असां री राष्ट्रभाषा ऐ, पर जेहड़ी भाषा सांजो माऊ दैं दुद्धैं मिल्ली सम्मान तां तिहा दा बि होणा चाहिदा। इस करी पहाड़ी दा म्हाचली राजभाषा बणाया जाणा जरूरी ऐ।

दिल्ली च पहाड़ी सम्मेलन 
पहाड़ी भाषा प्रेमी कनै तिन्हां दे साथी  मुखमंत्री डॉ. परमार होरां दे सीरबाद कनै 1970 दे शुरू च ई विशाल पहाड़ी लेखक सम्मेलन कित्ता। 30 सितंबर 1970 दे ध्याडै़ हिमाचल प्रदेश विधानसभा च ‘पहाड़ी भाषा’ जो लोकां दी मातृभाषा दे रूप च मान्यता देणे दा प्रस्ताव पारित करुआया। 31 जनवरी 1971 जो दिल्ली च पहाड़ी सम्मेलन होया तिदे च मुख्यतिथि डॉ. परमार कनै अध्यक्ष प्रार्थी होरां बणे, कनै गर्जी के पहाड़ी दी वकालत कित्ती। 1971 दी जनगणना च पहाड़ी जो मातृभाषा दे रूप च अपनाणे दा निस्चा कित्ता। कनै विकास ताईं अकादमी दी पत्रिका ‘हिमभारती’ शुरू कित्ती। आलोचकां ‘पहाड़ी मुंडू’ कनै डोगरावीर दे नारे लाए। प्रार्थी होरां लोकां जो इसा हीन भावना ते उप्पर उठी के कम्म करने जो प्रेरत कित्ता।

कुल्लू दे दसहरै जो अंतरराष्ट्रीय पछ्याण
जाणे दा टैम नी था, पर 11 दिसंबर 1982 जो प्रार्थी होरां पहाड़ी भाषा दे अपणे राजभाषा दे सुपणे जो बिच-मझधार छड्डी के सुरग सधारी गे। दुखे दी गल्ल पई तिन्हां दा दिख्येया सुपणा 36 बरियां बीति जाणे ते बाद हाल्ली बि सुपणा इ ऐ। जाहलू देस आजाद होया तां प्रार्थी होरां कुल्लू ढालपुर इक्क रुख लाया था, हुण लोक तिस रुखे दी पूजा करदे। प्रार्थी होरां ई  कुल्लू दे दसहरै जो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पछ्याण दुआई। इस करी तिन्हां दियां यादा च तिन्हां दे नाएं ते लाल चंद प्रार्थी कला केंद्र ओपन थियेटर बणाया गेया। जिस च दसहरे समेत सारा साल कार्यक्रम हुंदे रैहंदे।

जगतसुख ग्राएं ‘प्रार्थी री जाच’

3-6 अप्रैल तक हर साल जगतसुख तिन्हां दे सौरेयां दैं ग्राएं ‘प्रार्थी री जाच’ नाएं ते मेला लगदा, तिस च मां शर्वाणी-शिव शक्ति, भनारा नाग कनै संध्या गायत्री दी पूजा तां अंतिम ध्याडैं लाल चंद प्रार्थी दी पूजा कित्ती जांदी। हिमाचल प्रदेश भाषा कला संस्कृति अकादमी तिन्हां दी जामणी दे ध्याडैं 3अप्रैल जो हर साल राज्यस्तरीय कार्यक्रम आयोजित कर दी। जयदेव विद्रोही होरां तिन्हां जो म्हाचले दा मिर्जा गालिब गलाया कनै कताब लिखी ‘हिमाचल का मिर्जा गालिब लालचंद प्रार्थी चांद कुल्लवी’। देवप्रस्थ साहित्य एवं कला संगम कुल्लू नै डॉ. विद्या चंद ठाकुर दे संपादन च ‘किछ गल्लां समेटियां, प्रार्थी के बिखरे फूल’ लिखी।

लवी मेले च पढ़ी कविता
प्रार्थी होरां ने म्हाचले दे पैहले मुख्यमंत्री डॉ. वाईएस परमार दी अध्यक्षता में रामपुर लवी मेले च ‘एक सुपना-एक सच्चाई’ कविता पढ़ी थी। यह कविता आज भी लोकप्रिय ही।

एक सुपना-एक सच्चाई
चंबा कल्लू कांगड़ा, किन्नौर इक देस ओ।
ऊना, देहरादून, हिमाचल प्रदेश ओ।
इक म्हारा खाण पीण इक परवार ओ।
इक बोल-चाल इक अंगण दुआर ओ।
इक म्हारे सुपणे दा छोटा संसार ओ।
इक म्हारे रसम रूआज इक भेस ओ।
लाहुल-स्पीति हिमाचल परदेस ओ।
सांझे देवी देऊ सांझा रेणुका रा सर ओ।
नैना ते जुआला चिंता अंबिका रा घर ओ।
कण-कण बोले महादेव हर हर ओ।।

सांझे देवटसिद्ध, बालकरूपी मनम्हेस हो।
बिलासपुर, मंडी, हिमाचल परदेस ओ।।
कुल्लू रा दुशहरा चंबे मिंजरा दे मेले ओ।

कांगड़े सिरमौर छिंजा घुलदे गुरु चेले ओ।
रामपुर किठे हुंदे पहाड़ी अलबेले ओ।
चिलम नरेलू हत्थे मुंढे पटू खेस ओ।
शिमला कंडाघाट हिमाचल परदेस ओ।
सांझे पोण पंछी बण सांझे नदी-नाल ओ।
टोए टिब्बे रकड़ पैली बिखड़े कुआल ओ।
चंबे रा चुगान सांझा सांझी नैनीताल ओ।
कोई न लड़ाई इत्थु, शांति दा संदेस ओ।
देश दा रखवाला मेरा पहाड़ी परदेस ओ।
सांझे म्हारे सुपणे तां सांझी म्हारी निंद ओ।

सांझी म्हारी राम राम सांझी जय हिंद।।
सांझी परदेसियां सुकाई म्हारी जिंद ओ।
लद्री खांदे होया काया जो कलेस ओ।
महासू, सिरमौर, हिमाचल परदेस ओ।
पापियां बछोडी म्हारी मितरी पराणी ओ।
अग्ग दिन्दे इक्की हत्थे दूजे हत्थे पाणी ओ।

पल्ले नहीं पौंदी करदे गल अणजाणी ओ।
बचो पहाडी लोको! सुख रक्खे परमेसर ओ।
पांगी भरमौर हिमाचल परदेस ओ।।
रही नी हुंदा जित्थू दिल्ल नयों मिल्लदा।
सेही बी नी हुंदा जुण दंद रहे हिल्लदा।
सूने रा संगार करी फुल्ल नयों खिल्लदा।
मान तां मरियादा बाझी मरना है हमेस ओ।

राजी रहणा वणना जद पहाड़ी परदेस ओ।

जिमीं तेरी लैणी लोकां टिंड बी सुआरनी।
मास तेरा खाई लैणा हड्डी गंगा तारनी।
बाग उन्हां लाई लैणे जिंद तेरी मारनी।
भोलेआ माणहुआ तिजो होणा परदेस ओ।
मोड़ वागां! चल्ल हिमाचल परदेस ओ।।
व्यास-सतलुज दा एह नीर नहीं सुकदा।
पहाडीआं दा जोश ते उफान बी नी रुकदा।

पहाड़ी परदेस बाझी झगड़ा नी मुकदा।
झूठे-मूठे बन्नेओ री देणी पट्टी मेस ओ।
जिंदाबाद कुल्लू! हिमाचल परदेस ओ।।
अज मिल्ली लोह दी सुगंद असां खानी ओ।

लोकां बिच रही के न इज्जत गुआणी हो।

लालचंदा जोड़ी लैणी मित्तरी पराणी ओ।
म्हारा नारा! चल्लो हिमाचल परदेस ओ।
म्हारा देस बोलो हिमाचल परदेस ओ।।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.