मिलिए 21 साल के हिमाचली उद्यमी प्रिंस से, पढ़ाई छोड़ दिल्ली में स्थापित किया खुद का उद्यम

Spread the love

मिलिए 21 साल के हिमाचली उद्यमी प्रिंस से, पढ़ाई छोड़ दिल्ली में स्थापित किया खुद का उद्यम
विनोद भावुक की रिपोर्ट
यह प्रेरक कथा है 21 साल के एक हिमाचली युवक के हुनर की, जिसने अपनी प्रतिभा के दम पर दिल्ली में खुद का उद्यम स्थापित कर साबित कर दिया हैँ कि अगर कुछ लीक से हट कर कर गुजरने का जज्बा हो तो हर बाधा छोटी पड़ जाती है। प्रिंस एलईडी बल्ब, लालटेन व मोबाइल चार्जर्स बनाकर ऑनलाईन पोटल श्चह्म्द्बठ्ठष्द्गरुश्वष्ठ और ऑफलाईन सेल करता है। वह घरों व संस्थानों के लिए सोलर सोल्यूशन भी उपलब्ध करवाता है।उसका इरादा अपने उत्पादों को पूरी तरह से मेक इन इंडिया बनाने का है। अब प्रिंस अपने कारोबार को विस्तार देने की तैयारी में है।
बीच में छोड़ दी इंजीनियरिंग की पढ़ाई
हमीरपुर के प्रिंस पंजाब से इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने गया था। जिस कॉलेज में एडमिशन लिया वहां का माहौल अनुकून नहीं होने की वजह से उन्होंने अपनी पढ़ाई बीच में छोड दी। गुडग़ांव में एक इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी में पहली इंटर्नशिप में ही पिंस के जीवन को दिशा दे दी। हालांकि अपने संघर्ष के दौर में प्रिंस ने कई नौकरियां बदलीं। प्रिंस इस मामले में लकी रहा कि उसने जहां भी जॉब की, उसके सीनियर्स उसके प्रति काफी उदार थे। प्रिंस की सीखने के प्रति जबरदस्त ललक थी। उसने तेजी के वे तमाम चीजें सीखी जो एक सफल उद्यमी के लिए बेहद जरूरी थीं।
उद्यमी बनने की थी ललक
प्रिंस के दिल में शरू से उद्यमी बनने की इच्छा घर कर गई थाी। कॉलेज के दिनों में वह इंटरनेट के चमत्कारों से प्रभावित हो चुका थरा और पैसे कमाने के तरीके के बारे में काम कर रहा था। उसने एक वेब होस्टिंग कंपनी भी शुरू की थी। अब वह एलईडी बल्ब, लालटेन, मोबाइल चार्जर्स और कुछ सोलर उपकरण बनाता है और बेचता है। प्रिंका कहना है कि अपने उत्पादों के निर्माण के लिए उसे सौर पैनल विदेशों से आयात करने को मजबूर होना पड़ता है, लेकिन उसका इरादा अपने उत्पादों को पूरी तरह से मेक इन इंडिया बनाने का है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *