मिलिए हिमाचल प्रदेश की इस योग गुरू से, मीनाक्षी ठाकुर विदेशों तक बढ़ा रही पहाड़ का मान, लीक से हटकर खुद को साबित कर पेश की अनूठी मिसाल

Spread the love

मिलिए हिमाचल प्रदेश की इस योग गुरू से, मीनाक्षी ठाकुर विदेशों तक बढ़ा रही पहाड़ का मान, लीक से हटकर खुद को साबित कर पेश की अनूठी मिसाल
चंडीगढ़ से वीरेंद्र शर्मा ‘वीर’ की रिपोर्ट
लीक से हटकर कुछ कर गुजरने का सपना पालना और फिर अपने सपने को पूरा करने के लिए अथक मेहनत कर कामयाबी के पन्नों पर ऑटोग्राफ कैसे दिए जाते हैं, यह शिमला जिला के जुब्बल इलाके के मांदल गांव की मीनाक्षी ठाकुर बेहतर बता सकती हैं। गांव के टाटपटी वाले सरकारी स्कूल में पढऩे वाली आम घर की लाडली आज इंटरनेशनल योग ट्रेनर बन कर तिरंगें की शान बढ़ा रही है।
राष्ट्रीय स्तर के कई आयोजनों में भाग ले चुकी मीनाक्षी ठाकुर इंटरनेशनल योगा कोच के तौर पर दक्षिणी कोरिया और थाईलैंड में भारत का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं। वे इन दिनों चंडीगढ़ में गैर सरकारी संस्था ‘मिसाल’ के साथ जुड़ कर चंडीगढ़, हिमाचल प्रदेश व पंजाब में योग के प्रचार- प्रसार में जुटी हुई हैं।
पुरूषों के दबदबे वाले क्षत्र में सफल कैरियर
मीनाक्षी ठाकुर ने स्कूली शिक्षा गांव के ही सरकारी स्कूल से हासिल की और उच्च शिक्षा के लिए चंडीगढ़ की राह पकड़ी। कॉलेज की पढ़ाई के दौरान मीनाक्षी ठाकुर योग की ओर आकर्षित हुई। कॉलेज के योग गुरु चमन लाल कपूर के मार्गदर्शन में मीनाक्षी ने न केवल योग को अपनी पढ़ाई में शामिल किया, बल्कि पुरूष प्रधान कहे जाने वाले योग में कैरियर बनाने का निर्णय लिया। उन्होंने खुद को एक योज्य योग गुरू के तौर पर ढालने के लिए खूब मेहनत की। योग की उपयोगिता को जानने की भूख मीनाक्षी ठाकुर को देश- विदेश के कई येाग संस्थानों तक ले गई और एक प्रशिक्षित ट्रेनर के तौर पर खुद का साबित कर दिखाया।
घर से मिली लीक से हटकर करने की सीख
बीस साल की उम्र तक गांव की जिस लडक़ी को योग के बारे में कोई ज्यादा जानकारी नहीं थी, अगर आज वह इंटरनेशनल योगा ट्रेनर बर कर हिमाचल की शान बढ़ा रही है तो उसके पीछे उनके परिजनों की सोच और घर के माहौल की प्रेरणा शामिल रही है। पिता दिनेश ठाकुर वॉलीबाल के राष्ट्रीय खिलाड़ी रहे हों, बड़े भाई चेतन ठाकुर फुटबाल के राष्ट्रीय खिलाड़ी और छोटे भाई विवेक ठाकुर जुडो के नेशनल प्लेयर हों, उस घर की लाडली के योग में कैरियर बनाने के फैसले का न केवल स्वागत हुआ, बल्कि परिजनों उसे बेहतर करने के लिए प्रोत्साहित किया।
अब रोल मॉडल और थूथ आइकन
योग गुरू बनकर चमकने वाली मीनाक्षी ठाकुर आज इंडिया की यूथ आइकन बन गई है। देश के लाखों युवाओं की रोल मॉडल बनने वाली मीनाक्षी ठाकुर का कहना है कि अभी भी पहाड़ की महिला शक्ति को उसकी प्रतिभा के प्रदर्शन के लिए जागरूकता की बड़ी जरूरत है। वे कहती हैं कि अपने मान, सम्मान और आत्म सम्मान के लिए महिलाओं को एकजुट होना होगा। अभी भी महिलाओं को कई दबावों और तनावों के बीच होकर गुजरना पड़ रहा है। अपनी लड़ाई के लिए खुद का सक्षम होना बेहद जरूरी है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *