मिंजर पर स्पेशल – हिमाचल प्रदेश के लिए लक्की चंबा की मक्की, मिंजर से है मक्की का सदियों पुराना नाता

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मिंजर पर स्पेशल – हिमाचल प्रदेश के लिए लक्की चंबा की मक्की, मिंजर से है मक्की का सदियों पुराना नाता
चंबा से विनोद भावुक की रिपोर्ट
हिमाचल प्रदेश के चंबा जिला के भांदल इलाके में पैदा होने वाली मक्की को उसके खास गुणों के चलते देश की सबसे उत्तम किस्म की मक्की घोषित किया गया है। भांदल की मक्की गुणवत्ता पूरे देश में सर्वश्रेष्ठ है और इसके बीज में बेहतरीन प्रोटीन और शर्करा है। भांदल इलाके की मक्की की गुणवत्ता को चौधरी सरवण कुमार कृषि विश्वविद्यालय पालमपुर के वैज्ञानिकों ने प्रमाणित किया है।
मक्की की तीन किस्मों का पंजीकरण
कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर अशोक कुमार सरयाल कहते हैं कि कृषि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने भांदल क्षेत्र की हाच्छी (सफेद), रैट्टी (लाल) व चिटकुरी (पॉप कॉर्न) मक्की की तीन स्थानीय किस्मों का संचयन, मूल्यांकन व आइडेटिटिफिकेशन किया है। विशेष गुणों के आधार पर स्थानीय किस्मों के संरक्षण के लिए पौध किस्म और किसान अधिकार प्राधिकरण नई दिल्ली के पास इन तीन स्थानीय किस्मों का पंजीकरण किया गया।
नेशनल प्लांट जीनोम सेवियर कम्यूनिटी अवार्ड
भारत सरकार ने भांदल की मक्की पर शोध करने वाले कृषि विश्वविद्यालय पालमपुर के कुलपति और पंचायत के किसानों को नेशनल प्लांट जीनोम सेवियर कम्यूनिटी अवार्ड से पुरस्कृत किया गया है। केंद्रीय कृषि व किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, केंद्रीय कृषि व किसान कल्याण राज्य मंत्री कैलाश चौधरी के हाथों किसानों को दस लाख रुपए नकद, ट्राफी और प्रमाण पत्र दिया गया।
‘द गोल्डन ग्रेन्स ऑफ हिमाचल प्रदेश’
दुनिया भर के दर्जनों देशों में सेवाएं प्रदान कर चुके मंडी के जाने माने कृषि वैज्ञानिक एवं वरिष्ठ भाजपा नेता डॉ. राजेद्र राजू ने अपनी पुस्तक ‘द गोल्डन ग्रेन्स ऑफ हिमाचल प्रदेश’ में मक्की को सोने जैसा बेशकीमती कहा है। सेवानिवृति के बाद वे कॉपरेटिव सेक्टर में मक्की आधारित कारखाना स्थापित करने की सालों वकालत करते रहे हैं। बेशक डेढ़ दशक पहले डॉ. राजेंद्र राजू के स्टार्टअप आइडिया को सरकार व उद्योग ने हल्के से लिया हो, लेकिन आज सारा देश हिमाचल प्रदेश की मक्की का मुरीद हो चुका है।
मिंजर में मक्की की मंजरी
मक्की का चंबा से लोकजीवन से कितना गहरा सम्बन्ध है कि चंबा में आयोजित होने वाले अंतरराष्ट्रीय मिंजर मेले में सदियों से चली आ रही मक्की की मंजरी की भेंट की पुरातन परम्परा आज भी जारी है। कहा तो यहां तक जाता है कि मिंजर शब्द मंजरी से ही बना है। जाहिर है कि रियासतकालीन चम्बा में मक्की की खेती का खास महत्व रहा है। यही कारण है कि मक्की चंबा के सबसे बड़े लोक उत्सव का हिस्सा बनी।
48681 हेक्टेयर में खेती, प्रति हेक्टेयर 28.2 क्विंटल उपज
हिमाचल प्रदेश में मंडी, कांगड़ा, हमीरपुर, चंबा, बिलासपुर, कुल्लू, सोलन और सिरमौर जिले पारंपरिक मक्की उत्पादन क्षेत्र हैं । पिछले 6 दशकों में मक्की उत्पादन में उल्लेखनीय प्रगति की है। मंडी जिला में सबसे ज्यादा मक्की उत्पादन क्षेत्र है, कांगड़ा, हमीरपुर, चंबा और बिलासपुर का स्थान उसके बाद है। मंडी जिला में 48681 हेक्टेयर में मक्की की खेती होती है और उपज 28.2 क्विंटल प्रति हेक्टेयर है। प्रदेश में और क्षेत्र मक्की उत्पादन के अधीन लाने की संभावनाएं हैं।
मुंबई तक मक्की की रोटी की पहुंच
बिलासुपर के बागी बनौली की मक्की की रोटी और माह की दाल के चर्चे दूर- दूर तक हैं। चंडीगढ़ से अपने वाहन से मनाली आने वाले पर्यटक यहां कि मक्की की रोटी और माह की दाल का आनंद लेना नहीं भूलते। कोई वक्त था जब यहां केवल एक ढ़ाबे पर मक्की की रोटी बनती थी, लेकिन अब कई ढाबों पर मक्की की रोटी व माह की दाल उपलब्ध है। यहां के कारीगर मुंबई में आयोजित बड़ी पार्टियों में मक्की की रोटी बनाने का हुनर दिखा चुके हैं और अमिताभ बच्चन जैसे सितारे के मुंह से तारीफ सुन चुके हैं।
मक्की की मशीन
बिलासपुर के स्वारघाट क्षेत्र की कुटैहला पंचायत के धारभरथा गांव के गुरदेव सिंह ने एक ऐसी मशीन बनाई है, जो चंद मिनट में मक्की के दाने अलग कर सकती है। इस मशीन की न केवल क्षमता अधिक है, बल्कि बाजार में उपलब्ध मशीनों के मुकाबले लागत भी कम है। महज छह से सात हजार की लागत से यह मशीन तैयार हुई है।
‘चंबा के भांदल में पैदा होने वाली मक्की की पहचान देश में सबसे उत्तम किस्म की मक्की के तौर पर हुई है। देश भर के लिए बड़े पैमाने पर मक्की का गुणवता वाला बीज उपलब्ध करवाने के लिए इस क्षेत्र में संभावनाएं तलाशी जा रही हैं।’
वीरेंद्र कंवर , कृषि मंत्री हिमाचल प्रदेश।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *