भारतीय सेना के इस कैप्टन ने प्राकृतिक खेती के लिए खोला मोर्चा, बंजर जमीन पर उगा दिए चार सौ फलदार पेड़, कंदरौर के रिटायर्ड कैप्टन जिंदू राम ने 78 साल की उम्र में कर दिखाया कमाल

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

भारतीय सेना के इस कैप्टन ने प्राकृतिक खेती के लिए खोला मोर्चा, बंजर जमीन पर उगा दिए चार सौ फलदार पेड़, कंदरौर के रिटायर्ड कैप्टन जिंदू राम ने 78 साल की उम्र में कर दिखाया कमाल
बिलासपुर से विनोद भावुक की रिपोर्ट
बिलासपुर जिले के कंदरौर गांव के रिटायर्ड कैप्टन जिंदू राम ने 78 साल की उम्र में बंजर भूमि पर जहां सिंचाई के लिए पानी तक उपलब्ध नहीं, चार सौ फलदार पेड़ उगा कर साबित किया है कि अगर जुनून हो तो अपनी असीमित क्षमता से इंसान जो चाहे हासिल कर सकता है । कैप्टन जिंदू राम के बगीचे में दस अलग-अलग किस्म के 400 फलदार पौधे अपनी किशोरावस्था में हैं। उनके बगीचे में लहलाहते अनार, कीवी, गलगल, नींबू, मौसमी, सेब, कटहल, आम, अखरोट, बादाम, खुमानी, पलम और आडू के पौधे उनकी जिद की कहानी खुद ब्यान करते हैं। पौधों की उम्र अढ़ाई साल है, अनार में पहली बार फूल लगे तो मौसमी की पहली फसल तैयार हो रही है। पांच साल बाद यह बगीचा पूरी तरह से फल फूल जाएगा। उन्होंने इन पौधों को प्रकृति प्राकृतिक खेती विधि का ही प्रयोग कर उगाया है। वह अपने बगीचे में अपने घर में देसी गाय के गोबर और गोमूत्र से बनी दवाइयों का प्रयोग कर रहे हैं। अपने साथ वे आस-पास के 40 अन्य किसानों को भी जहरमुक्त खेती करने के लिए प्रेरित कर रहे हैं।
फिट रहने के लिए बगीचे का साथ
सेना में 27 साल तक सेवा देने के बाद ओरनरी कैप्टन रिटायर हुए जिंदू राम ने ढलती उम्र में खुद को फिट रखने के लिए अपनी बंजर भूमि पर लगातार अढ़ाई साल से कड़ी मेहनत कर बगीचा तैयार किया है। कैप्टन जिंदू राम हर दिन सुबह सात बजे से शाम छह बजे तक सारा दिन अपने बगीचे में ही रहते हैं। अपने बगीचे में फलदार पौधे लगाने के अतिरिक्त वे मक्का, अरबी, खीरा आदि उगाते हैं। पौधों और फसलों को नाइट्रोजन सहित अन्य पोषक तत्व मिल सके इसके लिए जिंदु राम मिश्रित खेती करते हैं। पौधों के चारों तरफ लहसून और गैंदा भी लगाते हैं ताकि पौधों को बीमारियों से बचाया जा सके।
सेना के बाद राजनीति और अब बागवानी
कैप्टन जिंदू राम ने सेना में सेवायें देने के बाद अपने गांव की सहकारी सभा के अध्यक्ष पद को संभाला और घाटे में चल रही सभा को लाभकारी संस्थान बनाने में अहम् रोल अदा किया। सहकारी सभा के अध्यक्ष के तौर पर उनके शानदार काम को देखते हुए पंचायत के बाशिंदों ने उन्हें पंचायत प्रधान बनाने का निर्णय लिया। वे दो बार अपनी पंचायत के प्रधान चुने गए। वे सदर भाजपा मंडल के अध्यक्ष रहने के बाद भाजपा जिला कार्यकारिणी के सदस्य हैं। हालांकि अब उनकी सक्रियता अपने बगीचे में ज्यादा है। कैप्टन जिंदू राम से उनके मोबाइल 9805225533 पर संपर्क किया जा सकता है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *