बोलियां जो देई पहचाण ‘अमर’ होये रणपत्तिया, हिमाचली लोक साहित्य’ लिखणे ताईं अमर सिंह रणपतिया जो मिल्ला अकादमी पुरस्कार

Spread the love

बोलियां जो देई पहचाण ‘अमर’ होये रणपत्तिया, हिमाचली लोक साहित्य’ लिखणे ताईं अमर सिंह रणपतिया जो मिल्ला अकादमी पुरस्कार

चम्बे ते वीरेंद्र शर्मा ‘वीर’ की रिपोर्ट

इह्यां तां म्हाचल प्रदेशे दा हर हिस्सा सोहणा कनै नोखा ऐ। ऐथु दे पहाड़, मदान, नदी-नाले, मंदर सब मन मोही लैंदे, पर चांदिया दी चादर ओह्डेयो हिमालयी क्षेत्र दी कुदरती खूबसूरती, साफ-सुथरी हवा, खडियां, कुआळियां, देवी-देवतेयां दे पूजा विधि-बधान, वास्तुकला धार्मिक-त्याहसक आस्था बखरी-बखरी अपर इक्को लगदी लोक संस्कृति कनै समृद्ध परंपरा, मेले-त्वाहर कनै एत्थु मुसकल ल्हातां च बि खुसी-खुसी रैहणे आळा संतोखी पहाड़ी माहणु सब गल्लां म्हचले दी शान हन्न। ल्हात भौऐं कदी बि कुसी बि जुगे च सौखे न रेह हुन्न, पर म्हाचली माहणु इन्हां ल्हातां च बि बखूबि जीणे दी कला विकसित करी लइयो। जे गल्ल करिए चंबे दी तां देवल होरां दिया कताबा कनै तिहा लिखियां गल्लां साईं चंबा-अचंभा ई ऐ। भले समेयां ते लई अजकणे समें तिक्कर जे गल्ल करिए तां किछ सुख सुबधां च जरूर बाधा होया पर पहाड़ी लोकां संघर्ष पूरी तरह हाल्ली बि जारी ऐ। देह्यां इ ल्हातां ते दो-चार हुंदे इक गरीब कसान परुआरे च श्री हरदयाल होरां दैं घरैं माता हिम्मती देवी दियां कुखा ते 15 मार्च 1930 दे सुभ ध्याडैं चंबा जिले दे प्रीणा (मैहला) ग्राएं च होया। बालक अमर सिंह रणपतिया दा जन्म पढ़ाइया ताईं ल्हात कनै सुविधा दोनों ठीक नी है फिरी बि पिता हरदयाल होरां लिल्ह स्कूले च पाया। पंजमीं पास करने ते बाद चंबा जिले दे इकलौते स्टेट हाई स्कूले च दाखला लेया।

 

चंबे दे राजे ते मिल्ला मजीफा

 


चंबा रियासत दे ताहलकणे राजा लक्ष्मण सिंह दे नाएं पर मिलणे आळे मजीफे ताई म्तयाहन पास कित्ता। इसते बाद दसमीं फर्सट क्लासा च पास कित्ती। घरेलू ल्हात बिल्कुल बि ठीक नी थे, पढ़ाई जारी रखणे ताईं मत्यां परेसानियां झेलियां। पंजाब विश्वविद्यालय नैं पढ़ाई जारी रखणे ताईं 70 रपेये जारी कित्ते, अपर नेडैं कोई कॉळज नी होणे करी न पढ़ाई करी सके, न मजीफा लई सके। गांह पढ़ाइया दी इच्छा थी, प्राइवेट पेपर दित्ते कनै ग्रेजुएशन कित्ती। इसते बाद म्हाचल सरकारा बीटी करने ताईं राजकीय शिक्षा प्रशिक्षण कॉलेज जलंधर भेजेया। ओथु ते वापस आई के उदयपुर स्कूलैं मास्टर लगी गे। पढ़ाने सौगी-सौगी पढ़दे बि रेह, कनै राजनीति शास्त्र कनै त्याहस विषयां च पंजाब विश्वविद्यालय ते एमए कित्ती। फिरी बेसिक ट्रेनिंग स्कूल राजपुर प्रशिक्षक बणे, कनै बादे च मुख्याध्यापक बणी के सियोआ करदे होए 31 मई 1988 जो रटैर होए।

 

मतेयां मितरां दी मिल्ली सोग

 


अपणी लोक संस्कृति, रीति-रुआज, समाजक व्यवस्था, रहण-सहण, पढऩे-लिखणे कनै खासकर मां बोली पहाड़ी भाषा च लिखणे पढऩे दा शौक रणपतिया होरां जो बचपने ते इ था। टैमे-टैमे पर ताहलुए दे अकादमी दे उपाध्यक्ष नारायण चंद पराशर होरां, अकादमी सचिव, फिरी मुख्यमंत्री प्रोफेसर प्रेमकुमार धूमल, शिक्षा मंत्री ईश्वर दास धीमान, अकादमी सचिव जगदीश शर्मा, बंसी राम शर्मा, बीआर जसवाल, उस वक्ते दे प्रकाशन अधिकारी वर्तमान अकादमी सचिव डॉ. कर्म सिंह होरां रणपतिया जो लिखणे ताईं न केवल प्रेरणा दित्ती, अपर अकादमी दे पासे ते आर्थिक मदद बि कित्ती। सुदर्शन वशिष्ठ, प्रेम शर्मा, पुरषोतम अत्र, उत्तम चंद, प्रकाश चंद कुठियाला, गोपी राम, ब्यास देव, लक्ष्मण दास, आत्मदत, बलदेब शास्त्री, राजकुमार शर्मा, टेकचंद चडकू, कुमारी ललिता शर्मा, उदय सिंह, धर्मपत्नी गायत्री देवी कनै न्याणेया च मुन्नु रवींद्र सिंह, मुन्नियां प्रतिभा, इंदू कने सविता बि जरूरी सहयोग दित्ता। मते होर मित्रां बि शोध ग्रथां ताईं टैमे-टैमे पर समग्री जुटाणे च मदद कित्ती।

 

कईयां भाखां दे जानकार


हिंदी पंजाबी, उड़दू कनै म्हाचली भाषा दे जाणकार अमर सिंह रणपतिया होरां निबंध, कवता, गज़ल बगैरा तां बड़े छैळ लिखदे ही, तिन्हां च बि प्रकृति, धरती, रिस्ते, लोक संस्कृति, पखंड, नसे-पत्ते करदे लोक सामल रैंहदे है, पर जो मजा तिन्हां जो शोध करने कनै लिखणे च औंदा हा तिदहा लाहदा इ नंद हा। लगभग गुआची जांदे हे तोप तल्होफ पांदी बरी, हरिप्रसाद सुमन खरेयां मित्रां चा इक हे। हिंदी संदेश, हिमप्रस्थ, सोमसी, हिम भारती कनै मतिया खुआरां च छपे। भरमौरी बोली च संस्कृत दे बोल्ले जाणे आळे सबदां दा संकलन तिन्हां दिया मिणहता दा परिणाम ऐ।

गाद्दी-हिंदी प्रयोगात्मक शब्दावली

 


गाद्दी-हिंदी प्रयोगात्मक शब्दावली तां अपणे आपे च अनूठा प्रयास था। कहाणियां, कवतां, गज़ल लिखियां मतियां, कनै पत्र-पत्रिकां च छपियां बि पर कताब नि छाप्पी सके। पहाड़ी बोली कनै लोक साहित्य च तिन्हां दी रुचि जो दिखदे होए अकादमी दे सदस्य बणे। 1984 च पहाड़ी भाषा (हिमाचली भाषा) दे वकास ताईं अकादमी दी सामान्य परिषद दे सदस्य बि मनोनीत होए। जनजातियां दा लोकसाहित्य कनै लोककलाएं विषय पर शोध ताईं अधिछात्रवृत्ति मिल्ली। पांगी-पंगवाल जनजातीय संस्कृति पर शोध करी के लिखणे ताईं मति प्रशंसा मिल्ली। किन्नौर से किलाड़ यात्रा वृतांत पर अधारित पुस्तक बि मति सबना पसंद कित्ती। पुरस्कार तां मतियां संस्थां ते होर बि मते मिल्ले, पर सन्मार्ग प्रकाशन दिल्ली ते प्रकाशित होइयो कताब ‘हिमाचली लोक साहित्य’ ताईं अकादमी पुरस्कार मिल्ला। भरापूरा परुआर छड्डी के अमर सिंह रणपतिया जी 10 जनवरी 2012 जो सुरग सधारी गे।

 

लिखियां कताबां

हिमाचली इतिहास और संस्कृति के अंश
गुज्जर जनजातीय लोक संस्कृति
हिमाचली लोक साहित्य
भरमौरी बोली च संस्कृत दे शब्द
गाद्दी-हिंदी प्रयोगात्मक शब्दावली
किन्नौर से किलाड़ यात्रा वृतांत

 

रणपत्तिया होरां दी कवता – धरती सजाई दियां

 

रुख तां हजार लाई धरती सजाई दिआं
इक दुक वाल घरा बी बसाई लिआं
बाढ आई। बाढ! डरा जो मटाई दिआं
दो बाल बच्चे जो विद्या पढ़ाई… लिआं।

इक-इक रुख जिह्यां फलबि हजार दिंदा
चिड़ी कनै पखेरू जो रात दा बसेरा दिंदा
थके-मांदे माणुआं जो ठंडी-ठंडी छां
दिंदापशु कनै डंगरां जो पेटा दा सैह चारा दिंदा

जगा-जगा जंगल! सुंदर नजारा दिंदे
धरती जो दाई मखमल दा बछौणा दिंदे
घरां जो सैह लकड़ी ते दिया देवदार दिंदे
मुंज ते मंजोळु कनै सुखां दा संसार दिंदे।
रुख तां हजार लाई धरती सजाई दिआं….

बड़ा परिवार लाई घरे बि न गहर हुणी
एड़ी बड़ी जातरा जो जगा न जगीर हुणी
घड़ी-घड़ी पला-पला टुकड़े री मार मार पैणी
चम कन्ने चिमड़ी सबी दी नुहार हूणी
रुख तां हजार लाई धरती सजाई दिआं…!

 

               गज़ल

पले लाड़-प्यार बिच, बोतल च रुलदे
रेल-पेल होई करी, से जीवन गवाई बैठे।

दिन-रात महफल, ते रंग-रळी रोज-रोज
लोट-पोट होई करी, समां बि गंवाई बैठे।

सुर ते सराब मिले, मिले कि न सुंदरी
बोतल दे नसे बिच, दौलत गंवाई बैठे।

अंदर नी चज-चार, सज-धज टौहर बाहर
कुसी जो बुलाई घर, यार बि गंवाई बैठे।

बिती रात नसे बिच, उंधे पेई नाली बिच
गाफल च रेंही, माई-बाप बि गंवाई बैठे।

कदी घरे आई फिरी गाळी ते गलोच करी
प्यार ते अदब बिना, भाई भैणा बि गंवाई बैठे।

दर-दर भटकी के, हात्थ पैर जे पसारी जांदे
इक्क पाइए खातर, इज्जत गंवाई बैठे।

लाल परी दे प्यासे बणी भटके बि खासे
देह ता कंगाल होई, सूरत गंवाई बैठे।

छड बि ‘अमर’ ए रो-टोक छड्डी दे
अग्गे कै गलाणा होर, बड़ा सैह गंवाई बैठे।।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.