बर्फीले रेगिस्तान में सपनों की ऊंची उड़ान, पायलट बन कर बनाई पहचान, लाहौल स्पीति की पहली महिला महिला पायलट हैं रवीना ठाकुर, अमेरिका से पढ़ाई कर एक निजी एयरलाइन में दे रही सेवाएं

Spread the love

बर्फीले रेगिस्तान में सपनों की ऊंची उड़ान, पायलट बन कर बनाई पहचान, लाहौल स्पीति की पहली महिला महिला पायलट हैं रवीना ठाकुर, अमेरिका से पढ़ाई कर एक निजी एयरलाइन में दे रही सेवाएं
मनाली से नरेंद्र अगारिया की रिपोर्ट
कामयाबी के आसमान पर ऊंची उड़ान की कई इबारतें हिमाचल प्रदेश की बेटियां लिख रही हैं। बर्फीले रेगिस्तान के नाम से मशहूर लाहौल स्पीति घाटी की की एक बेटी ने ऐसा कारनामा कर दिखाया है, जिस पर प्रदेश नहीं बल्कि पूरे भारत की महिलाओं को नाज होगा। लाहौल- स्पीति की पहली विधायक रहीं लता ठाकुर की पोती एवं पूर्व विधायक रवि ठाकुर की बेटी रविना ठाकुर जिला की प्रथम महिला पालयट हैं। अमेरिका से कमर्शियल पायलट की ट्रेनिंग करने के बाद वे एक प्राइवेट एयरलाइन में बतौर पायलट अपनी सेवाएं दे रही हैं।
कबायली होने का गर्व
लाहौल स्पीति जिले की प्रथम महिला पायलट रवीना ठाकुर अपने नाम के साथ लाहौल- स्पीति जोड़ कर अपने आप को लाहौल स्पीति की होने पर गर्व करती हैं। रवीना का कहना है कि उसे गर्व है कि वह प्रदेश के कबायली क्षेत्र की बेटी है। वह कहती हैं कि उसे अपनी पहचान बताना अच्छा लगता है।
बेटी ने खुद चुनी राह
लाहौल स्पीति का यह परिवार दशकों से प्रदेश की राजनीति से जुड़ा हुआ है। राजनीतिक परिवार से होने के बावजूद रविना ने अपने करिअर के लिए हवाई सेवा को चुना और इसके लिए अपने स्कूली जीवन से ही वह गंभीर रही। परिवार ने भी बेटी की इच्छा का पूरा सम्मान किया और पायलट की ट्रेनिंग के लिए अमेरिका भेजा। रविना अपने इरादों पर अडिग रही और कबायली जिला की पहली महिला पायलट बन रिकार्ड स्थापित कर दिया।
संस्कृति से गहरा प्यारा
रविना को न केवल कबायली संस्कृति से गहरा प्यार है, बल्कि यहां के पारम्परिक वस्त्रों और आभूषणों की वह दीवानी है। फुर्सत के क्षणों में वह घाटी से जुड़े साहित्य का भी अध्ययन करती है। चूंकि रविना का परिवार राजनीति से जुड़ा है, इसलिए घाटी के लोगों के बीच सामाजिक जीवन के उत्सवों में रविना की बराबर उपस्थिति रहती है। वह घाटी के होने वाले उत्सवों में शिरकत करती हैं।
घाटी की रोल मॉडल
साहस और रोमांच वाले पुरूष प्रदान करिअर में खुद को स्थापित करने वाली रविाना ठाकुर लाहौल घाटी की लड़कियों के लिए एक रोल मॉडल है। रविना कहती हंै कि उसे इस बात की खुशी है कि वह उस घाटी में पैदा हुई है, जहां लड़कियों की संख्या लडक़ों से ज्यादा है। यहां की लड़कियां अपनी प्रतिभा दिखा रही हैं। रविना का कहना है कि यहां की महिलाएं दुनिया की सबसे मेहनतकश महिलाएं हैं।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *