फारेस्ट क्लीरेंस को अमलीजामा देना मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर का बहुत बड़ा निर्णय

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

फारेस्ट क्लीरेंस को अमलीजामा देना मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर का बहुत बड़ा निर्णय: अजय राणा

फारेस्ट क्लीयरेंस का दफ्तर देहरादून से हिमाचल शिमला आना एक जनहित का निर्णय है। देहरादून उत्तराखंड में स्थित है।वहां जाना दफतर ढूंढना फिर होटल में ठहरने का बंदोबस्त करना बहुत ही मानसिक पीडादायक स्थिति थी। इस से बहुत राहत लोगों को मिलेगी। सडक निकालने के मामलों में ग्रामीणों के कई चक्कर देहरादून के लगते थे कि आवेदन का क्या हुआ? सरकारी महकमों के अधिकारी ,स्टोन क्रशर, ठेकेदार रेतबजरी में जहां लोग महीनों परमिशन के लिये पिसते थे अब कम खर्च कर इस तरह के आवेदन अपने हिमाचल में ही कर पायेंगे।अब यह जानकारी प्रदेश वासी अपने हिमाचल में ही कर सकेंगे। यह भारी दिक्कत का झमेला था।जिन लोगों ने यह भुगता है वे इस की परेशानी से अबगत हैं । कुल मिलाकर यह बहुत बडा निर्णय सरकार ने किया है।इस से पता चलता है कि ठाकुर जयराम सरकार किस तरह लोगों की परेशानियों को हल्का करने में कटिबद्ध है।जहां 66% के पास भूमि जंगलात विभाग के पास है और सरकार के पास बहुत कम है तो इसमें बहुत दिक्कत आती थी।सड़क स्कूल मैदान आदि कयी तरह की सकारात्मक गतिविधियों में बहुत ही मुश्किल काम आवेदन करने में आती थी। देहरादून जाओ वहां आवेदन करो, फिर आवेदन का क्या हुआ? यह पता करने के लिये बहुत चक्कर देहरादून के लगते थे। इस तरह के आवेदन करने से पहले ही आदमी सिर में पीड़ा का आभास करता था। अब इस पीड़ा से निजात मिले गी व शिमला गये किसी साथी के माध्यम से अपने क्लीयरेंस का पता कर सकता है। उस का आधा बोझ तो इसी कारण से उतर जाये गा कि दफ्तर हिमाचल में है। इस सब को अमलीजामा देने के लिये मुख्यमंत्री जी का बहुत-बहुत आभार।


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *