प्रधानमंत्री मोदी देंगे हिमाचल को ‘बल्क ड्रग्स पार्क’ का गिफ्ट, पहाड़ को मिलेगा हजारों करोड़ का निवेश, लाखों रोजगार के अवसर, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की एक बड़ी उपलब्धि

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

प्रधानमंत्री मोदी देंगे हिमाचल को ‘बल्क ड्रग्स पार्क’ का गिफ्ट, पहाड़ को मिलेगा हजारों करोड़ का निवेश, लाखों रोजगार के अवसर, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की एक बड़ी उपलब्धि
फोकस हिमाचल ब्यूरो, शिमला
देश का फार्मा सेक्टर इस वक्त करीब 4,000 करोड़ डॉलर यानी तीन लाख करोड़ रुपये मूल्य के आसपास है। वर्ष 2024 तक इसके 10,000 करोड़ डॉलर यानी साढ़े सात लाख करोड़ रुपये के करीब पहुंच जाने की उम्मीद है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्ष 2025 तक देश की इकोनॉमी को पांच लाख करोड़ डॉलर यानी मौजूदा भाव पर करीब 375 लाख करोड़ रुपये मूल्य का आकार देने का लक्ष्य रखा है। इसमें फार्मा सेक्टर की बेहद महत्वपूर्ण भूमिका है। हिमाचल प्रदेश के सोलन जिले में बद्दी-नालागढ़ में एशिया का सबसे बड़ा दवा उद्योग है। यहां बड़े पैमाने पर दवा निमार्ण होता है और देश के अलावा एशिया में दवाओं की सप्लाई की जाती है। ‘प्रधानमंत्री आत्मनिर्भर अभियान’ के तहत देश में देश में तीन बल्क ड्रग पार्क बनने हैं, जिसमें एक बल्क ड्रग पार्क हिमाचल प्रदेश को मिलना तय हो चुका है। यह पार्क ऊना जिला के हरोली में बनेगा। माना जा रहा है प्रधानमंत्री हिमाचल को बल्क ड्रग्स पार्क के रूप में जल्द ही  तोहफा प्रदान करेंगे। इसकी आधिकारिक घोषणा जल्द  होना तय मानी जा रही है। इसे निवेश और रोजगार की दिशा में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की एक बड़ी उपलब्धि के तौर पर देखा जा रहा है।
छोटे प्रदेश के लिए बड़ी उपलब्धि
बल्क ड्रग्स पार्क के लिए ऊना जिला के हरोली में 1400 एकड़ भूमि का चयन किया गया है। नवम्बर माह में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने बल्क ड्रग्स पार्क के लिए प्रस्तावित क्षेत्र का दौरा कर अधिकारियों को दिशा निर्देश दिए थे। मुख्यमंत्री ने दिल्ली जा कर इस परियोजना की कई बार पैरवी की और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा सहित कई केंद्रीय मंत्रियों से इसके लिए सहयोग मांगा था। प्रदेश के उद्योग विभाग ने इस प्रोजेक्ट के लिए केंद्र की और से निर्धारित तमाम औपचारिकताओं को पूरा कर दिया है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के इस ड्रीम प्रोजेक्ट को सिरे चढाने के लिए उद्योग विभाग के सचिव राम सुभाग सिंह, उद्योग निदेशक हंसराज और एडिशनल निदेशक तिलक राज शर्मा ने दिन रात एक कर निर्धारित समय में केंद्र की तमाम औपचारिकताओं को पूरा कर हिमाचल जैसे छोटे प्रदेश के दावे को मजबूत करने में अहम् भूमिका अदा की है।
हिमाचल को डबल फायदा
बल्क ड्रग पार्क के निर्माण के लिए आधारतभूत ढांचा विकसित करने के लिए केंद्र हिमाचल को जहां 1000 करोड़ रूपये देगा,वहीं इस पार्क के निर्माण से प्रदेश को 15,000 करोड़ से ज्यादा का निवेश मिलेगा, जिससे प्रत्यक्ष और परोक्ष तौर पर रोजगार के लाखों अवसर उपलब्ध होंगे। इस बल्क ड्रग पार्क का दूसरा सबसे बड़ा फायदा हिमाचल को यह होगा कि हिमाचल प्रदेश के बद्दी-नालागढ़ में स्थित एशिया के सबसे बड़े दवा उद्योग को चीन से कच्चा माल खरीदने की जरूरत नहीं पड़ेगी। अब तक दवाइयां बनाने के लिए हिमाचल को चीन से कच्चा माल लेना पड़ता है। इस पार्क का प्रदेश को दोहरा फायदा होगा।
उम्मीदों को यूं लगे पंख
हिमाचल प्रदेश में बल्क ड्रग पार्क स्थापित करने के प्रस्ताव को पिछले साल नई दिल्ली में आयोजित संचालन समिति की पहली बैठक में सैद्धांतिक रूप से अनुमोदित किया गया। बैठक में ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने उल्लेख किया कि राज्य में प्रस्तावित बल्क ड्रग पार्क का उद्देश्य हिमाचल प्रदेश में इस्तेमाल के लिए चीन से आयात की जाने वाली शीर्ष 10 थोक दवाओं के प्रतिस्थापन के लिए होना चाहिए। बैठक में हिमाचल को यह निर्देश दिए कि सैद्धांतिक रूप से अनुमोदित प्रस्तावों के लागत अनुमानों की पुनर्गणना की जाए। राज्य को पर्यावरण मंजूरी के लिए एक मान्यता प्राप्त एजेंसी नियुक्त करने के लिए भी निर्देशित किया गया। इसके निर्माण के लिए केंद्र सरकार ने 60 करोड़ रुपये देने की सैद्धांतिक मंजूरी दी है।
प्लग एंड प्ले
उद्योग विभाग के सचिव राम सुभाग सिंह कहते हैं कि बल्क ड्रग्स पार्क की स्थापना को केंद्र और राज्य सरकारों का पूरा समर्थन मिलेगा। यहां कंपनियों को प्लग एंड प्ले की सुविधा मिलेगी। प्लग एंड प्ले का मतलब यह है कि पार्क की स्थापना और उनसे संबंधित सभी मंजूरियां मिल चुकी होंगी व इन्फ्रास्ट्रक्चर का विकास किया जा चुका होगा। कंपनियों को वहां जाकर सीधे उत्पादन शुरू करने लायक इन्फ्रास्ट्रक्चर मिल जाएगा। बल्क ड्रग्स पार्क के निर्माण से प्रदेश में औद्योगिक विकास की गति तेज होगी।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *