पुस्तक समीक्षा : हलदूणवी जो अखरे, ‘कुड़मां दे नक्खरे’

Spread the love

पुस्तक समीक्षा : हलदूणवी जो अखरे, ‘कुड़मां दे नक्खरे’
वीरेंद्र शर्मा ‘वीर’ दी रिपोर्ट
लखारी सारे समाज च इक्क सीसे साईं हुंदे, जो दिक्खदे सो लिखदे। भासा भौएं इक्को इ होए तिन्हां दी लिखणे दी कला, शिल्प कनै शैली न सिर्फ तिन्हां जो इक्की– दुए ते ल्हादा करदी, बल्कि नुहार बी पेश करदी। बीतदे समे नै जाहलु एह सब तौर तरीके ई पछ्याण बी बणी जांदे कनै अगलियां पीढिय़ां आदर्श मन्नी तिन्हां दे सुझाए रस्ते पर चलणा बी शुरू करी दिंदियां। म्हाचली पहाड़ी कवता दे कबीर दे नाएं ते मसहूर पौंग डैमे च डुबी गेइयो मसहूर हलदूण घाटी दे ग्रां पंजराळ च रतन लाल उपाध्याय होरां दैं घरैं माता गायत्री देवी दिया कुक्खा ते जन्मे कनै हण कांगड़ा जिले दी जसूर तसीलां दे छतरोली ग्रांएं दे बसिंदे बिशंभर दास उर्फ नवीन ‘हलदूणवी’ भी किछ देह देह्यी पछ्याण रखदे। हिंदिया दे मास्टर रेहो हलदूणवी हिन्दिया सौग्गी म्हाचली भासा च बरोबर अधिकार रखदे। लगभग हर विषय दी डुग्घी समझ रक्खणे आळे हलदूणवी होरां गीत, -गज़ल, छंदोवद्ध कवता, कहाणी सब- किछ लिखदे पर पैहला प्यार म्हेसा म्हाचली भासा कनै कवता ई रेह्यी। बड़ी ही आकर्षक शैलिया दा प्रयोग करदेयां हुणे तिक्कर सैह एह दुनिया, पलौ खट्टे- मि_े, भारते नै प्यार, बोल्ला करदे पहाड़, प्हौंच, चढ़ी जा गास, काल्हु निक्खरगा रंग, मैंझर, लोक गलांदे सारे, प्हौंचा ब्हाळे, सुथरी सोच, म्हौल बगाड़ीता क्ताबां लिखी चुक्के। साल 2018 च आया इन्हां दा कवता संग्रह ‘कुड़मां दे नक्खरे’ खूब चर्चा च रेह्या। कताबा दा जदेह्या शीर्षक तदेह्यियां चुटकीलियां चुरानुएं कवतां। इक्क सौ अ_ बरकेयां दिया इसा कताबा च सारियां ई कवतां होरना गप्पां सौग्गी- -सौग्गी ब्याहे च कुड़मां दे नाज- नखरेयां दी पोल पट्टी बि खोड़दियां नजर औंदियां।
क्वतां च साफ ब्यानी
कदी चिंतन मनन करी, शब्दां दी माळा बणाई, कदी कहावतां, बिम्ब, प्रतीकां जो सिद्धे साद्दे तरीके तिसा माला च परोई नै तां कदी बेदणां- रिस्तेयां दी अहमियत दसदे। दहेजप्रथा, रीति -रुआजां दी सपाट तरीके नै गल्ल करदेयां विलुप्त होआ करदे ठेठ कांगड़ी शब्दां दे जरिए खत्म होआ करदी पहाड़े दी लोक संस्कृति लोकभासा दे संरक्षण का बीड़ा चुकदे। मंगयाई, रिस्तेयां दे खरे– बुरे हर पैहलु ,पर्यावरण दी चिंता करदेयां कवता दे जरिए मलहम् लाई, सजाई– सुआरी कवतां च परोंदे। कदी प्यार- -पळोप्पे, गुस्सा -गिला, नदी –नाळुआं दी गल्ल करदे। सब कैसी दी हुंदी घाट पर चिंता कनै हकीकता दा कौड़ा घुट्ट पींदेयां घट्ट शब्दां च साफ ब्यानी तिन्हां दियां क्वतां च मिली जांदी। सैह गल्ला परती नफा -नुकसाने बारे चतेरदेयां, आम बोल्ले जाणे आळेयां शब्दां च बिना लाग- लपेट सच्ची– सुच्ची गल्लां करी समा रैह्ंदयां समह्लोणे दी सलाह दिंदे चलदे।
‘कुडमां दे नखरे पुगाणे कितणे’
कुड़मां देयां नखरेयां जो नीं पत्थर बणाई, घट्ट शब्दां च मते विषयां पर गल्ल करी कई पराणे प्रतीक- बिम्ब बड़े सलीके नै बरती, केई नौएं घड़ी के हलदूणवी इक्की पास्सैं कुडिय़ा दे माऊ– बब्बां दी मजबूरी कनै बेबसी पर गल्ल करदे तां दुऐं पास्सैं मंगयाई, तान्ने- -मीöे होर मतियां बेथौइयां रीतां पर कलम चलांदे। बरका नंबर 13 पर कताबा दी पैहली कनै शीर्षक कवता ‘कुड़मा दे नखरे’ दियां पैहलियां चार लैणी ही कविए दे मनोदशा कनै समाजे च डुग्याइया तिक्कर फैल्यों जैह्रे कनै तिस परती कविए दे मने दी चिंता दी सारी कहाणी ब्यान करी दिंदियां –
‘कुडमां दे नखरे पुगाणे कितणे
बार बार थोबड़ धुआणे कितणें
घर- घर लड्डू ते पतास्से बंडिए
दिनै- रात्ती गीत गुआणे कितणे’
कवता नंबर पंज बरका नंबर 17 च टमके दी चोटा पर इक्की तीरे नै मतेयां पास्सैंयां बार करदेयां बोल्दे भई –
‘नच्चण ताल धमाल्लैं जी/कित्ता माल हुआल्लैं जी
दुनिया तौर-बतौरी ऐ/हाल खरा नी हाल्लैं जी
मंघिआई दा जोर बड़ा/लोक्की लुट्टे लाल्लैं जी
दुसमण धोक्खा करदा ऐ, चलदा पु_ी चाल्लैं जी
कुड़म तमोळां तोप्पा दे, हटी फिरी के साल्लैं जी
हद्द नवीन मुकाईती, अप्पु अज्ज सुआल्लैं जी।’
बरका नंबर 18 पर चौंह पंगती च ई सबक दिंदियां त्रै ल्हादा गल्लां करना नवीन हलदूणवी होरां दे बसे दा कम्म ऐ। बहादर फौजियां दी बहादरी जो सलाम करदेयां, कंजक पूजन दे जरिए समाज जो इसारे च संझांदे कनै देसे दे दुसमणे जो सजा देणे दी गल्ल कुस स्हाबैं कित्तियो औआ दिक्खिए–
‘शहादता जो बोलदे ई ब्हादरी दा साज ऐ
भारते दे ब्हादरां ते म्हातड़ां जो नाज ऐ
देवियां जां कंजकां जो रोज लोक्की पूजदे
कीलणा शैतानणी दा जाणदे तां लाज ऐ’
बरका नंबर 37 पर कवता नंबर 25 भ्रष्ट व्यवस्था कनै साड़े आळसे/ नकारापणे पर चोट करदेयां- लिखदे हन-
‘मत नरेगैं मारी साड़ी / डंग्गर फसलां देन जुआड़ी
संज्झा जे मस्ट्रौल गुआच्चै/ भुल्ली जा भास्सा बी पहाड़ी’
बरका नंबर 62 पर कवता नंबर 50 च चिंता जाह्र करदेयां हल्ल बी दसदे –
कुडिय़ां जो लोक्की तां सताणा लगी पे
हत्थैं आया छड्डदा दाज कोई नी
कनून बी तां करड़े बणाणे मित्तरो
पापियां पखंडियां दा लाज कोई नी’
बरका नंबर 66 पर कवता नंबर 54 च चतांदे होए लिखदे-
‘अपणे आप दा सुधार करी लै/बुरा नी बोलणा प्यार करी लै
पीड़ मनुक्ख दी जाऐ मुक्कदी/जेकर मित्तरा वचार करी लै’
बरका नंबर 100 पर कवता नंबर 87 च कवियां कनै समाजे पर आइना दसदे होए लिखदे-
‘सरसुतिया माता तारी दा
कवता नीं माल बपारी दा….
कडिय़ाँ दी पूजा भुल्ली गे
हुण मान करा जी नारी दा’
बरका नंबर 103 पर कवता नंबर 90 च कवियां ते पुछदे होए लिखदे-
‘सुंढी ब्हाळी गंढ कुथू ऐ
सुच्ची नौ- रस छंड कुथु ऐ
कोरे कैंदळ कां-कूं करदे
लंकारां दी पंड कुथु ऐ
फणसोई गे फोक्के कविए
छंदां दी हुण खंड कुथू ऐ’
नसेडिय़ा जो चतेरदे होए लिखदे भई —
‘सेक लगी जा गारू दा
पीण खरा नी दारू दा’
कविता च गहरी गल्ल
इन्हां दिया कताबा पर सह्यी ढंग्गे नै विस्तृत समीक्षा दी गल्ल करिए तां करीब एक सौ अ_ बरकेयां दिया कताबा पर घट्टो घट्ट डेढ सौ बरकेयां ते घट्ट समीक्षा कुसी बी सूरता नी होई सकदी। कैह कि इक्क इक्क कवता च बोलियो गल्ल अपणे ताईं ल्हादा समीक्षा मंगदी।‘कुड़मां दे नखरे’ हलदूणवी प्रकाशन छतरोली, डा -जसूर, तहसील- नूरपुर, जिला कांगड़ा( हि प्र) ते प्रकाशित, कनै नाइस ऑफसैट, प्रिंटिंग प्रेस नूरपुर जिला कांगड़ा ते छपियो। इसा दा मूल- 250 रपेये ऐ।
ठेठ कांगड़ी शब्दां दा प्रयोग
नवीन होरां दियां कवतां च मते सारे ठेठ कांगड़ी शब्द जिह्यां कि कम्म- कसूते, ठिलकण, थोबड़, टल्लपटौई , खड़ाक्का,डीफ्फे तौर- बतौरी, ठग्ग मठग्गी, ढूण मढूणा, डैंजकडींजा , भटण्ड, खडक़न्नू, भूतड़, चुट्ट , डूड, काळमियाळे, भुच्चर, धम्मड़धूसा, धूड़म्मधूड़ी, चरूड़ी, थल्लबन्ना, जींहंडा , खडैत्तर, खाल्लमखाल्ली, गळदूत उंदळ, फड्डी ,घचोळदा, नमौड़ा, सलूणा जदेह अणमुक शब्द पाठकां जो न सिर्फ सहज तरीके ने अपणे पास्सैं आकर्षित करदे अपर कवता जो भी आकर्षक बणांदे।
बेबाकिया नै सुआल पुछदा लखारी
मतियां सारियां मि_ियां गल्लां करदेयां विसंगतियां पर गुज्जी चोट करदे हलदूणवी होरां दे अंदर छुपेया लखारी कवतां दे जरिए अपणी कताब ‘कुड़मां दे नखरे’ च मतेयां सारेयां विषयां पर बेबाकिया नै सुआल पुछदा। बेहतरीन शैली कनै शिल्प/ कत्थ लंकारां दा बड़े शानदार तरीके स्हारा लेई नै सलाह दिंदे नजऱ औंदे।एह कताब सारे म्हाचली भासा प्रेमियां जो घट्टो घट् इक्क बरी तां जरूर पढऩा चाहिदी।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *