पहाड़िया च कम्म करी गे विशेष, सैह पपरौले वाले मास्टर शेष

Spread the love

पहाड़िया च कम्म करी गे विशेष, सैह पपरौले वाले मास्टर शेष,‘बैजनाथ कला संगम’ कने ‘कांगड़ा लोक साहित्य परिषद’ दे संस्थापक सदस्य शेष अवस्थी मिट्टिया दी खुसबू बखेरदियां केई कताबां दे लेखक
बैजनाथे ते वीरेंद्र शर्मा ‘वीर’ दी रिपोर्ट
साडी मां बोली /भाषा हिमाचली पहाड़ी भाषा ऐ । जितणी एह सुणने जो गणगोजुए साई सुरीली कनै मिठडी ऐ उतणी ही बोलणे जो ।
जित्थु माहणु रैंहदा ओत्थु अपणी सुख सुविधा दा पूरा ध्यान रखदा , स्याणेया ते याणेयां तिक्कर पीढी दर पीढी सुणी सणाई के ही लोकगीत, लोक संस्कृति ,लोकसाहित्य , लोकनृत्य दा हस्तांतरण हुंदा रैहदा। चार गल्लां माहणु बुजुर्गां दियां लैंदा, चार अपणे मुजब अपणिया सेहडदा । इस ताई अक्सर लिखी के बि मने दियां भावना जाहर करदे । कनै एह हि गल्ल- बातां आम माहणुए जो सोचणे पर मजबूर करदियां। देह्यियां कि गल्लां तां मते करदे , पर विशेष रूप च गल्ल‌ करिए तां अपणिया बरेसड़ जां अगलियां पिछलियां पीढियां दिया देयां कई महान लोकां दियां लम्मिया लैणी च सबनां ते ल्हादा जडां नै जुड़ेया माहणु जे दुसदा ,‌तिसदा नां ए शेष अवस्थी।
बजोगां दा मारेया बचपन, मामेयां दे घरें पढाई
बैजनाथ पपरोळा इ नी दूर-दूरे दे लाकेयां च सधारण परुआरे ते संबधत अपणे टैमे दे मसहूर परोहत/ जोतसी पंडित स्वर्गीय श्री रत्न लाल‌ अवस्थी होरां दैं घरैं गांधीग्राम बैजनाथ 30/9/1937 दैं सुभ ध्याडैं शेष अवस्थी होरां दा जन्म होया । त्रिं भाऊआं-भैणा च सबते बड्डे हे ।शेष होरां हाल्ली छेयां बरिया, इन्हां ते छोटी भैण कोई त्रिं बरियां कनै छोटो-छोटी छियां क म्हीनेयां दि । कि माऊ दा चाणचक इ सुरगबास होई गेया थोडेयां क दिना बाद छेयां महीनेयां दिया छोटि भैण बि सुरग सधारी गई । हण दुखे दे मारे दूंईं न्याणेयां जो खरी परवरिश ताईं पिता नै तिन्हां इच्छेया मताबक पंतेहड़ ग्राएं माम्मेयां दैं भेजी ता। बजोगां दे मारे शेष होरां पैहलिया ते लई के सनातन धर्म ट्रेनिंग इंस्टीच्यूट बैजनाथ ते जे बी टी करने ताई माम्मेयां दैं ही जीवन बताय ।जाहलु जी इन्हां दे माता जी सुरग सधारे तां पिता पंडित रत्न लाल‌ अवस्थी होरां दी उम्र बि सिर्फ़ 28 बरियां थी। न्याणे पळे जरूर माम्मेयां दैं पर पिता नै जोतस विद्या दे कम्मे ते घर सहेड़ी छड्डेया।
जेबीटी करी लग्गे मास्टर
जेबीटी करने ते पैहलैं इ अपणे अनुभव कागजां पर उकेरना थे लगी पेयो, ट्रेनिंग ते बाद शेष होरां बणिया -खोप्पा मास्टर लगी गे कनै करीब ठारह साल तित्थु पढाया ।इसते बाद चार साल लाहौल-स्पीति दे सिस्सु- केलंग , इस दुरान इन्हां पढाई जारी रखी कनै एम ए बीएड कित्ती – टीजीटी बणी के धार-चांदणा ,दो-दो तिन-तिन महीने चुपाल-रामपुर कनै इसते बाद पपरोळे आई गे कनै एहथु ते ई रटैर होए।अवस्थी होरां जो जाणने आळे दसदे पई सैह जमीना नै जुडेयो माहणु, बड़े नियम पसंद कनै सख्त मास्टर थे।
मन्ने-तन्नेयां लखारियां च शामल
बकौल डाॅ गौतम व्यथित हालांकि तिन्हां च राजनीतिक द्वंद जरूर था तिन्हां दियां कवतां /कहाणिया / गज़लां च सामाजिक, सांस्कृतिक कनै साहित्यिक पक्ष म्हेसा उप्पर रेह्या ।सैह अपणे टैमे दे मूहरले मन्ने-तन्नेयां लखारियां च गणोंदे जिन्हां चाळी-पंजाह साल हिंदी / पहाड़ी च बराबर लिखेया कनै मसहूर होए। पैहली कवता व्यंग्यात्मक श्रृंगार रस पर “मेरी छम्मक छल्लो” सन 1954 च “कांगड़ा सभा दिल्ली” दी पत्रिका च छपी।
डाॅ प्रेम भारद्वाज होरां दे परम मित्र
मसहूर लखारी डाॅ प्रेम भारद्वाज होरां दे परम मित्र थे , जाहलु जि भारद्वाज होरां कृष्णानगर मास्टर इ थे लग्गेयो , कनै प्रफुल्ल‌ कुमार महाजन”परवेज़ ” एच आरटीसी बैजनाथ डिपू च तां इन्हां दूईं कन्नैं खरी गाटी लग्गी । मैहफलां लग्गियां जमणा । ओम प्रकाश प्रेमी , पवनेन्द्र पवन, सागर मनोहर पालमपुरी, डाॅ शबाब ललित , डाॅ शम्मी शर्मा, गुलेरी बंधु ( डाॅ पियूष गुलेरी+ डाॅ प्रत्यूष गुलेरी), डाॅ गौतम व्यथित होरां , शिव उपाध्याय, मुलखराज शांतळवी, डाॅ सुशील कुमार फुल्ल,सरोज परमार जदेह बंदे मिळदे गे, यारी-कारी कनै दायरा बधदा गेया।
बैजनाथ कला संगम दी स्थापना
अपणी गतिविधियां जो मूर्तरूप देणे ताईं डाॅ प्रेम भारद्वाज होरां कन्नै मिलणें ताईं ” बैजनाथ कला संगम” दी स्थापना करी साहित्यिक महौल बणाणे दी कोसता जुटी रहे । स्कूलां -२ च जाई जाई न्याणेयां जो साड़ी संस्कृति दी डुग्गी जाणकारी प्रेरत कित्ता ।कनै बादे च सारे उपपरले मित्तां मिली के ” कांगड़ा लोक साहित्य परिषद ” दी स्थापना कित्ती ।
तिस च‌ डाॅ व्यथित अध्यक्ष कनै अवस्थी होरां महासचिव बणाए गए।
कांगड़ा लोक साहित्य परिषद तांई कम्म
कांगड़ा लोक साहित्य परिषद नैं लोक संस्कृति दे बचाणे खात्तर मता कम्म कित्ता, स्कूलां च जाई -जाई बच्चेयां च अलख जगाई , मते सारे यादगार कार्यक्रम करुआए । तिन्हां दे महासचिव रैंहदेयां कांगडा लोक साहित्य परिषद नै सर्वसम्मत साहित्यिक सेवा दा बीडा चुक्केया तां डाॅ व्यथित, डाॅ सुशील कुमार फुल्ल, डाॅ भारद्वाज, डाॅ शम्मी शर्मा जदेह लखारियां सौगी संपादक मंडल‌ च रेह कनै “सहज कहानियाँ “”आस-पास” कनैं मिंजरांदा प्रकाशन करुआया।
हिंदी शब्दकोश च विशेष योगदान
हिमाचल भाषा कला एवं संस्कृति अकादमी कनै भाषा कनै संस्कृति विभाग दे गठन ते बाद अकादमी दी योजना पहाड़ी -हिंदी शब्दकोश च हरिराम, गणेशदत्त, मोहनलाल, वीरेन्द्र शर्मा, प्रमोद कुमार, कीहन सिंह जमाल , दुलाराम चौहान, कुमारी लोमा देवी, बिमला मैहता, अश्विनी गर्ग, डी. सी चम्बयाल , डाॅ प्रत्यूष गुलेरी,पृथुराम शास्त्री, श्रीमति सुदर्शन डोगरा, कुमारी स्वर्ण कांता, सविता सूद, हरिप्रसाद सुमन, कुलभूषण उपमन्यु, खेमराज गुप्त, बीआर मुसाफिर, नरोत्तमदत्त ,‌डाॅ श्याम लाल डोगरा, विद्यानंद सरैक, डाॅ खुशीराम गौत्तम जदेह मते विद्वाना सौगी संग्रहक मंडल च रेह । कनै भाषा विभाग दी “सांस्कृतिक सर्वेक्षण योजना च अणथक प्रयास करी समग्री किट्ठी कित्ती हजारां पेजां च समेटी पहाड़ी लोकसाहित्य दियां सारियां विधां जो सहेजणे ताईं अणभुल्ला योगदान दित्ता।
पहाड़ी – हिंदी च बरोबर दखल
कविता ,कहाणी ,लेख, गीत-गज़ल, व्यंग्य सब किछ लिखेया , मतियां पत्रिका च प्रकाशित होए, कनै सबना ते सराहे गए । बड्डे ते बड्डे जो गल्ल करने ते बि कदरांदें हे, बड़े सहज-सरल सलीके गलाणे दी हिम्मत रखदे हे। बानगी तिन्हां दी लैणी दस्सी दिंदियां –
‘सच गलाणे ते नी हटदा, तिस्यो है एह रोग पराणा
शेष बड़ा अड़मन है मोआ, कितणा कि समझाणा मितरो’
टीसुए दा सूट , मरघट का उद्घाटन रचना व्यंग्य विधा दी पछयाण करुआंदियां।हर विधा च बड़ी सादगी नै ठेठ पहाड़ी शब्दां दी माळा परोणे दी कला शेष अवस्थी होरां कैं इ थी । तिन्हां दा लिख्खेया गीत -‘छुट्टी लई करी दिन चार, इक बरी घरैं आई जा’ , अपणे समें च बड़ा मसहूर होया, इक कहाणी “अजातशत्रु ” कुथी पाठ्यक्रम च बि लग्गी । पहाड़ी कनै हिन्दी च बरोबर दखल‌ रखदे हे।
लक्ष्मी प्रकाशन पपरोला दी शुरुआत
मित्रां प्रफुल्ल कुमार महाजन”परवेज़ ” डाॅ प्रेम भारद्वाज ते गज़ल पासैं मुडे किछ बरीकियां सिख्खियां । कनै मनोहर सागर “पालमपुरी” जी जो अदबी दुनिया दा उस्ताद बणाई परम्परा दा निर्वाह बि कित्ता । लक्ष्मी प्रकाशन पपरोला दे नाएं ते बेटे रजनीश अवस्थी जो बि साहित्य सेवा ताईं जोड़या ।नारायण चंद पराशर कनै लाल चंद प्रार्थी हेरां नै व्यक्तिगत पत्राचार हुंदा रैंहदा था।
प्रसंग – दयाळी दा दिन सोलन प्रोग्राम
साहित्य प्रेम इतणा पई अग्ग बरै चाएं गोळा अवस्थी होरां कम्म करी के हटणा कुथी इक बरी जबान दई ती तां जाई के हटणा। हालांकि बड़ा डुग्गा लगाव रखदे हे कनै लगभग हर जरूरत टैमें पर पूरी करदे हे पर फिरी बि
टब्बर हमेशा साहित्य ते बाद दुए नंबरे पर था । इसा गल्ला खातर कई बरी घरैं क्ळेश बि पौणा । इक्क बरी दयाळिया आळैं दिन सोलन चली गे प्रोग्रामे च , पिच्छैं घरेआळिया कैं पैसे नी, न्याणे मठियाई कनै पटाकेयां ताईं कळट्ट पाण । वापस जाहलु आए तां दयाळी होई बीतियो ही , पर फिरी न्याणेया बजार लई के गे कनै खूब सारी मठियाई खुआई।
बंबई कवता पाठ.इनामे च ब्रीफकेस
आकाशवाणी ते मते कार्यक्रम प्रसारित होए, हिमाचल कल्याण सभा दिल्ली, हिमाचल मित्र मंडल दे कार्यक्रम च बंबई बि कवता पढी । कनै इक्क ब्रीफकेस इनामे च मिल्ला, घरे च बि एह पैहला इ ब्रीफकेस था , हाल्ली बि सम्हाळी के रख्खेया।
यादां च बसेयो शेष
मिट्टिया दी खुसबू बखेरदियां केई कताबां दा लेखक मित्रां दा मित्र , मिल्लणसार माहणु, आल्हा दर्जे दा साहित्यकार, सख्त मास्टर15/5/2000 दैं ध्याडैं एह नश्वर संसार त्यागी के सुरग सधारी गे ।तिन्हां दिया यादा च जन्म कनै पुण्य तिथि दे मौके पर हर साल पपरोलैं दो कार्यक्रम करुआए जांदे।
शेष दा रचना संसार –
धारां दियां धुप्पां (1971)
पहाड़ी काव्य संग्रह
स्हेड़ेयो फुल्ल (1974)
हिमाचली लोक कथा
भ्याकणा भुल्लेया (1978)
पहाड़ी खण्ड काव्य
ओर-छोर ( 1980 )
हिंदी काव्य संग्रह
शिव भूमि बैजनाथ ( 1996)
ऐतिहासिक परिचय
आपको मालूम है ( 1997)
हिंदी गज़ल संग्रह
कुर्स पराणा पत्थर नौएं (1997)
पहाड़ी कवता/गज़ल संग्रह
इक्क पहाड़ी रचना –
दिक्खा दा मैं चौंहि चफेरैं, इक झक्खड़ झुलदा ओआ दा
ना पिच्छैं ही किछ दुस्सा दा न अग्गैं पैर पटोआ दा
दिक्खा दा मैं बत्ता चल्लेहो ढइ-ढइ पोआ करदे सारे
मूंधैं मुंहै कोइ बचारा पिच्छैं कोई लटोआ दा
पछमे पास्सैं बणिहो नौईं, अंबरे छून्दी पक्की म्हेली
थर-थर करदी कम्बा कर दी, कुर्स जणि खसकोआ दा
दूएं पास्सैं बड़ा पुराणा, ठलठल कर दा घर कुसी दा
भुरी-भुरि नै जिसदा इक-इक कुंगरू धरती पोआ दा
अपण पराणे कुर्से उप्पर नोआं बणना लगेहा टपरू
हिल्ला दा नी झुल्ला दा सै तपसी निरा बझोआ दा
लग्गा दा बस सै ही टपरू टिकणा है इस झुलदैं झखड़ें
जेहड़ा पराणया नीआं उप्पर नयां पथरां चणोआ दा

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *