‘पहाड़ी मृणाल’: बंदा कमाल, लिक्खिेया बेमिसाल, चंद्रमणि वशिष्ठ होरां सन 1958 च कित्ती सिरमौर कला संगम दी स्थापना, लोक साहित्य ताईं योगदान

Spread the love

‘पहाड़ी मृणाल’: बंदा कमाल, लिक्खिेया बेमिसाल, चंद्रमणि वशिष्ठ होरां सन 1958 च कित्ती सिरमौर कला संगम दी स्थापना, लोक साहित्य ताईं योगदान

नाहने ते वीरेंद्र शर्मा ‘वीर’ दी रिपोर्ट

माऊ दी ममता दा कुनी पार पाया, अप्पु औखी-भुक्खी रई लैंदी, लख दुख सई लैंदी, पर न्याणेयां पर कुसी गल्लां दी आंच नी औणा दिंदी। न्याणे बि कुथी, कुसी बेलैं डर मसूस करन तां माऊ दिया गोदा लुकी के अपणे आप्पे जो सुरक्षित समझदे। माऊ दिया गोदा च बई चीचू पी के पेट भरना, रिस्ते-नातेया दी पछयाण करनी। संस्कार कनै लोक संस्कृति दा पाठ सिखणा। माऊ ते ई मा बोलिया च बोल- चाल, जीणा-मरना सिखणा। मां जग दसदी, मां ई पाळदी, न्याणे चाए स्याणे होई जाण, माऊ बास्ते न्याणे ई रैंहदे, कनै तिहा दे फुक-प्राण न्याणेया च ही बसदे। दुयां सबदां च गलाइए तां मां जन्मदाती, पालनहार, कनै तारणहार ऐ। इस करी माऊ दी गोद कुसजो प्यारी नी लगदी। मां दी महानता अपरंपार ऐ। माऊ दि सीस तिन्ना लोकां च घुम्मी के औणे बराबर हुंदी, त्याहसे दे पन्ने फरोली के दिक्खी लइए। जिस बि बच्चैं माऊ, मां बोली, माऊ दे दित्ते संस्कार कनै संस्कृति दा जरा बि ख्याल कित्ता। माऊ दा सीरबाद तिस जो उच्चा स्थान जरूर प्राप्त हुंदा। मां रेणुका दे चरणा च बसे, कनै भगुआन परशुराम दी कर्मस्थली सिरमौर जिले च बायरी (ददाहू) च माऊ दा देह्या ई इक्क लाल राजे रजवाडेयां दैं टैमें हरियाणे ते नाहन आई के बसेयो मुंशी जी दे नाएं ते मसहूर पंडित सावन राम वशिष्ठ दै घरैं माता कलावती देवी दिया कुखा ते 28 जून, 1931 दैं सुभ ध्याडै़ इक देह बहुमुखी प्रतिभा दे स्वामी बालक चंद्रमणि वशिष्ठ दा जन्म होया, जिन्नी म्हाचल कनै म्हाचले ते बाहर बि अपणी खास पछयाण बणाई।

लिखणे-पढऩे,  एक्टिंग दा सोक


चंद्रमणि बचपन ते इ तेज दमागी हे जेहड़ा मने च धारी लेया, सैह करी के हटणा। तिन्हां समेयां नेडैं-तेडैं स्कूल तां नी थे, नाहन ते पढ़ाई कित्ती कनै हिमाचल पुळस मैहकमे च भर्ती होई गे। थोड़ा ई समय नौकरी कित्ती पर मन लग्गा नी, कनै पुळसा दी नौकरी छड्डी ती। इक तां तिन्हां दे शौक बखरे थे, दुआ सैद किस्मता च बि किछ होर ई हा लिखेया था। लिखणे-पढऩे कनै एक्टिंग दा मता शौक था। मां बोली, लोक संस्कृति नै डुग्गा जुड़ाव था। इन्हां च हुंदी घाट तिन्हां भलेयां समेयां च ई मसूस करी हि लईयो। लोक संपर्क विभाग च हिमाचल प्रदेश च नौकरी करना लगी पे, जिला लोक संपर्क अधिकारी दे तौर पर बारह बरियां कम्म करी के एह नौकरी बि छड्डी ती।

खुद परमार होरां लिखिया प्रैस नोट


इक मजेदार किस्सा ऐ। सैह अप्पु ई सुणांदे हुंदे थे। इक बरी कुथी बड्डी जनसभा थी, मतियां हस्तियां ते बाद मुख्यमंत्री हिमाचल निर्माता डॉ. यशवंत सिंह परमार दा भाषण था। तिसदी रपोट कनै खुआरां ताई प्रैस नोट बणाणा था, पर मन नी कित्ता, कनै चंद्रमणि वशिष्ठ होरां सभा च उठी के चली गे। डॉ. परमार होरां वशिष्ठ होरां दि कम्मे प्रति लग्न, बेचैनी कनै तिसते उदासी सब जाणदे थे। जाहलु वशिष्ठ हटी के आए तां सब भाषण खत्म होई गेयो था। हुण सोच्या भई सुणया इ किछ नी तां रपोट क्या लिखगा। इतणे च ही डॉ. परमार होरां आए कनै अपणेयां हत्थां लिखियो कार्यक्रम रपोट कनै प्रैस नोट देई के जफ्फी पाई बोल्या एह देई दिन्यों।

परमार होरां दे खलाफ लड़ेया चनाव


चंद्रमणि वशिष्ठ होरां लोक संपर्क अधिकारी दी नौकरी छड्डी कनै राजनीति च पई गे। प्रधान कनै फिरी पंचायत समिति दे सदस्य रेह। इक्क बरी तां डॉ. परमार होरां दे खलाफ बि आजाद प्रत्याशी दे तौर पर विधानसभा दे चुनाव लड़े, भौएं हारी गे। इस्सा गल्ला दा डॉ. परमार कनै वशिष्ठ होरां दे व्यक्तिगत रिस्तेयां पर कोई असर नी पेया।

मंजेयो कलाकार, निर्माता-निर्देशक


चंद्रमणि वशिष्ठ जी लिखणा-पढना तां बचपन तेई पेयो। अपणे शौक पूर्ति ताईं आकाशवाणी शिमला च उद्घोषक दे तौर पर ड्यूटी ज्वाइन करी लई, कनै अपणी बहुमुखी प्रतिभा दी डुग्गी छाप छड्डी। कनै आकाशवाणी दे परामर्श मंडल च बि रेह। कविता, कहाणी, नाटक, लेख, शोध लेख, त्याहसक, समाजक-सांस्कृतिक, राजनीतिक पहलुआं पर लिखदे कनै छपदे रेह। आकाशवाणी शिमला कनै जलंधर ते लगातार कवता-पाठ कनै वार्ता प्रसारित हुंदियां रहियां। खुद बि बड़े मंजेयो कलाकार कनै निर्माता-निर्देशक रेह। कई नाटक लिखे, कनै तिन्हां दां मते बरी सफल मंचन कित्ता।

लोकां जो करदे थे सम्मानित


चंद्रमणि वशिष्ठ साले च चार-पंज कवि सम्मेलन, नाटक बगैरा दा आयोजन करदे, कनै साहित्यिक, समाजक, पत्रकारिता, लोक संस्कृति दे बढादरे ताईं लग्गेयो लोकां जो हर साल राष्ट्रीय स्तर दा गरिमामयी पुरस्कार देई के सम्मानित करदे थे। एह प्रथा हाल्ली बि जारी है।

शैड बणाई के पूजा-पाठ

बधदी उम्रा दैं सहाबैं धार्मिक प्रवृत्ति प्रबल होआ करदी। सांसारिक मोहमाया ते दूर होई चल्लेयो थे। परशुराम जो मनदे पर तिन्हां दे आराध्य शिव थे। घर परिवार जो छड्डी, घरे ते अद्धा कोह भर दूर शैड बणाई के रैंहदे, पूजा-पाठ करदे। अस्सी दे दशक दी गल्ल ऐ। गुडगांव ते इक महापुरुष राजेंद्र कुमार जो कि कम्म तां ओएनजीसी च करदे थे, पर थे पुज्जेयो अध्यात्मिक कनै धार्मिक पुरुष। तिन्हां अपणे प्रवास दे दुरान वशिष्ठ होरां दैं घरैं कुआटर लेया। किछ दिन तक तां सब ठीक रेह्या, पर फिरी वशिष्ठ होरां जो तिन्हां दी शख्शियत बड़ी अब्बल दर्जे दी लग्गी। लुक्की के गतिविधियां दा पिच्छा कित्ता। अप्पु तां खोजबीण नी करी सका दे थे, इस करी ऐह कम्म हरिपुरधार दे गडरिए मीना राम जो दित्ता।

गुडग़ांव आले महाराज बनाए गुरु

मीना राम नै भ्यागा 4 बजे क्या दिख्खेया कि गुडग़ांव आले गुरु महाराज राजेंद्र कुमार जी नाळुए पर नहौणा आए कनै कपड़े तुआरे तां गळैं नाग नजर आया। मीना रामै जाहलु एह गल्ल वशिष्ठ होरां जो दस्सी तां तिन्हां दा शक बसुआसे च बदलोई गेया। सिद्धे गे कनै पुच्छी लेया तुहां हन्न कुण पछ्याण देया। गुरु महाराज नै जो जाहलु चमत्कार दस्सेया उसते हाखीं टडोई के रह्यी गइयां। चरणी पेई गे कनै गुरु धारण करी लेया। मौजूदा समे दा एह शायद पैहला मौका था कि इक्क गुरुबहाना लाई के चेले दैं घरैं पुज्जा। आराधना शुरू होई, धूणी लगी गई, गुरु जाणे ते पैहलैं गुरु गद्दी सौंपी के चली गे।

200 ते ज्यादा शिवलिंग स्थापित कित्ते

शैवमत च बसुआस था। हिमाचल कनै हरियाणा च करीब दो सौ ते ज्यादा शिवलिंग स्थापित कित्ते। तिन्हां दे बाल्ले ते ई अनंत आलोक नै इक बरी इच्छा जाहर कित्ती भई गुरू जी मैं सोमवारे दा ब्रत करदा न्याणे शिवलिंग चोरी के लेई गेयो, घरैं किछ ठीक नी लग्गा करदा, तां वशिष्ठ होरा बोल्या ‘जा खड्डा ते ल्योआ शिवलिंग तोप्पी’। आलोक नै चाचे जो लेई बथेरा तोप्या संतुष्ट नी होए, इक पत्थर मिल्ला बि तिस जो सट्टी आए कनै गलाया ‘नी मिल्ला’। वापसी वशिष्ठ होरां डाट लेई के गे कनै सैह तिन्हां दा सट्टेया पत्थर चुक्केया कनै बोल्या पई ऐह ही ऐ असली शिवलिंग तुहां कजो सट्टी आए।

कठिन तप, आचार्य दी उपाधि

संसारिक सुख छड्डी चंद्रमणि वशिष्ठ ‘पहाड़ी मृणाल’ नै भगति दा रस्ता चुणेया। कठिन तप कित्ता, आचार्य दी उपाधि ते अलंकृत होए। सन 1984 दी गल्ल ऐ। तीन दिन दा मेला लग्गा, हजारां भगत मत्था टेकणा स्थान पर बायरी पुज्जे कनै दिन-रात दो किलोमीटर मीटर तक लम्मियां लैणी लाई के अपणी बारी औणे दा इंतजार करदे रेह। मानवता दे पुजारी बायरी दे संत दे नाएं ते मशहूर आचार्य चंद्रमणि वशिष्ठ पहाड़ी मृणाल होरां दी बहुआयामी शख्शियत दा इ कमाल था कि तिन्हां दे व्यक्तित्व कनै कृतित्व पर मते सारे नामी लखारियां कताबां, लेख लिखे जिद्हे च बायरी के संत दे नाएं ते सोलह लेख खंड कनै होर कताबां लिखियां। हिमवंती पत्रिका च तां हाल्ली बि किछ न किछ छपदा रैंहदा।

शरीर त्यागने दे टैमें दा था पता

तिन्हां जो अपणे नश्वर शरीरे जो छडणे दे टैमें तक दा पता था। 28 जून जो हर साल जेहड़ा कार्यक्रम करुआंदे थे। पहली बरी होया कि तिसदी रूपरेखा कनै हर गतिविधि जो मई च ही फाइनल करी के दस्खत लई ले। 15 जून जो परशुराम दी पालकी अपणे स्थान पर सद्दियो थी, पर चार जून जो इ बोली ता भगुआन परशुराम जी दे दर्शन करने। पंज जो पालकी आई, बडिया रीझा नै दर्शन कित्ते, मत्था टेकेया। ६ जून जो भगुआन परशुराम बापस गे, कनै 7 जून 2009 जो तिन्हां नश्वर शरीर छड्डी ता।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.