नौ भुजाओं वाली मां नवाही देवी

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नौ भुजाओं वाली मां नवाही देवी
सरकाघाट से रमेश कुमार की रिपोर्ट
हिमाचल प्रदेश में जिला मंडी के सरकाघाट से चार किलोमीटर दूर माता नवाही देवी का भव्य मंदिर श्रद्धालुओं के लिए आस्था का केंद्र है। मंदिर में प्रदेश से ही नहीं, अपितु बाहरी राज्यों से भी हजारों की तादाद में श्रद्धालु पूजा-अर्चना कर मन्नतें मांगते हैं। मंदिर का इतिहास बहुत पुराना है। खुदाई के दौरान मिली पत्थर की शिलाएं मंदिर परिसर में देखी जा सकती हैं। यह मंदिर 13 वीं शताब्दी में स्थापित किया गया था।

बंजारे को कन्या रूप में दर्शन


कहते हैं कि हजारों वर्ष पूर्व यहां पर वीरान व घना जंगल हुआ करता था। जंगली जानवर बड़ी संख्या में हुआ करते थे. आसपास की आबादी नाममात्र थी। ऐसा कहा जाता है कि एक चूडिय़ां बेचने वाले बंजारे को इस स्थान पर एक छोटी सी लडक़ी मिली। लडक़ी ने आवाज दी, ओ बंजारे मुझे भी चूडिय़ां पहना दे। जब बंजारा लडक़ी को चूडिय़ां पहनाने लगा तो उस अद्भुत कन्या ने एक-एक करके नौ भुजाएं आगे बढ़ाईं। इससे बंजारा हतप्रभ रह गया। कन्या ने बंजारे से कहा कि घबराओ मत, मैं नवदुर्गा नवाही माता हूं। लडक़ी ने चूडिय़ों के बदले कुछ पत्थर बंजारे को दिए। बंजारा जब घर पहुंचा तो उसने देखा कि वे पत्थर सोने के रूप में परिवर्तित हो गए। बंजारे ने लोगों से इस घटना का जिक्र किया तो गांव के लोगों ने इक_े होकर नवाही मंदिर का निर्माण करवाया।

गजनवी की सेना पर पत्थर बरसे

कहा जाता है कि मुगलों के शासन में क्रूर मुस्लिम लुटेरे मोहम्मद गजनवी ने इस मंदिर पर चढ़ाई की। उसने जब मंदिर को तोडऩे और लूटने का प्रयास किया तो भगवती ने पत्थरों के गोले बरसाए। गजनवी को सेना समेत भागना पड़ा था। नवरात्र मेलों में यहां श्रद्धालुओं की भीड़ देखने को मिलती है। हर वर्ष आषाढ़ संक्रांति को यहां पर तीन दिन का मेला लगता है। नई फसल आने पर लोग फसल के रोट पकवान मंदिर में चढ़ाते हैं तथा अन्न ग्रहण करते हैं।

राजा हो गया अंधा, माफी मांगने पर लौटी आंखों की रोशनी

कहा जाता है कि 1951-52 में मंडी के राजा ने नवाही माता के मेले को बंद कर दिया, जिससे राजा तत्काल अंधा हो गया था। पुरोहित ने राजा को कहा कि मां की नाराजगी से आपका यह हाल हुआ है। राजा ने माता के दरबार में जाकर माफी मांगी और चरण का पानी आंखों पर लगाया। ऐसा करते ही राजा की आंखों की रोशनी वापस आ गई।


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *