देश और सेना के अति विशिष्ट लोगों का उपचार करने वाले विंग कमांडर, नगरोटा बगवां के डॉ. संदीप सपेहिया को उनके शानदार काम के लिए मिला है राष्ट्रपति विशेष सेवा मैडल

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

देश और सेना के अति विशिष्ट लोगों का उपचार करने वाले विंग कमांडर, नगरोटा बगवां के डॉ. संदीप सपेहिया को उनके शानदार काम के लिए मिला है राष्ट्रपति विशेष सेवा मैडल
नगरोटा बगवां से जसवंत जस्सो की रिपोर्ट
दिल्ली में राष्ट्रपति भवन के नजदीक आर्म्ड फोर्सेज क्लीनिक स्थित है। इस क्लीनिक की ख़ास बात यह है कि देश के राष्ट्रपति और सेना प्रमुख सहित देश और सेना के अति विशिष्ट लोगों के स्वास्थ्य की संभाल का जिम्मा इस क्लीनिक का है। इस क्लिनिक में साल 2017- 19 तक डॉक्टर तैनात रहे विंग कमांडर डॉ. संदीप सपेहिया को उनकी शानदार सेवाओं के लिए इसी साल गणतंत्र दिवस के अवसर पर प्रतिष्ठित राष्ट्रपति विशेष से मैडल से सम्मानित किया गया हैं। वर्तमान में वे आर्मी हॉस्पीटल रिसर्च एन्ड रैफरल नई दिल्ली में तैनात हैं। हमारे लिए गौरव की बात यह है कि भारतीय सेना से सूबेदार रिटायर्ड सूबेदार विधि चंद के बेटे विंग कमांडर डॉ. संदीप सपेहिया हिमाचल प्रदेश की वीरभूमि के होनहार बेटे हैं।
फौजियों के गांव का फ़ौजी डॉक्टर
कांगड़ा जिला के नगरोटा बगवां उपमंडल के भदरेड़ गांव को फौजियों के गांव के नाम से जाना जाता है। विंग कमांडर डॉ. संदीप सपेहिया का सम्बन्ध इसी गांव के एक सैन्य पृष्टभूमि वाले कृषक परिवार से है। हालांकि अब यह परिवार नजदीकी गांव पठियार में बस गया है. संदीप 14 अप्रैल 1982 को पैदा हुए संदीप सपेहिया ने सैक्रेड हर्ट स्कूल सिद्धबाड़ी से जमा दो की पढ़ाई करने के बाद एमबीबीएस में दाखिले के लिए राष्ट्रीय स्तर पर होने वाली प्रतियोगी परीक्षा में शानदार प्रदर्शन किया और इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज शिमला सहित कई मेडिकल कॉलेजेस में उनका चयन हुआ, आर्म्ड फोर्सेज मेडिकल कॉलेज पूणे में एमबीबीएस की पढ़ाई के लिए उन्हें शत – प्रतिशत स्कॉलरशिप मिली।
गोल्ड मैडल के साथ एमडी मेडिसिन
सात 2007 में संदीप सपेहिया कमीशन पास कर इंडियन एयर फ़ोर्स में अफसर बने। उन्होंने राष्ट्रीय राइफल के साथ कुपवाड़ा में सेवायें दीं हैं।संदीप सपेहिया ने एमडी मेडिसिन की पढ़ाई में टॉप कर गोल्ड मैडल जीता। इस उपलब्धि पर उन्हें उसी आर्म्ड फोर्सेज मेडिकल कॉलेज पूणे में 2015 -2017 तक इंस्ट्रक्टर (एसिस्टैंट प्रोफ़ेसर) में पढ़ाने का अवसर मिला, जहां से उन्होंने खुद पढ़ाई की थी। एंडोक्राइनोलॉजी एंड डाईबीटीज में सुपर स्पेशलाइजेशन कर डॉ. संदीप सपेहिया एयर फ़ोर्स के दूसरे ऐसे चिकित्सक बन गए हैं। ऐसे चिकित्सक थायराइड और सूगर जैसे रोगों के विशेषज्ञ डॉक्टर होते हैं।
पहाड़ी के दीवाने संदीप
डॉ. संदीप सपेहिया एक मोटिवेटर स्पीकर हैं और उन्हें लेखन में भी महारत हासिल है। उन्होंने एंडोक्राइनोलॉजी पर शोधपरक पुस्तकें भी लिखी हैं। उन्हें पहाड़ी में बात करने और पहाड़ी गीत गाने में दिल को सुकून मिलता है। डॉ. संदीप सपेहिया की पत्नी गृहणी महिला हैं और उनकी सात साल और साढ़े तीन साल की दो बेटियां हैं। संदीप कहते हैं हिमाचल प्रदेश में वातावरण ही ऐसा है कि हर युवक की पहली पसंद आर्मी ज्वाइन करने की रहती है। इसी वातावरण ने उन्हें भी एयर फ़ोर्स में शामिल होने को प्रेरित किया।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *