दूरदर्शन की पहली न्यूजरीडर रहीं हिमाचल की बेटी प्रतिमा, शिमला के लालपानी के गोरखा मूल के परिवार में हुईं पैदा, बचपन का नाम था विद्या रावत

Spread the love

दूरदर्शन की पहली न्यूजरीडर रहीं हिमाचल की बेटी प्रतिमा, शिमला के लालपानी के गोरखा मूल के परिवार में हुईं पैदा, बचपन का नाम था विद्या रावत
शिमला से विनोद भावुक की रिपोर्ट
हिमाचल प्रदेश के लिए यह गौरव का विषय है कि दूरदर्शन की पहली न्यूजरीडर हिमाचल प्रदेश की बेटी थी। शिमला के लालपानी में एक गोरखा मूल के परिवार में पैदा हुई प्रमिता पुरी के दूरदर्शन पर पहला समाचार बुलिटन पढऩे का अनूठा रिकार्ड दर्ज हैर्। प्रतिमा पुरी का बचपन का नाम विद्या रावत था। प्रतिमा ने शिमला में ऑल इंडिया रेडियो से अपने करियर की शुरूआत की लेकिन जल्द ही उन्हें दिल्ली भेज दिया गया। खूबसूरत चेहरे की मालिक और मखमली आवाज की धनी प्रतिमा को न्यूज रीडर के तौर पर चुन लिया गया और इस तरह छोटे पर पर दिखने वाली वह पहली भारतीय महिला बन गई। यह वह दौर था जब देश की अधिकतर महिलाएं चूल्हे- चौके तक सीमित थीं, प्रतिमा पूरे आत्म विश्यवास के साथ देश दुनिया की खबरें पेश करती थीं। प्रतिमा ने अन्तरिक्ष में जाने वाले पहले व्यक्ति युरी गगारिन का इंटरव्यू भी किया था।
यू रहा सफर
प्रतिमा पुरी ने लम्बे समय तक दूरदर्शन में काम किया और बाद में वह नए न्यूजरीडर और न्यूज एंकर को प्रशिक्षित करने में जुटी रहीं।
1960में स्वाधीनता दिवस और गणतंत्र दिवस कार्यक्रमों का बगैर ओबी वैन (आउटडोर ब्राडकास्ट) की मदद से सीधा प्रसारण शुरू हुआ। इसके लिए प्रधानमंत्री के भाषण स्थल तक स्टूडियो की सारी व्यवस्था पहुँचाई गई। इस बीच फोर्ड फाउंडेशन से एक सर्वेक्षण दल भारत में शैक्षणिक टेलीविजन कार्यक्रमों के प्रसारण की संभावना का पता लगाने यहाँ आया। 1961 में भारत की पहली विद्यालयीन टीवी प्रसारण सेवा की शुरूआत 24 अक्टूबर को हुई। दिल्ली नगर निगम के तत्वावधान में संचालित इस सेवा से विज्ञान विषयक कार्यक्रमों का प्रसारण प्रारंभ हुआ। वर्ष 1962 में टीवी सेट का लाइसेंस सिर्फ इकतालीस व्यक्तियों के पास था। वर्ष 1965 में आकाशवाणी भवन के स्टूडियो सभागार से 15 अगस्त को नियमित दूरदर्शन प्रसारण की शुरूआत, प्रतिमा पुरी पहली भारतीय टीवी उद्घोषिका बनीं।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *