दादा ‘चुहड़ी बोटी’ धाम बनाने के लिए मशहूर रहे 70 साल, पोता होटल संचालन में कर रहा कमाल, सुंदरनगर के होटल रूप को पहले ही साल सफल ब्रांड बनाने वाले नीरज पंडित की प्रेरककथा

Spread the love

दादा ‘चुहड़ी बोटी’ धाम बनाने के लिए मशहूर रहे 70 साल, पोता होटल संचालन में कर रहा कमाल, सुंदरनगर के होटल रूप को पहले ही साल सफल ब्रांड बनाने वाले नीरज पंडित की प्रेरककथा
सुंदरनगर से विनोद भावुक की रिपोर्ट
बीबीएमबी सुंदरनगर में जॉब करने वाले ‘चुहड़ी बोटी’ के हाथों में ऐसा जादू था कि उनकी पकाई धाम को खाने वाले उंगलियां चाटते रह जाते थे। उन्होंने 70 साल तक धाम पकाने का काम किया और अपनी पाक कला से दूर- दूर तक पहचान बनाई। उन्हीं के सबसे छोटे पोते नीरज शर्मा जिन्हें उनके चाहने वाले नीरज पंडित के नाम से जानते हैं, होटल संचालन में कमाल कर रहे हैं। नीरज पंडित ने होटल प्रबंधन की डिग्री लेने के बाद होटल द लीला सहित कई पांच सितारा होटल्स में प्रबंधन का काम किया है।
एक साल पहले उन्होंने नौलखा, सुंदरनगर के ‘होटल रूप’ को लीज पर लेकर अपने स्टार्टअप की पहल की और पहले साल में ही होटल में सबसे ज्यादा मैरिज पार्टी और दूसरे इवेंट करवाने का रिकॉर्ड बना कर इसे सफल ब्रांड बना दिया। होटल का मतलब घर से दूर घर जैसा एहसास, नीरज पंडित ने अपनी मां के उस वचन को आत्मसाध किया कि जैसे घर का प्रबंधन किया जाता है वैसे ही होटल का भी प्रबंधन किया जा सकता है। यही उनकी सफलता का मन्त्र है। नीरज पंडित होटल प्रबंधन के साथ ‘हिमांक हॉलीडे’ के नाम से एक ट्रैवल कंपनी का भी संचालन करते हैं और नवरात्रों में सफर सारथी के ब्रांड नाम से डोमेस्टिक और इंटरनेशनल पैकेज के साथ ट्रैवल एजेंसी शुरू करने जा रहे हैं।
फाइव स्टार होटल प्रबंधन में 12 सालों का अनुभव
1 जनवरी 1987 को अरुणाचल पुलिस के एसआई युधिस्ठर शर्मा और हरिप्रिया शर्मा के घर पैदा हुए नीरज सबसे छोटे बेटे हैं। नीरज ने साल 2009 में चंडीगढ़ से होटल मैनेजमेंट की डिग्री ली और एमबीए की पढ़ाई शुरू की, पर इसे बीच में छोड़कर होटल द लीला सहित कई पांच सितारा होटल्स में सेवायें प्रदान की। इस दौरान उन्होंने होटल प्रबंधन के गुर सीखे और कई क्लाइंट्स और इस इंडस्ट्री से जुड़े लोगों के साथ बिजनस रिलेशन डवलप किये। इस उद्योग में 12 साल के गहन अनुभव के बाद उन्होंने नौलखा, सुंदरनगर में होटल रूप को लीज पर लेकर खुद का स्टार्टअप शुरू किया।
जॉब से स्टार्टअप तक कई लोगों का सहयोग
नीरज पंडित का कहना है कि उन्हें मेजबानी के उद्योग में लाने में कई हस्तियों का आशीर्वाद और साथ मिला है। वे इस इंडस्ट्री में लाने का श्रेय बायोलोजी के लेक्चरर दीपक राय को देते हैं, जिन्होंने नीरज को इस उद्योग की कई बारीकियां बताई। होटल रूफ के मालिक सुरेश ठाकुर ने भी नीरज के करियर को नई दिशा देने में सम्पूर्ण सहयोग दिया। मनाली के एक रिसोर्ट में महाप्रबंधक विनय मिन्हास उनके इंडस्ट्रियल गुरु हैं। नीरज पंडित का कहना है कि जॉब से स्टार्टअप के सफर में जिन विशेषज्ञों का सहयोग मिला, वे उनके हमेशा आभारी रहेंगे।
समाजसेवा में आगे हैं नीरज पंडित
नीरज पंडित समाजसेवा में भी हमेशा आगे रहते हैं। कोरोना काल में नीरज ने कोरोना वालंटियर के तौर पर फ्रंट पर काम किया है। उपमंडल प्रशासन ने प्रमाणपत्र देकर उनके इन प्रयासों की सराहना की है। वे रक्तदान शिविरों के दौरान रक्तदाताओं को फ्री रिफ्रेशमेंट उपलब्ध करवाते आ रहे हैं। उन्होंने विभिन्न हादसों के दौरान तीन लोगों को नवजीवन देने में अहम भूमिका निभाई है। नीरज की पत्नी पूजा शर्मा होटल के एडमिन में उनका सहयोग करती हैं। इस दम्पति की 6 साल की बेटी उन्नती है। नीरज के बड़े भाई धीरज कुमार शर्मा संस्कार पब्लिक स्कूल रजवाड़ी के चेयरमैन हैं जबकि बहन ज्योती शिक्षिका हैं।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *