‘टीचर विलेज’ के नाम से मशहूर सीएम रामलाल ठाकुर का गांव ‘मंझोटली’, थाने-कचहरी नहीं पहुंचा कभी कोई मामला, हर घर में एक से ज्यादा निजी वाहन, गांव सात साल पहले हो चुका खुला शौचमुक्त

Spread the love

‘टीचर विलेज’ के नाम से मशहूर सीएम रामलाल ठाकुर का गांव ‘मंझोटली’, थाने-कचहरी नहीं पहुंचा कभी कोई मामला, हर घर में एक से ज्यादा निजी वाहन, गांव सात साल पहले हो चुका खुला शौचमुक्त
चौपाल से रतन चंद निर्झर की रिपोर्ट
शिमला के चौपाल उपमंडल के ‘मंझोटली’ गांव को ‘टीचर विलेज’ के नाम से जाना जाता है। इस गांव के 99.9 फीसदी लोग सरकारी मुलाजिम हैं, जिनमें 85 प्रतिशत पेशे से अध्यापक हैं। गांव में सामाजिक एकता की बिरली मिसाल देखने को मिलती है। इस गांव के बशिंदों में कभी कोई विवाद नहीं हुआ और न ही कभी कोई मामला थाने या कचहरी तक पहुंचा। गांव की खुशहाली का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि यहां के हर घर में एक से ज्यादा निजी वाहन हैं। सफाई के प्रति लोग कितने जागरूक हैं, इसे इस उपलब्धि से समझा जा सकता है कि यह गांव सात साल पहले ही पूर्ण रूप से खुला शौचमुक्त हो चुका है।
हाईवे पर बसा गांव, गांव में पेट्रोल पंप
मंझोटली गांव के साथ चौपाल नगर पंचायत की सीमा लगती है बाजार गांव से आधा किलोमीटर की दूरी पर है। गांव के बीचोंबीच से स्टेट हाईवे गुजरता है। गांव में अब पेट्रोल पंप की सुविधा भी है। बागवानी ग्रामवासियों का मुख्य पेशा है। अच्छी आय होने के चलते यहां रिहायशी भवन बहुत सुंदर हैं। मजे की बात यह है कि गांव के किसी भी निवासी ने अपने मकान में कोई किरायेदार नहीं रखा है। गांव की पुरातन संस्कृति आज भी कायम है और युवा पीढ़ी प्रगतिशील है।
चुड़ेश्वर महाराज आराध्य देव
गांव के आराध्य देवता शिरगुल महाराज हैं, जिन्हें चुड़ेश्वर महाराज के नाम से जाना जाता है। इस गांव मेंं ज्योतिष विद्या में माहिर उच्च श्रेणी के विद्वान ब्राह्मण रहते हैं। गांव में ब्राह्मणों और राजपूतों की संख्या बराबर-बराबर है, जिनमें आपसी भाईचारे और तालमेल की मिसाल कायम है। इस गांव के यजमान ब्राह्मणों का बहुत आदर-सत्कार करते है। यह गांव आपसी भाईचारे की मुंह बोलती तस्वीर है। गांव में नाममात्र दलित समुदाय के लोग हैं। सालों से सामाजिक, धार्मिक और निजी समारोहों में तीनों समुदाय के लोग शाामिल होते आ रहे हैं।
सीएम रामलाल ठाकुर का गांव
कहा जाता है कि रियासतकाल में चौपाल नामक स्थान पर सभी पहाड़ी राजाओं की चौपाल लगती थी। चौपाल के बगल में बसा मंझोटली गांव प्राकृतिक रूप से बेहद सुंदर है। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ठाकुर रामलाल इसी गांव में रहते थे और चौपाल में वकालत करते थे। बताया जाता है कि ठाकुर रामलाल वॉलीबाल के अच्छे खिलाड़ी थे। मंझोटली में ठाकुर रामलाल की जमीन अभी भी है, जिसमें स्थानीय लोग फसल उगाते है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *