छोडी साइंस की पढाई, जॉब भी ठुकराई, चित्रकला में मंजिल पाई, नेशनल एग्जीविशन में हिमाचल का प्रतिनिधित्व कर चुके मंडी के प्रवीण के रंगों के सफर की प्रेरककथा

Spread the love

छोडी साइंस की पढाई, जॉब भी ठुकराई, चित्रकला में मंजिल पाई, नेशनल एग्जीविशन में हिमाचल का प्रतिनिधित्व कर चुके मंडी के प्रवीण के रंगों के सफर की प्रेरककथा
मंडी से विनोद भावुक की रिपोर्ट
शिमला फाइन आर्ट्स कॉलेज के फस्र्ट बैच के स्टूडेंट प्रवीण रावत चित्रकला की दुनिया में ऊंची उड़ान भर रहे हैं। रंगों से खेलने के उनके हुनर ने उनको खास बना दिया है। उनके काम को नई पहचान मिलने लगी है और कई चित्रकला प्रतियोगिताओं को अपने नाम कर चुके हैं। उनके शानदार चित्रकला के लिए कई बार सम्मानित किया गया है। प्रवीण रावत स्टेट इंटर कॉलेज यूथ फेस्टिवल के विजेता हैं और उनका काम नेशनल एग्जीविशन के लिए सेलेक्ट हुआ है। वह राष्ट्रीय स्तर पर हिमाचल प्रदेश का प्रतिनिधित्व कर चुके है।
मंडी जिला की बल्ह घाटी के ट्रोह गांव के प्रवीण रावत ‘हिमालयन आर्टिस्ट’ नाम से फेसबुक पेज का संचालन करते हैं, जहां उनके रंगों के संसार को देखा जा सकता है। शिक्षक दम्पति के बेटे प्रवीण के कला के सफर की कहानी बेहद रोचक और प्रेरक है। साइंस की पढ़ाई छोड़ और जॉब को ठुकरा कर चित्रकला में मंजिल पाने वाले इस युवा चित्रकार प्रवीण रावत ने साबित किया है कि जिद और जुनून से अपने सपनों में रंग भरे जा सकते हैं।
जॉब छोड़ कला का प्रशिक्षण
स्कूल की पढ़ाई करने के बाद प्रवीण रावत बीएससी की पढाई कर रहे थे तो पढने से मन उचाट हो गया। पढ़ाई छोडक़र कर एक प्राइवेट कंपनी में जॉब कर ली। आकर्षक पैकेज वाली जॉब में भी प्रवीण को वह बात नहीं दिखी, जिसकी वह तलाश में पढ़ाई छोड़ी थी।
दरअसल, पचपन से ही प्रवीण को रंगों की दुनिया में गहरे उतरने की चाहत थी, लेकिन उसे सही राह नहीं दिख रही थी। चित्रकला में खुद को साबित करने के लिए एक दिन प्रवीण ने जॉब को क्विट कर दिया और कला की दुनिया की ओर मुड गया। प्रवीण ने इंडियन अकादमी ऑफ फाइन आर्ट्स अंबाला में एडमिशन ले ली।
उम्मीदों को लगे पंख
अंबाला आकर मानों प्रवीण की उम्मीदों को पंख लग गए। अंबाला से कला साधना का सफर शुरू हो गया। अंबाला में एक साल के अध्ययन ने प्रतिभा को निखार दिया। एक साल के बाद प्रवीण ने चंडीगढ़ को अपनी कार्यस्थली बना लिया और आईएफए को ज्वाइन कर लिया।
2014- 15 में उसने यहां से प्रवीण ने फस्र्ट प्राइज जीत कर अपने नाम की धूम मचा दी। पंजाब यूनिवर्सिटी रोज फेस्टिवल सहित कई चित्रकला प्रतियोगिताओं के प्रथम पुरस्कार अपने नाम किए। कला समीक्षक भी उनके काम को सराहने लगे।
शिमला में फाइन आर्ट्स का स्टूडेंट
बेशक प्रवीण के काम को चंडीगढ में पहचान मिलने लगी थी, लेकिन कला की बारीकियों को सीखने और रंगों में और गहरा उतरने की जिद हमेशा बनी रही। एक साल बाद ही चंडीगढ छोडक़र प्रवीण ने शिमला फाइन आर्ट्स कॉलेज के फस्र्ट बैच में दाखिला ले लिया।
यहां प्रवीन की चित्रकला में गंभीरता आती गई। उनके काम को नई पहचान मिलने लगी, शानदार चित्रकला के लिए उसे कई बार सम्मानित किया गया। कई प्रतियोगिताओं को अपने नाम किया। प्रवीन स्टेट इंटर कॉलेज यूथ फेस्टिवल का विजेता है। प्रवीण रावत का काम नेशनल एग्जीविशन के लिए सेलेक्ट हुआ यह युवा पेंटर राष्ट्रीय स्तर पर हिमाचल प्रदेश का प्रतिनिधित्व कर रहा है.।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *