‘छिट्टे’ देई ‘बाजूरा’ निकळी गेया ‘दूरा’, पूर्ण चंद पद्म ‘बाजूरा’ दियां कवतां च हलदूण घाटी रे पौंग डैमे च डुबणे बिछडऩे दी पीड़

Spread the love

‘छिट्टे’ देई ‘बाजूरा’ निकळी गेया ‘दूरा’, पूर्ण चंद पद्म ‘बाजूरा’ दियां कवतां च हलदूण घाटी रे पौंग डैमे च डुबणे बिछडऩे दी पीड़

फतेहपुरे ते वीरेंद्र शर्मा ‘वीर’ दी रिपोर्ट

इस संसारे च दो सौ ते जादैं देस हन्न, हर देसे दा अपणा-अपणा त्याहस, समाज कनै, अपणी-अपणी संस्कृति कनै बोली। चीन दे बसिंदे चीनी भाखा बोलदे, जापान दे जपानी, किछ देसां दे लोक उड़दू बोलदे किछ ग्रेजी तां किछ होर। पर हर देसे च इक्क दी इक्क देह्यी रुत, इक्क दे रीति-रुआज, इक्क देह्यी बोली कनै भाषा। इसते उलट अपणे भारत देसे दी तां गल्ल ई बखरी ऐ। साड़े देसे च छेयां दी छे सब रुत्तां, पर्वत, मदान, पठार, रतीले लाके, डेल्टे, अणमुक छोटियां-बड्डियां झीलां, खड्डां-दरया, समुदरे दे कंड्डे, बखरे-बखरे लाके च हर तरह दी बखरी-बखरी फसलां। तिह्यां ई बखरे-बखरे धर्मा दे लोक, बखरी-बखरी संस्कृति कनै बोलियां। मता किछ इक लाके ते दुए लाके च लाहदा, फिरी बि जे डुग्गी नजर दुड़ाई के दिक्खि तां अपणा देस इक्क। स्याणे मते बरी बोलदे बि सुणयो पई कुसी बि देसे कनै समाजे दी असल तरक्की सभ्यता कनै संस्कृति, कनै साहित्य ते नापी जाई सकदी। अपर गल्ल एह बि ऐ पई सभ्यता, संस्कृति कनै साहित्य जो जे कोई चीज अमीर बणांदी ऐ तां सैह हुंदी मां बोली। साडे भारत देसे च कुल 122 भाखा हन्न, जिन्हां च 22 भाखां संविधान दे अनुच्छेद 8 च सामल हन्न। इसते बि बड्डी गल्ल पई करीब-करीब 1652 बोलियां बोलियां जांदियां। इन्हां ई बोलियां च इक्क मिठड़ी जेह्यी बोली ऐ हातड़ बोली म्हाचली पहाड़ी। मन्नेयां पई कोहे परती लैहजा बदलोई जांदा पर फिरी बि म्हाचली पहाड़ी जो करीब सत्तर लख लोक बोल्दे। पराणे समेयां ते लई के अज्जे तिक्कर हर लैहजे च फोलणियां, गीत-संगीत, तीज-तुहार, संस्कार, लोककथां, दादिया-नानियां दियां कहाणियां, नुस्खे, राजे-महाराजेयां दे बहादरिया दे किस्से, बैदां दे बदंग होर प्रेमकथा-कहाणियां नौखे-नौखे रंगा च लखोंदियां औआ करदियां। जितणा मसहूर एह सब ऐ उतणा ई मसहूर इस्यो समे-समे पर लिखणे आळे लखारी। सब गल्लां करिए कनै मां बोली पहाडिय़ा च लिखणे आळे देहि मिठड़ी सोच रखणे आळे लखारिए पूर्ण चंद पद्म ‘बाजूरा’ दा जिक्र न करिए तां मि गल्ल नी जचदी। पूर्ण चंद पद्म ‘बाजूरा’ दा जन्म अन्ने दा कटोरा मन्ने जाणे आली पौंग डैमे च पाणिए हेठ डुबी गई पवित्र हलदूण घाटी दे ग्राएं बचोलड़ (मंगवाळ) च जुलाई 1943 ( विक्रमी संवत 13/सौण/2001) दैं सुभ ध्याडैं बापू कन्हैया लाल बाजूरा होरां दैं घरैं माता दलुम्बी देवी दिया कुखा ते होया। दसमीं घृत आर्य हाई स्कूल मंगवाळ ते कित्ती, जेबीटी चढिय़ार पालमपुर ते। कनै मास्टर लगी गे। फिरी पंजाब यूनिवर्सिटी ते प्राइवेट प्रभाकर कित्ती, कनै हिंदी मास्टर दे तौर पर तरक्की पाई।

पढ़देया-पढ़देयां तुकबंदी

 

घरेलू संस्कारां दी गल्ल बोलिया जां हलदूणे दी पजाऊ मिट्टिया दी सुगंध, जमीना नै जुड़ेयो जमीनी माहणु पूर्ण चंद पद्म बाजूरा बचपने ते ई जमीनां मने च गुनगुणाणा सुरू करी तेया हा, तुकबंदी बि सुरू पढ़देया-पढ़देयां ई सुरू करी दित्तियो थी। तिन्हां हाल्ली होस सम्हाळेया ई था कि हल्दूण घाटी दिया जमीनां पौंग डैमे च औणे दे चर्चे पौणा लगी पेओहे। इहा गल्ला तिन्हां दे मने पर डुग्घा असर कित्ता।

सोमनाथ सोम रेह साहित्यिक गुरु

पहाड़ी कबतां दा त्याहस मता पराणा ऐ कनै, इसजो लोकमानस च रचे बसे कनै गाए जाणे आळे पराणे म्हाचली पहाड़ी गीतां-भजनां ते सानिया नै समझी सकदे। पराणे लखारी तां मते होए, फिरी बि पहाड़ी गांधी कांसी राम कनै हरनाम दास होरां जो आधुनिक म्हाचली पहाड़ी भाखा दा मूहरला कवि मन्नेया जाया सकदा। तिन्हां ते मते परभाबत होए, फिरी बि सोमनाथ सोम होरां जो साहित्यिक गुरु मन्नेया, कनै तिन्हां देयां चरणां च बेह्यी के सही तरीके न लिखणा सिक्खेया।

 

म्हाचली भाखां दा ख्याल

 

सैह बोलदेहे पई अज्ज बड़ी लोड ऐ पई असां बुजुर्गां दी देण सभ्याचार, संस्कृति दी अपणी मां बोली म्हाचली पहाड़ी दे जरिए राखी करिए। सैह एह बि ग्लांदे हे पई मां बोलियां दा असल सुआद ई माऊ दे दुद्धे दा सुआद ऐ। सैह पई किछ लोकां जो भलेखा ऐ पई मातृभाषा राष्ट्रभाषा दे रस्ते दा रोड़ा हुंदी। सैह ग्लांदे हे पई जे अहां पिछले त्याहसे दा दरुआजा घुआड़ी के दिक्खिए तां पता चलदा पई मातृभाषां ता म्हेशा ई राष्ट्रभाषा रूपी माळा दे मणकें मुजब हुंदियां। मतबल मां बोलिया दा बाद्धा राष्ट्रभाषा दा बाद्धा हुंदा।

 

जमीनां नै जुडिय़ां गल्लां

 

पूर्ण चंद पद्म बाजूरा होरां धरती नै जुडिय़ां गल्लां करदे कनै लिखदे। संयोग-बजोग, हास-परिहास, देसप्रेम, वीर रस, राजनीति, पखंड अपणियां धरतु ते बिछडऩे दा दुख कनै डुबदेयां घरां खेतां, स्कूलां, समाज, विरह-बेदण, तीज त्याहरां मेलेयां-छिंझां दियां यादां च हलदूणे जो पौंगे च डुबणे साई डुब्बी के लिखदे। ता उम्र तिन्हां दे लिखणे दा मूल आधार व्यंग कनै विस्थापन इ रेह्या।
उदाहरण ताईं किछ कवतां दे नां दिक्खिए तां अप्पु ई पता लगी जांदा-

हारे दी बड़, बणजारे गीत,
चेते जां आई जांदी तू,
चेते कैंह नी भुलदे,
येन मार्गेण महाजना गच्छन्ति,
प्रीतां दियां रीतां, लो आई जगदी,
गीठिया दी गल्ल, पारलिया दी नूंह,
लई जायां संदेश कवतां
अपणी कहाणी खुद बोलदियां।

अम्मां-बापुए जो समर्पित कित्ति ‘छिट्टे’

 

मित्तर नवीन हलदूणवी होरां दे आग्रह पर अम्मां-बापुए जो समर्पित मतेयां रंगां च रंगोइयां 45 कवतां दा पोथु ‘छिट्टे’ सन् 1985 च छप्पेया, कनै मता पसंद कित्ता गेया। संभावना तां तिन्हां दिया कलमां ते होर मता किछ छैळ छैळ लखोणे दी थी, पर होणी अग्गैं कुहदी पेस चल्ली। इक्क ऐक्सीडेंट बाहन्ना बणेया कनै तिन्न मुन्निया इक्क मुंडु अपणे पिच्छै छड्डी छोटिया उम्रा च सैह सुरग सधारी गे।

 

कई पत्रिकाएं च छपी कवतां

 

स्पष्टवादी, भोळा-भाळा माहणु कनै ग्राएं दे कविए ते मसहूर पूर्ण बाजूरा होरां दि रचना, कवतां, कहाणियां स्मृति, वीरप्रताप, हिमभारती, हिमधारा, नामीचेतना बल्लभ डोभाल दी मासिकी बगैरां पत्र-पत्रिकां च पहाड़ी-हिंदी च लगातार छपियां। सन् 1978 च डॉ. प्रत्यूष गुलेरी होरां इक साझा काव्य संग्रह ‘मने दी भड़ास’ संपादित कित्ता तिस च दस-बारह कवियां दियां दस-दस कवतां छपियां। तां गुलेरी होरां डॉ. गौत्तम व्यथित, कमर करतार सौगी अपणे पक्के यथार्थवादी जमाती पूर्ण चंद पद्म बाजूरा दी रचना बि सामल कित्ति। हिंदी कहाणी संग्रह ‘स्मृति’ च कहाणियां छपियां।

 

साहित्यकार मित्र मंडली

 

लोक कवि नवीन हलदूणवी होरां दे पक्के मित्तर बाजूरां होरां अपणे टैमें देयां मूहरलेयां लखारियां डॉ. शम्मी शर्मा, डॉ. गौत्तम व्यथित, ओमप्रकाश प्रेमी, सागर पालमपुरी, डॉ. पियूष गुलेरी, डॉ. प्रत्यूष गुलेरी, देसराज डोगरा, शेष अवस्थी, डॉ. प्रेम भारद्वाज, संसार चंद प्रभाकर होरां, हरिकृष्ण मुरारी सौगी बाजूरा होरां मूंहडे नै मूंहडा जोड़ी बरोबर लिखदे रेह।

 

साहित्यकार परिषद दे सदस्य

स्व. पूर्ण चंद पद्म ‘बजूरा’ हिमाचल साहित्यकार परिषद, कांगड़ा लोक साहित्य परिषद दे सक्रिय सदस्य कनै कांगड़ा साहित्य एवं कला मंच दे उपाध्यक्ष बि रेह।

बजूरा होरां दियां किछ कवतां

हारे दी बड़
जुग बीते केई पीढिय़ां गेइयां
केई जम्मे कनै पळे बड़ोए
जुग बदलोया केई किछ होया
एह देह्या प्हलैं कदी नी होया।
बिना कसूरैं तेज कुहाडिय़ा…
जिस्म जिसा दा डकरे होया।
पर उपकारी बड़ी दी हालत
दिक्खी एह दिल छम-छम रोया।
बिच हारे दे पधर-मदानै
बड़ होंदी थी बड़ी पराणी।
एह तिसा दी राम कहाणी।।
पंजी दा मेला जे लगदा
खलकत बौंह्दी औंदी-जांदी
कोरे घड़े दा पाणी प्याई
इक्क बुड्ढी थी पुन्न कमांदी
सौण महीना काळे बद्दळ
पत्तर-पत्तर छुई-छुई जांदे।
लाई झुटारा पींघा दा थे
कुडियां-मुंडु गीतां गांदे।
दिक्ख मैं पत्तर छूई नै औणा
पींघ मैं हाली होर हंघाणी
एह तिसा दी राम कहाणी।।
समे नै खेली खेल निराली
सैह बड़ डकरे-डकरे होई
पलवाणां लेखा डाहळ तिसा दे
चलेया आरा गे बढोई
हुण नी तित्थु पींघां पौणियां
हुण नी तित्थु कदी जग लगणे।
नचणा नी कुनी धान नी गाहणे
हुण नी ढोल-नगारे बजणे।
पौंग-डैमैं ताइऐं जिन्ना
दित्ती दिक्खा एह कुर्बानी।
एह तिसा दी राम कहाणी।।

गीठिया दी गल्ल
अग-झळोका ला ओ मुंन्नु
थर-थर देइयैं देह कंमदी
एह ठंड स्याळे दी अग्ग मंग्गै
रोटी-पाणी नी मंगदी।।
बुड्या बी गुठ लाया कूणा
खंऊ-खंऊं देईयैं सैह खंगदी
मुसकल मेद ऐ-स्याळे कट्टै
अज्ज लंघदी के कल लंघदी।।
खपरे-नाळू टुटी भजी गे
झड़ी बी बरिया दी लग्गै
कंडा-कंडा खड़ा होआ दा
टक-टक देइयैं दंज बज्जै
खिंद-खंधोलु लीरां-लीरां
एड़ा सीत ओडक़ोंदा नईं।
सिर ढंका तां पैरां नंगा
एह पूरा कदी ढयोंदा नईं
तिदि पर हवा बि जानी दुसमण
बिह्नी अक्खा-बक्खां जा।
कनै तू बोलैं ‘बाबा राजे ढोलणे
दियां क्या सुणां’
बच्चा राजेयां राज इ करने
राजेयां दी क्या कहाणी होर
गीठिया बैठी मन पतयाणा। 
इकसी जो नी लीरां जुड़नियां
दआ टौहर बणा करदा
दूए दा ऐ ढिढ भरने आला
खाली ढिढ बजा करदा
मैं निह्यां दा पत्थर बणेयां
महळ चणोए मेरे पर
मिंजो समझेया धेला ई पर
नोट गणोए मेरे पर
जोड़-जोड़ जिसमां दा मेरा
करम कहाणी बोला दा
सुणा न मेरिया कथा ओ मुन्नु
क्या बोलां जो तोला दा
जे नी तोले बोल तू मेरे
इक दिन तू पछताणा ऐं
तिज्जो बी तेरैं पोतरुऐं ओ
इक दिन एई गलाणा ऐं।।
बाबा गीठिया अग्ग बाळियो
आ इदैं सेकैं बई जा
चिलम भरी दिन्ना
तू राजे ढोलणे दी कथा सुणा।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *