चाचू शेर सिंह के गीतों को गुनगुना कर सिंगर बन गई भतीजी भावना जरयाल

Spread the love

चाचू शेर सिंह के गीतों को गुनगुना कर सिंगर बन गई भतीजी भावना जरयाल
पालमपुर से ललिता कपूर की रिपोर्ट
कई लोकगीतों को अपनी आवाज से अमर कर देने वाले चंबा के स्वर्गीय लोकगायक शेर सिंह जरयाल की भतीजी भावना जरयाल अपने चाचू को गाते सुनते- सुनते ही एक सफल लोकगायिका बन कर उभर गई.
आज उसके गाये कई पहाड़ी गीत लोगों की जुबां पर हैं और हिमाचल प्रदेश के अलावा देश के दूसरे प्रदेशों में रेग्युलर परफॉर्म कर रहीं हैं.
पहली अलबम से हिट
भावना की पहली म्यूजिक अलबम साल 2010 में राजमा आई थी जो सुपर- डुपर हिट रही थी. इसके बाद गुजरी बदनाम और राम मेरे जोगनिया ने भी खूब वाहवाही लूटी. उसके बाद आई चंबयाली क्लचर पार्ट-1 अलबम भी हिट रही. जल्द ही भावना की केलंग नाटी रिलीज होने वाली है.
आम घर की बेटी बनी खास
चंबा के सलूणी की भावना एक साधारण कृषक परिवार में पैदा हुई. उनकी एक बहन और एक भाई है. भावना ने अपनी गायन प्रतिभा से बड़ा मुकाम हासिल किया है.
भावना का कहना है उनकी प्रतिभा को निखारने में उनके परिजनों की बहुत भूमिका रही है. हर भावना को सुखद भविष्य की कामना करते हैं.

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *