कुल्लुवी च देई गे कृष्णे दा संदेश, लाल दास ठाकुर ‘पंकज’ होरां कुल्लुवी च करी गे गीता दा छंदोवद्ध अनुवाद

Spread the love

कुल्लुवी च देई गे कृष्णे दा संदेश, लाल दास ठाकुर ‘पंकज’ होरां कुल्लुवी च करी गे गीता दा छंदोवद्ध अनुवाद
चंडीगढ़े ते वीरेंद्र शर्मा ‘वीर’ दी रिपोर्ट
चंबा, कांगड़ा, मंडी, लाहौल-स्पीति, शिमला, सिरमौर, कुल्लू जिलेयां दे मतेयां सारेयां लाकेयां च हालांकि हूणके समेयां च‌ ल्हात फीह् काफी सुधरी गेयो, पर पैहलकणेयां समेयां बारे सोची के बी रौंगटे खड़े होई जांदे। भलेयां समेया दी गल्ल ऐ जिला कुल्लू दे मते सारे लाके हर सुख सुबधां ते लगभग दूर ई थे। बंजार ते कोई पंद्रह किलोमीटर दूर बड़े दुर्गम लाके च छोटे देह ग्राएं चिपणी दे बसिंदे कनै ग्रांएं दे देबते दे मुख कारदार परस राम ठाकुर होरां पर ताऊआं- चाच्चेयां देयां परुआरां जो किठे रखणे सौग्गी परुआरे दे करीब सठां माहणुआं दी जिम्मेदारी थी। एड्डे बड्डे परुआरे दा खर्च चलाणा सौखा कम्म नी था।
कारदार परसराम होरां दैं घरैं जम्मे लाल दास
कारदार परसराम होरां दैं घरैं लाल दास ठाकुर दा जन्म 8 मार्च 1924 ध्याड़ैं होया। इक्कतां टब्बर भारी, उपरे ते कमाई घट्ट कनै दुआ चार- चफिरदिया घणे जंगल, नाळ गोहर। बंजार ते रुआहं नेड़े- तेड़ैं कोई स्कूल बी नी था, इस‌करी पढऩे ताईं चौदह- पंद्रह किलोमीटर दूर जाणा पौंदा था। मते सारे न्याणे इस करी बी नी पढ़ी पांदे थे, पर लाल दास ठाकुर तां कुसी होरसी मिट्टिया दे थे बणेयो। जमणोतरू ई हर गल्ला च‌ तेज लाल‌ दास पढ़ाईया- लखाइया च बी तेज निकळेया।
‘कमाल’ दी पारखी नजर दा कमाल
लाल‌ दास जो शेर-ओ-शायरी, तुकबंदिया दा शौक बि तौळा ई लगी गेया। सतमीं च पुज्जेया तां मसहूर शायर पंडित लोभु राम “जोश” मलसयाणी दे सगिर्द लाला जगन्नाथ “कमाल” होरां दी पारखी नजऱ लाल दास ठाकुर पर पेई। “कमाल” स्कूले दे हैडमास्टर कनै अब्बल दर्जे दे शायर थे। सैह बच्चेयां जो अंग्रेजी पढ़ांदे थे। ‘कमाल’ होरां अक्सर अपणे किछ‌ शेर सुणाई कुल्लई भासा च तिसदा अर्थ पुछदे। पहला शेर जिद्हा अर्थ लाल दास‌ ठाकुर ते पुच्छेया सैह था-
‘जिंदगी है खेल, दुनिया खेल का मैदान है।
खेलने की तरह जो खेले, वही इन्सान है।।’
लाल दास ठाकुर नै अर्थ बि दस्सेया कनै अनुवाद बी कित्ता। शेर दा अर्थ पुछणे कनै पहाड़ी च दसणे दा असर होणा लग्गा, मात्रां कनै कवता गज़ल दा थोड़ा बौत होर ज्ञान बी तिन्हां लाल दास दी लग्न जो दिखदे होए दित्ता, पर अठमी करी के लालदास निकळी गे कनै कमाल‌ होरां दा बि तबादला होई गेया।
नौकरिया सौगी पढ़ाई- ल्खाई
लाल दास नैं कुल्लु ते दसमीं कित्ती उसते बाद किछ समा मास्टर लग्गे पर एह नौकरी छड्डी के कॉ- ऑपरेटिव पभाग च लगी गे। नौकरिया सौग्गी बीए प्राइवेट कित्ती। शिमला- लाहौल स्पीति दे कई लाक्केयां समेत काजा, कुल्लू नौकरी करी इंस्पेक्टर बणी के सन 1983 च रटैर होए। नौकरी करने दुरान ई अपणे आदर्श कनै गुरु हैडमास्टर ‘कमाल’ होरां जो तोप्या कनैं तिन्हां जो अपणियां अधपकियां गज़लां ठीक करने भेजियां। गलतियां तां तिन्हां सुधाइयां ई सुधारियां सौग्गी गज़ल लिखणे ताईं इल्म- ए -उरूज़ / छंद शास्त्र पर बी बड्डा सारा लेख लिखी के भेजेया, जिस जो पढ़ी करी लाल‌ दास ठाकुर गज़ल/ छंद दोहे लिखणे दे माहिर बणे।
‘कमाल’ होरां दिया चि_िया दी गल्ल
‘कमाल’ होरां चि_िया च ई इक्कगल्ल बोल्ली, भई लिखणा सखाई जरूर दिंदा पर, तीह् तिक्कर नी लिखणे दी स्लाह दित्ती, जीह तिक्कर सैह खुद न बोल्लण। थोडेयां दिना बाद ‘कमाल’ होरां दा इन्तकाल होई गेया कनै सगिर्दया आळी गल्ल अधूरी रह्यी गई। लाल‌ दास जो मां बोल्ली कुल्लुई च लोककथां, लोकगीत न सिर्फ सुणने जो खरे लगदे, प्रेरित बी करदे थे। पुराणियां कबतां, ग़ालिब, मीर, इकबाल भी पढऩे जो खरे लगदे थे। लाल‌ दास दियां गज़लां च इन्हां दा प्रभाव बी खूब नजऱ औंदा।
कुल्लुवी च गीता दा छंदोवद्ध अनुवाद
कुल्लु च कुछ कथां देह देह्यियां बि लोक गांदे थे, जिन्हां जो पूरा गाणे ताईं अठ – अठ दिन बि लगी जांदे थे। कुसी दे गलाणे पर लाल दास ठाकुर जो गांह दियां पीढिय़ां ताईं कुछ संजोणे दी प्रेरणा मिल्ली। उड़दू च लखोणे आळी गज़ल किछ पचांह रेह्यी गई, कनै लाल दास ठाकुर “पंकज ” साहित्यिक नाएं ते पवित्र ग्रंथ गीता दा कुल्लुवी बोलिया च छंदोवद्ध अनुवाद करी ता। यह कताबा दिया शक्ला च साल 1996 च “कुल्लू री बोली नां भगवद्गीता” दे नाएं ते प्रकाशित होई।
पंकज होरां इसा कताबा च अनुवाद करदी बरी एह खूब ख्याल रख्खेया भई मूल गीता च श्लोक जिस छंद च हन्न सैह पूरे सह्यी होण कनै रोचकता बि बणी रैह।
बानगी दिक्खा- –
धर्मक्षेत्रे कुरुक्षेत्रे चाहा जो हंगामा
मेरे ता पाण्डु रे बेटे लागे कीजी कामा।।
छंदां दिया माळा च परोया महाभारते दा इक्क- इक्क सीन
पंकज होरां इसते बाद सोच्या कि न पराणे कथावाचक रेह, न लोकगीत रेहणे, न संस्कृत दा प्रभाव। कैंह नी दुनिया दे सबते बड्डे महाकाव्य महाभारत दे आदि पर्व, सभा पर्व, वनपर्व, विराट पर्व, उद्योग पर्व, भीष्म पर्व, द्रोण पर्व, कर्ण पर्व, शल्य समेत स्वर्गारोहण पर्व यानि अठारह पर्वां दा बी छंदोवद्ध अनुवाद करी ता जाए तां कि औणे आळी पीढिय़ां जो फाइदा होई सकै। तिन्हां करीब बीह छंद, ताल, मात्रा कनै लोकगीतां स्हाबैं धुना च रचेया। एह ग्रंथ सत सौ तीह पेजां दा ऐ, जिस च महाभारत दा इक्क- इक्क सीन बड़ी मिणहता नै छंदां दिया माळा च परोया।
कुल्लुवी लोक संस्कृति पर डुग्गा कम्म
इस परंत तिन्हां दियां दो कताबां गज़लां दी फसीहात-ओ-खुराफात कनैं कुलूत जनपद यानि इन्नर सराज च कुल्लुई भासा च‌ बोल्ले/ गाए जाणे आळे वेदकालीन, प्रागैतिहासिक, पुराणिक साहित्य कनै संस्कृत निष्ठ संस्कृति दे भंडार जिस च लोकगीत, भारथा, लोकवाणी, लोककथा, भंवरू (लामण, बामणु) बुझारतां कनै पुआम यानि लोकोत्तियां जो बड़ी मिणहता नै कठेरेया कनै “लोकवाणी के फूल” भीतरी सराज की लोकवाणी में प्रचलित पुआम लोकोत्तियां नाएं ते कताबां छापियां।
नीं मिल्ला सैह सम्मान, जिसदे थे हकदार
पंकज होरां महाभारत दा मूळ ग्रंथ पढ़ी, अपणी मां बोल्लिया दा डुग्यायिया च अधय्यन करी “महाभारत कुल्लवी बोली नां” छंदोवद्ध अनुवाद करी मां बोल्ली कनै धर्म ताईं बड़ा डुग्घा कम्म कित्ता। अपणे समे दियां पत्र- पत्रिकां च तिन्हां दियां रचना खूेब छपदियां रेह्यियां। संस्कृत, उड़दू, अंग्रेजी, हिन्दी समेत होर केई भाषां पर तिन्हां दी डुग्घी पकड़ थी। कितणियां बी मस्कलां इस‌ कम्मे च आइयां पर धर्मपत्नी कुसुम‌ लता होरां अंगसंग रेह्यी के साथ नभाया कनै म्हेसा प्रेरित कित्ता।
इतना गहरा शोध करने दे बाद भी तिन्हां जो सैह सम्मान कदी नी मिल्ला जिसदे हकदार थे। किछ शोध कार्य, अपणी जीवनी, कनै गज़लां दी इक्कहोर कताब छपणे ते रह्यी गेइयां। मां बोल्ली दा यह चितेरा 1 जून 2009 जो सुरग सधारी गेया।
फासीहात -ओ -खुराफात से एक गज़ल
तुम्हीं ने सीने में इक आग सी लगाई भी।
फिर अपनी आग लगाई हुई बुझाई भी।।
किसी से वास्ता मुझ को रहे, रहे न रहे।
तुम्हीं से सुलह भी होती रहे लड़ाई भी।।
उसे तलाश करेंगे अब आसमानों में।
तैयार हो चुका तय्यारा-ए-ख़लाई भी।।
खु़लूसे दिल ही न हो जब तो प्यार क्या होगा।
रहेगा कौन जो घर में न हो सफाई भी।।
जुनूने-सहरानवर्दी को फिर भी सब्र नहीं।
थे पहले आबले अब फट गई बियाई भी।।
था डर कि लौट न जाए वह देख कर सोता।
तो टाल दी यूं ही पल भर जो नींद आई भी।।
अजब मज़ाक रहा है यह काइनात के साथ।
कि बार-बार बनाई भी है मिटाई भी।।
तुम्हारी इतनी यह मसरूफियत भी क्या पंकज।
न कर सको कभी आकर गज़ल सराई भी।।
कुल्लू री बोली नां भगवद्गीता- पहले अध्याय चा किछ छंद
धृतराष्ट्रे बोलू
धर्मक्षेत्रे कुरूक्षेत्रे चाहा जो हंगामा।
मेरे ता पाण्डु रे बेटे लागे कीजी कामा।।
संजे बोलू
पाण्डवा री फौज भाळी तां सुयोधन राजा।
गुरु आगे जाई केरी बोलदा ए लागा।।
भाळा गुरूजी पाण्डवा री फौज़ कैण्डी बौड़ी।
थारे चेले द्रुपदपुत्रे केरदी जो खौड़ी।।
सी महारथि जोधे कइए भीमा अर्जणा साही।
युयुधान विराट द्रुपद केरणाळे लड़ाई।।
धृष्टकेतू चेकितान ता काशिराज सरीखे।
शैव्य पुरूजित् कुन्तिभोज जो हारराणी सीखे।।
युधामन्यू उतमौजा साहि वीर कटेटे।
वीर अभिमन्यू ता पांझे द्रौपदी रे बेटे।।
म्हारे बी ज़ो ज़ो सि जोधे सबके सब बलवाना।
मेरे मूंहां तिना रे शूणा पूरे बखाना।।
तूमे, कृप, भूरिश्रवा, ता कर्ण, भीष्मपितामा।
एक वीर विकर्ण दूजा वीर अश्वत्थामा।।
मेरी तइं छाड़ीदि कइए होरे जीवन आशा।
ऐण्ढे शस्त्रधारी बे सा युद्ध एक तमाशा।।
भीष्मा रे आसरे सा ऱज्झ म्हारी सेना।
भीमा रे अधीन थोड़ी तिन्हा री सेना।।
सौभिए लोड़ी तुसे भीष्मा रि रक्षा केरी।
मोरचे नां सौभी पासे राखणा ऐ घेरी।।
भीषमे तैरी खुशी बे अपणा शंख बजाउ्।
शेरा साही धाडि़ए तै खूब शोर मचाउ्।।
फेरि लागे सब बजांदे जेतरे ते राजे।
शंख ढोल नगारे गोमुख होर कइए बाजे।।
रोते घोड़े वाळे अपणे महान रथ्था पांदे।
कृष्ण तां अर्जण बि लागे शंख बजांदे।।
पांचजन्या श्री कृष्णे देवदत धनंजये।
पौण्डु बाजू भीमसेने महाशंख वृकोदरे।।
बाजु शंख अनन्तविजये कुन्तिपुत्र युधिष्ठ्रे।
नकुले बाजु सुघोष मणिपुष्यक फिरी सहदेबे।।
महाबाहु काशिराजा धृष्टद्दुम्न शिखण्डी।
नृप विराट ता सात्यकि ए पाण्डवा रे संगी।।
वीर अभिमन्यू ता द्रूपद द्रौपदी रे ज़ाए।
आंगि आंगी सौभी अपणे शंख बजाए।।
बौडि भारि दणूण च़ौकी फैरि ढोले दमामे।
कौरुआं रे दिल डरा रे मारे थर थर कामे।।
भाळिए कौरूबे अर्ज़ण चौकिए धनुषा वे।
ऐन शस्त्रा छूटदी घेरे श्री कृष्णा वे।।
बोलदा लागा तुसे मेरे रथा बे नेआ।
दूहि फ़ौजा बीच़ एइबे खौड़ा केरि देआ।।
लडऩुआळे कौरुबे हउं भालनू तां साईं।
कूणे सौंगे मूं सा लडऩा कूणे सौंगे नाईं।।
जो कबुद्धि रा कल्याण चाहणे वाळे।
ए ज़ो लड़दे आएंदे सी मैं बि लोड़ी भाळे ।।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *