कांगड़ा की बेटी ने हुनर से किया चमत्कार, व्हाट्सअप को बनाया कोरोना के खिलाफ हथियार, सारिका कटोच का व्हाट्सअप ग्रुप ‘कांगड़ा अगेंस्ट कोविड-19’ जिला प्रशासन व लोगों के बीच कर रहा सेतु का काम

Spread the love

कांगड़ा की बेटी ने हुनर से किया चमत्कार, व्हाट्सअप को बनाया कोरोना के खिलाफ हथियार, सारिका कटोच का व्हाट्सअप ग्रुप ‘कांगड़ा अगेंस्ट कोविड-19’ जिला प्रशासन व लोगों के बीच कर रहा सेतु का काम
धर्मशाला से संजीव कौशल की रिपोर्ट
दुनिया भर में करोना संक्रमण की खबरों के बीच भारत में भी इस महामारी की आहट सुनाई देने लगी थी। इस महामारी से निपटने के लिए अभी देश में लॉकडाउन भी नहीं लगा था, लेकिन कांगड़ा की एक बेटी ने इस महामारी से लडऩे के लिए सोशल मीडिया के व्हाट्सअप प्लेटफार्म को हथियार बनाकर कांगड़ा जिला प्रशासन व जनता के एक सेतु का काम शुरू कर दिया था। इस व्हाट्सअप ग्रुप के माध्यम से जल्द सूचना उपलब्ध होने के चलते जिला प्रशासन को न केवल वायरस का संक्रमण फैलने से रोकने में ही मदद मिली, बल्कि लॉकडाउन के दौरान लोगों को मास्क व राशन पहुंचाने में भी बड़ी भूमिका निभाई। सारिका कटोच ने 21 मार्च को कांगड़ा के प्रशासनिक अधिकारियों से मिलकर ‘कांगड़ा अगेंस्ट कोविड- 19’ गु्रप शुरू किया। इस ग्रुप में जिला के पंचायत प्रधानों, महिला मंडलों, युवा मंडलों, स्वयं सहायता समूहों, गैर सरकारी संगठनों और युवा क्लबों के प्रतिनिधियों को जोड़ा गया तो दूेसरी तरफ डीसी, एसपी, एसडीएम, व जिला के चिकित्सा अधिकारियों को इसमें शामिल किया गया। कांगड़ा के डीसी राकेश कुमार प्रजापति और एसपी विमुक्त रंजन स्वीकार करते हैं कि ग्रुप बनने से प्रशासन को बहुत मदद मिली। एक ही प्लेटफॉर्म पर पूरे जि़ले की जानकारी उपलब्ध होने से महामारी से निपटने में बड़ी मदद मिल रही है।
महामारी में मददगार
यह व्हाट्सअप ग्रुप जहां जमीनी स्तर की जानकारियां प्रशासन तक पहुंचाने में अहम भूमिका अदा कर रहा है, वहीं ज़रूरतमंदों तक मदद पहुंचाने का जरिया बना हुआ है। लॉकडाउन के दौरान इस ग्रुप ने प्रवासी मज़दूरों को खाना उपलब्ध करवाने में भी बड़ी भूमिका निभाई है। ग्रुप से जुड़े सभी महिला मंडलों ने कपड़ों से मास्क बनाने का काम किया और बड़ा भंगाल सरीखे अति दुर्गम इलाकों के लोगों तक मास्क उपलब्ध करवाए गए। इस ग्रुप के सदस्यों ने स्कूलों को खाली करके उन्हें क्वारंटीन वार्ड बनाने में भूमिका निभाई और बाहर से आए लोगों के खाने का इंतज़ाम भी ग्रुप सदस्यों ने घर से किया। लोकडाउन के दौरान ग्रुप के सदस्यों ने चारा उपलब्ध करवा कर पालतू पशुओं का भी ध्यान रखा।
अब अर्थव्यवस्था को मजबूत करने पर जोर
इस ग्रुप ने लॉकडाउन के दौरान जिला के विभिन्न हिस्सों में काम करने वाले 2,900 कश्मीरी मुस्लिम मज़दूरों के लिए न केवल क्वारंटीन करने का इंतज़ाम किया, बल्कि उनके प्रारम्भिक टेस्ट में भी मदद की। जिला भर में उन्हें मास्क से लेकर खाने तक का सामान अब तक उपलब्ध करवाया गया। ग्रुप के सदस्यों की मदद से स्थानीय अर्थव्यवस्था पर भी काम किया जा रहा है। लोगों को घर में सब्ज़ी उगाने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। ग्रुप वेबिनार का भी लगातार आयोजन कर रहा है, जिसमें विशेषज्ञों से लाइव चर्चा करवायी जा रही है।
पति ने दी सपनों को उड़ान
कांगड़ा मख्यालय धर्मशाला से लगते छोटे झिकड़ गांव की सारिका कटोच ग्रामीण विकास में पोस्ट ग्रेजुएट करने के साथ ही अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनाने में सफल रही हैं। महज 17 साल की उम्र से एचआईवी एड्स को लेकर पहाड़ी समाज को जागरूकता का संदेश देने वाली सारिका कटोच कॉलेज के दिनों से ही सामजिक कार्यकर्ता केे तौर पर पूरी तरह से सक्रिय रही हैं। उनकी शादी शिमला के अरविंद पंवर से हुई है, जो खुद एक सामजिक कार्यकर्ता हैं। सारिका का कहना है कि सामाजिक कार्यों में अरविंद हमेशा उन्हें आगे रखते हैं।
गांव की बेटी की ब्रिटेंन की महारानी से मुलाकात
36 वर्षीय सारिका कटोच कॉमनवेल्थ यूथ प्रोग्राम के रीजनल यूथ कार्यक्रम में सारिका भारतीय प्रतिनिधि और राष्ट्रमंडल युवा कार्यक्रम में एशिया क्षेत्र के लिए उपाध्यक्ष रही हैं। साल 2008 में सारिका को दक्षिण अफ्रीकी देश घाना में राष्ट्रपति चुनाव के लिए ‘चुनाव पर्यवेक्षक’ के रूप में नामित किया गया था। बीबीसी वल्र्ड सर्विस ट्रस्ट उनके काम के लिए देश के ‘यूथ स्टार’ पुरस्कार से सम्मानित कर चुका है। साल 2006 में चीन में युवा प्रतिनिधि के रूप में भारत का प्रतिनिधित्व भी किया था। राष्ट्रमंडल की 60वीं वर्षगांठ पर एक युवा कार्यकर्ता के रूप में 9 मार्च, 2009 को लंदन के मार्लबोरो हाउस स्थित राष्ट्रमंडल के मुख्यालय में आमंत्रित किये गये विशिष्ट अतिथियों में से एक थीं और वहां उन्हें महारानी एलिजाबेथ द्वितीय से भी मिलने का अवसर मिला था। वह हिमाचल प्रदेश चिल्ड्रन डेवलपमेंट आर्गेनाइजेशन की चेयरपर्सन भी हैं। वे सर्वश्रेष्ठ युवा पुरस्कार, सर्वश्रेष्ठ कैडेट पुरस्कार, सर्वश्रेष्ठ सांस्कृतिक कार्यकर्ता सहित कई राष्ट्रीय व राज्य स्तर के पुरस्कारों से सम्मानित हैं।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *