कल्हूर दा कुरैशी, पहाड़ी म्हाणू, गल्ल देसी, पत्रकार रहे शबीर कुरैशी दा पहाड़ी-हिंदी शब्दकोश च योगदान,‘स्मृति’ क्ताबा बिच रचनां

Spread the love

कल्हूर दा कुरैशी, पहाड़ी म्हाणू, गल्ल देसी, पत्रकार रहे शबीर कुरैशी दा पहाड़ी-हिंदी शब्दकोश च योगदान,‘स्मृति’ क्ताबा बिच रचनां

बिलासपुरे ते वीरेंद्र शर्मा ‘वीर’ दी रिपोर्ट

पहाड़ी भासा दा त्याहस उतणा इ पराणा ऐ जितणी क पराणी पहाड़ी सभ्यता, कैंह कि जित्थु बि कनै जाहलु बि माहणु जां कोई जीव बसदा सै अपणे मने दी गल्ल अपणी बोलिया च इक्की दूए कन्नै बंडदा। इस करी एह गलाणा पई पहाड़ी भाषा थी हि नी एह ठीक नी बुझदा। लिपि चाएं पैहलें टांकरी थी, कनै हण देवनागरी एह गल्ल दूई। एह गल्ल बि दूई ऐ पई पहाड़ी भासा च लखोए त्याहस दे सबूत बड़े बड़े घट मिलदे। मन्नेया पई पराणेया जमान्नेयां च स्कूल जां गुरुकुल बि मतेयां कोहां पर जई लुभदे हे पर चंबे ते लई के सिरमौर तिक्कर कनै ऊने ते लई लौहळ-स्पीती किन्नौर तिक्कर लोककथां, लोकगीत, भजन तां माहणु पीढ़ी-दर-पीढ़ी चलदे कनै गोंदे आए। पहाड़ी भासा तां हिंदी भासा दे वीरगाथा यानि आदिकाल यानि सिद्ध-चारण काल जिस च नाथ, सिद्ध कनै संत जोधे लोक भाषा च ही लिखदे थे। गुरु गोरखनाथ कनै तिन्हां दे भरमौर ते गद्दी चेले महात्मा चरपटनाथ जो कि चंबे दे राजे दे गुरु बि रेह पहाडिय़ा भाषा च ही लिखदे थेे। राजा पृथ्वी सिंह दा ताम्रपत्र सनॅ 1613 दा मिलदा जिसच इह्यां हा लिखेया – ग्राम इक मिंधला सीमाय प्रजे समेत। कई शिलालेख मिलदे जिन्हां च सन 1170 च मौजूदा पांगी दा ना पांगती लिखेया मिलदा। बीहमीं शताब्दी दे सुरु च कल्हूर रियासता दे राजकवि गणेशबेदी दा लिखेया कनै प्रकाशित खूब मिलदा। मौजूदा दौर च तां मते लखारी मिलदे जिन्हां सारेयां दे कित्तेयो कम्मे पर गल्ल बात हुंदी रैहणी जरूरी ऐ। अज्ज जरूरत इसा गल्ला दि बि बझोआ करदी पई पहाड़ी भाषा कनै संस्कृति दे अध्ययन, संरक्षण कनै संवर्धन कनै भलेयां समेयां च लिखोए साहित्य कनै लखारियां दे बारे हर मुनसब पैहलु पर डुग्गाी नजर दुड़ाई कागजां पर उकेरना करना कनै इक पक्का दस्तावेज बणाणा जरूरी ऐ। पहाड़ी भाषा दे किछ लखारियां पर कम्म होया कनैं मते हाल्ली बाकी हन्न। इसा कडिय़ा च अज्ज गल्ल करदे हन्न तत्कालीन कल्हूर रियासत च इक गरीब मुस्लिम परुआरे ते संबंधित मिस्त्री दा कम्म कार करी अपणा कनै टब्बरे पेट दा पाळदे बज़ीरदीन होरां दैं घरैं बीबी मुमताज बेग़म दिया कुखा 15 दिसंबर 1944 जो जन्में शबीर कुरैशी होरां कनै तिन्हां दे बारे जुड़ेयो हर पहलु दी।

 

श्रीकृष्ण पर पढ़ी पहली कवता


बोलदे न भई कंडे दा मुंह जमंदे दा इ तिक्खा हुंदा, ये कहावत ठीक उपड़दी शबीर कुरैशी होरां पर। बचपन ते होरना न्याणेयां ते लग्ग नजऱ औंदे थे। लिखणे-पढऩे दा शौक बि सैद बचपन ते इ था। संसार दे सारे धर्मादे बारे बरोबर ज्ञान तां था ई अप्पर गूढ़ा सम्मान करदे थे। हाल्ली अठमीं-नौंआं सालां दे थेे जाहलु तिन्हां बिलासपुर शहरे च पीर बाबा खाके शाह दे स्थान पर आयोजित इक सम्मेलन च श्रीकृष्ण जन्माष्टमी आळैं दिन श्रीकृष्ण भगुआन पर अपणी ही लिखियो पहली कवता सैकड़ेयां लोकां सामणै पढ़ी के वाहवाही लुट्टी, कनैं सबना दियां नजरां च चढी गे। हाल्ली पंजमी च पढ़दे थे जाहलु ते तिन्हां भाषण प्रतियोगिता, डिवेट, कविता, कहाणी पाठ कनै नाटक लिखणें च न केवल अप्पु हत्थ अजमाणा शुरू करी ते, बल्कि अपणे संगी-साथियां ताईं भी भाषण लिखणा सुरू कित्ते। जिह्यां-जिह्यां सैह बडरोंदे गे पकड़ होर मजबूत होंदी गई।

 

ट्यूशन पढ़ाई भाऊ-भैणा दे ब्याह कित्ते


माऊ-प्योआं दी माली हालत ठीक नी थी। अठमीं च पुजणे ते पैहलैं ई अप्पु ते छोटे न्याणेयां जो ट्यूशन पढाणा सुरू करी ती। बिलासपुर कॉलजे ते बीए करने तिक्कर अपणी क्लासा दे कमज़ोर साथियां जो बि ट्यूशन पढ़ाई। फिरी सैकल रखी कनैं घरैं-घरैं जाई ट्यूशन पढ़ाई के जो पैसे कमाए तिन्हां कन्नै अपणे भाऊ-भैणा न केवल पढ़ाए, बल्कि तिन्हां दे ब्याह बि कित्ते।

भाषण प्रतियोगिता च दुआ नंबर

अंगरेजी, हिंदी, उड़दू, पहाड़ी कनै पंजाबी भाषां पर तगड़ा अधिकार था। समाजसेवी भी बड़े आल्हा दर्जे दे थे। इक्क बरी दिल्ली राष्ट्रीय स्तर दी भाषण प्रतियोगिता होई। अपणा भाषण अप्पु लिखेया कनै चली गे, कनैं दुए नंबरे रेह। इस भाषण प्रतियोगिता च नवभारत टाइम्स दे संपादक अक्षय कुमार जैन होरां थे। पैसेयां दि घाट तां थी ही, पर पढऩा बि चांहदे थेे, एमए प्राइवेट ई करी लई।

एनबीटी च रिपोर्टर दे तौर पर कम्म

किछ बरियां बीतियां तां तिन्हां मसूस कित्ता कि जे गांह बधणा तां किछ बड्डा करना पौणा, ट्यूशन पढ़ाई तां सिर्फ अपणा टिढ ही पाळी सकदे। दिल्ली इंटरव्यू देणा गे। तिस इंटरव्यू जो लैणे आळे थेे अक्षय कुमार जैन होरां। दूईं इक्की-दूए जो पैहली नजरा च ही पछ्याणी लेया कनैं इह्यां करी नवभारत टाइम्स ते संवाददाता दे तौर पर नौकरी शुरू हो गई। करीब दस साल टाइम्स ऑफ़ इंडिया, इंडियन एक्सप्रेस च बि कम्म कित्ता। इस दुरान रेडियो ताईं आकाशवाणी शिमला च बि कम्म कित्ता। कनै दूरदर्शन हिमाचल च आया तां मि कम्म किता जो कि मरणोपरंत ही खत्म होया। कविता-कहाणी लिखणे-पढऩे दा जो शौक था, तिसते बि ज्यादा शौक था मित्तर बणाणे दा। हिंदी, अंग्रेजी ते पैहलें मां बोली पहाडिय़ा नैं सच्चा प्यार था।

अपणी मासिक पत्रिका शुरू कित्ती

मतियां पत्र-पत्रिकां च लगातार कनै लम्में बगते तिक्कर छपे फिरी बि। तिन्हां अपणे बचपन ले लेई ही इक्क कमी मसूस कित्ती ही पई नौयां लखारियां जो कोई सानिया नै नी छापदा। इस करी सन् 1989 ते पाक्षिक पत्रिका ‘हिमदिशा’ सुरू कित्ती, तिहा च राजनीतिक, सामाजिक, आर्थिक, धार्मिक मुद्देयां पर न केवल बेबाक गल्ल कित्ती, बल्कि हिमाचली हितां दी बखूबी पैरवी कित्ती। हिमदिशा दे रस्तैं न केवल हिंदी, बल्कि पहाड़ी दे लखारियां जो छाप्पी के खूब उभारेया। एह पत्रिका तिन्हां दे सन 2006 च जाणे ते बाद बि त्रै साल तिन्हां दी घरेआळिया आशा कुरैशी होरां चलाई। फिरी किछ कारणा करी बंद करना पई।

पहाड़ी-हिंदी डिक्शनरी ताईं कम्म

हिमाचल भाषा कला संस्कृति अकादमी दी महत्वपूर्ण योजना पहाड़ी-हिंदी डिक्शनरी ताईं दुला राम चौहान, काहन सिंह जमाल, स्वर्ण कांता सुदर्शन डोगरा, शेष अवस्थी, विद्यानंद सरैक, नरोत्तम दत, हरिप्रसाद सुमन सरीखे लखारियां नैं मिली के बिलासपुर दे घुमारवीं, कहलूरवी दावीं बगैरा बोलियां दे शब्दां पर कम्म बि कित्ता।

‘प्रगति निकेतन’ अकादमी दे मैनेजर

मते पहाड़ी नाटक लिखे-तिन्हां पर बच्चेयां जो स्क्रिप्ट तैयार करुआइयां। राजकुमारी अंबिका नै कहलूर रियासत टैमे दी अंतिम राणी राजमाता ऊमावती दी यादा च करीब 1960 दे नेडे-तेडे ‘प्रगति निकेतन’ नाएं दी अकादमी खोली तां बच्चेयां-औरतां ताईं लाइब्रेरी खोली। खेलां शुरू करुआइयां कनै होर मती गतिविधियां चलाइयां तां कुरैशी होरां जो मनैजर बणाया। देखरेख ते लई सारा कंट्रोल तिन्हां जो सौंपी ता। राजकुमारी अंबिका दे 1980 च सुरग सधारने ते पैहलैं एह सब गतिविधियां लगातार सफल तरीके नैं चल्दियां रहियां। तिन्हां जो मतियां संस्था सम्मानित बि कित्ता।

कवि सम्मेलन च गहरी छाप छड्डी

बकौल डॉ. प्रेम भारद्वाज, शबीर कुरैशी पहाड़ी कवता जो रुहानी तरीके नै अपणे दिले दिया खोह ते कड्डी जाहलु लिखदे कनै फिरी मंच ते बोलदे तां वैश्विक करने दा माद्दा रखदे थे। तिन्हां दिया कवता, गजलां च देस प्रेम, शृंगार रस, मानवता, बिलासपुर सैहरे दा उजडऩा, माहणुआं च बधदा विरह बरोध, हिरख, उठापटक, दम तोड़दी व्यवस्था, लोकतंत्र दे तंत्रालोक पर कलम दे जरिए चोट बखूबी नजर औंदे। कई राज्य कनै राष्ट्रीय स्तर दे कवि सम्मेलन कनै विचार गोष्ठियां च गहरी छाप छड्डी। अप्पर कुरैशी होरां बारे जेहडी इक्क गल्ल दुख पुजांदी सैह एह पई तिन्हां मते लोक प्रतिभा नखारी सिरे दे लखारी बणाए कनै छाप्पे बि पर अतिव्यस्त रैहणे कनै परुआरे दियां जिम्मेवारियां करी जींदेयां जी अपणा कोई पोथु बि नी छाप्पी सके। मता किछ तांह-तुआंह पत्र-पत्रिकां कनै डैरियां च ही रह्यी गेया। हिंदी-पहाड़ी दूनी भासां च व्यंग्य तां इतणा सफाइया कनै बेबाकी नै बोलदे हे पई सुणने आळे दा पित्त फखोई जाए पर गलाई किछ न सकै। उदाहरण दिक्खिए –
कुर्सी जो दिलवाए, वही उनका मित्र है
राजनेता, पुलिस, अधिकारी, कर्मचारी
सब बुधे बल्ब की तरह हो गए हैं
रिश्वत की देवी के सामने
क्यारी च खिलदे नेकां भांति फुल्ल
अपणी खुशबू अपणा ही मुल्ल

सन 2006 दी गल्ल ऐ कुल्लू राज्यस्तरीय ‘गुलेरी जयंती’ दे कार्यक्रम च मते लखारियां नै तिन्हां एह पंक्तियां बोलदे होए इक्क रात होर रुकणे ताई बोल्या। खासकर उपनिदेशक भाषा विभाग प्रिय जसवाल, कनै डॉ. प्रेम भारद्वाज होरां जो, पर अगलैं दिन जरूरी कम्म होणे करी सैह दोनों नी रुकी सके। तां तिन्हां अपणिया लिखियां एह लैणी बोलियां-
‘तुसां जां जे हस्से-हसांदे चली गए
तुसां जां जे रुस्से मनांदे चली गए।।’
तिन्हां दूईं मित्रां जो बि क्या पता था पई एह तिन्हां दी आखरी मुलाकात ऐ।

‘स्मृति’ कताब निकाल श्रद्धांजलि

‘झील केहडी सजुरी’ कालजयी कवता दे लखारी 17 जुलाई 2006 जो दिले दा दौरा पौणे करी सुरग सधारी गे। तिन्हां दे सुरग सधारने ते बाद जिला भाषा अधिकारी डॉ. अनीता शर्मा, आनंद सोहर, तिन्हां दे टैमे जिलाधीश राजेंद्र सिंह, बादे दे देवेश कुमार, डॉ. प्रेम भारद्वाज कनै रतन चंद निर्झर होरां चाराजोई करी तिन्हां दियां तांह-तुआंह बिखरियां काफी रचना कठेरी के ‘स्मृति’ नाएं दी कताब कड्डी के इस महान लखारी जो सच्ची श्रद्धांजलि दित्ती।

शबीर होरां दि कुछ कवतां

मनां रा सीसा

मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारे देखे
भटकदे माहणु सारे देखे
तिन्हां जो भगवान नी मिलदा
टेकदे मत्थे सारे देखे।
मुंह-मुंह राम बगले छुरियां
भलियां गल्लां लगदियां बुरियां
नीत अज्ज बदनीत हुई गी
नेडे औंदियां, बधियां दूरियां।
मजहब जे इंसान बणाया
लडऩा फेरी किनी सिखाया
अफरा-तफरी कैंह मचुरी
पाठ प्रेमा रा सबीं पढ़ाया।
बाट कुबाट असां चली गए
स्वार्थ खातर असां बिकी गए
चारों पासे न्हेरा ई न्हेरा
ऐड़ी बाटां कैंह चली गए।
फर्ज अपणा कर्म नभाणा
इक्क-दूजे जो गळे लगाणा
छोटे टोटे पौंदे रेहेंदे
देसा खातिर मिटदे रैहणा।
धूडा मन बी काळा कित्ता
इक होणे रा चाळा कित्ता
असां इतने बेइमान होई गए
ऐन मौके पर टाळा दित्ता।
मना रा सीसा साफ करी लओ
इक होणे री कसम करी लओ
मुलखा बाहजी पुच्छा कुण आ
रसमा जो कायम करी लओ।
फेरी लूट-खसूट नी होणी
बेइमानी री जीत नी होणी
खंगी फेरी कोई नी सकदा
सदा असां री जीत ही होणी।

 

झील बांकी सजूरी
जवानिया री देहळिया खडुरी-खडुरी
नीला-नीला चादरू तेरा, हवा सौगी उड़दा
अपणे ध्याना च होए माहणु तांबी पिच्छे मुड़दा
देख केहड़ी छैळ लगूरी
सैर-सपाटे रे प्यासे लोक तुझ खा मुई औंदे
तेरा रूप निहारी के से तां दुखड़े भुली जांदे
देख केहड़ी छैळ लगुरी
सूरजा री किरणा तिज्जो जगांदी
धारा री धुप्पा तिज्जो सुलांदी
जेठ हाड़ा री तपदी तौंदी असांजो छड्डी जांदी
बेईमान तू बणूरी, झील बांकी सजूरी।।

 

कुण लैहरां जो गिणदा रहो

कुण लैहरां जो गिणदा रहो
कुण धारां जो मिणदा रहो
अपणिया चाला चलदे रैहणा
कुण दुनिया दी सुणदा रहो
इस दुनिया दी चाला चलणा
घुट लहुए रे पींदे रैहणा
कुहड़ी कुहड़ी कुण जियुंदा रहो
कुण लैहरां जो गिणदा रहो
मजहब होर ईमान बणी गए
क्या सारे इन्सान बणी गए
फटेयां मन कुण सियुंदा रहो
कुण लैहरां जो गिणदा रहो
औखा हुंदा अपणापण पाणा
ता उमरां ही सुखिया रैणा
कुण खिलदा मन सकोंदा रहो
कुण लैहरां जो गिणदा रहो।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.