ऐसा अधिकारी जो करवाए प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी, आबकारी एवं कराधान विभाग मंडी के आयुक्त डॉ. राजीव डोगरा कभी आईएएस के इंटरव्यू में हुए थे बाहर, अब प्रतिभाओं को देते धार

Spread the love

ऐसा अधिकारी जो करवाए प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी, आबकारी एवं कराधान विभाग मंडी के आयुक्त डॉ. राजीव डोगरा कभी आईएएस के इंटरव्यू में हुए थे बाहर, अब प्रतिभाओं को देते धार
कांगड़ा से विनोद भावुक की रिपोर्ट
हिमाचल प्रदेश की ग्रामीण प्रतिभाओं की खोज करने के सफर में आज हम आ पहुंचे हैं कांगड़ा जिला के शाहपुर विधानसभा क्षेत्र के छोटे गांव मनेई में. इस गांव के एक युवा ने साल 1997 में यूपीएससी की सिविल सर्विस की लिखित परीक्षा को पास अपने हुनर से चमक बिखेरी थी. हालांकि इंटरव्यू में उन्हें बाहर का रास्ता देखना पड़ा और आईएएस बनने का सपना टूट गया, लेकिन अगले ही वर्ष हिमाचल प्रदेश अलाइड परीक्षा उत्तीर्ण कर आबकारी एवं कराधान विभाग में अधिकारी हो गए. आज की इस प्रेरककथा के नायक हैं डॉ. राजीव डोगरा, जो अपने दोस्तों में ‘नीटू भाई’ के नाम से जाने जाते हैं और आबकारी एवं कराधान विभाग के अतिरिक्त आयुक्त हैं. इस रोचक कहानी में सबसे बड़ा ट्वीस्ट यह है कि ‘नीटू भाई’ नौकरी लगने के बाद भी अपने फर्ज के तौर पर लगातार कई स्टूडेंट्स को प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए प्रशिक्षित करते आ रहे हैं. कभी अपने घर अथवा आवास पर ऐसे युवाओं को पढ़ाने का काम करते थे, कोविडकाल में ऑनलाइन क्लास लेते हैं. पढ़ाने का यह हुनर उन्हें अपने सेवानिवृत शिक्षक पिता से मिला है और करियर के शुरुआती दिनों में उन्होंने खुद भी अध्यापन किया है. वे यह सब अपने पैसन के लिए करते हैं।
गांव के सरकारी स्कूल से निकली प्रतिभा की चमक
सरकारी स्कूल हारचक्कियां से शुरुआती स्कूली पढ़ाई करने के बाद राजीव डोगरा ने हायर सेकेंडरी डीएवी कांगड़ा से पास कर धर्मशाला कॉलेज से साल 1988 में बीएससी और साल 1990 में एमएससी भूविज्ञान (गोल्ड मैडल) के साथ पास की. उन्हें तराशने में इसी कॉलेज के शिक्षक सतीश श्रीधर का बड़ा हाथ रहा. जरूरत पढ़ने पर वह वित्तीय सहायता भी करते रहे. एम्एससी के दौरान स्कॉलरशिप मिली। पंजाब विश्वविद्यालय चंडीगढ़ से एमफिल और ‘वाटर एन्ड एयर पॉल्यूशन करनाल – पानीपत’ विश्व पर रिसर्च कर पीएचडी की डिग्री हासिल की.
लो प्रोफाइल अफसर, जीने का मस्त अंदाज
डॉ. राजीव डोगरा की गिनती विभाग के कर्मठ और अफसर के तौर पर होती है। अपने 22 साल के कार्यकाल में उन्होंने जहां भी सेवायें प्रदान की हैं, अपने स्टाफ के प्रिय रहे हैं. इस दौरान शिमला, बद्दी  ऊना, मंडी में सेवायें देने के बाद अब शिमला में कार्यरत हैं. औद्योगिक क्षेत्र बद्दी जब विकसित हो रहा था तो यूनिट्स की रजिस्ट्रेशन में उनकी सेवाएं शानदार रहीं थी. पढ़ने के शौक़ीन राजीव डोगरा सिंपल लिविंग के साथ लो प्रोफाइल ऑफिसर के मस्त अंदाज में जीते हैं

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *