अनसंग हीरो : देसे दिया आजादिया तांई चौबी सालां दा देस नकाळा, देसे ते बाहर लेई आखरी सांस , ईरान दे ‘परवाना’ अखबार दा संपादक बणी आजादिया तांई लड़े अम्ब दे ऋषिकेश लट्ठ

Spread the love

अनसंग हीरो : देसे दिया आजादिया तांई चौबी सालां दा देस नकाळा, देसे ते बाहर लेई आखरी सांस , ईरान दे ‘परवाना’ अखबार दा संपादक बणी आजादिया तांई लड़े अम्ब दे ऋषिकेश लट्ठ

 

ऊना ते वीरेंद्र शर्मा वीर दी रिपोर्ट

 

सैंकड़ेयां सालां तिक्कर साड़ा देस गुलामियां दियां जंजीरां च जकड़ोया रेह्या, अज्ज साड़ा भारत आजाद ऐ, पर एह आजाद हवा कनै आजादी इह्यां ई नी मिल्ली। इस ताईं सुभाष चन्द्र बोस, रानी लक्ष्मी बाई, शहीद भगत सिंह, सुखदेव, चंद्रशेखर आजाद, लाला लाजपत राय सरीखे अणमुक जोधेयां अपणियां औहतीं पाइयां। सत्यदेव बुशहरी, शिवराम ठाकुर, हिरदाराम, लक्ष्मण,पंचम चंद्र कटोच, सर्वमित्र, बाशीराम, कृपाल सिंह, सिद्धू राम, थोहलो राम, दौलतराम सांख्यान , भागमल सौहटा, पंडित हरिराम, चौधरी दीवानचंद, सालिगराम शर्मा, नंदलाल वर्मा, तुफेल अहमद, ओम प्रकाश चोपड़ा, संतराम, कामरेड देवीराम, हरिचंद , पंडित पदम देव, वैद्य सूरत सिंह, कर्नल शेरजंग, पहाड़ी गांधी बाबा कांशीराम जदेह् साड़े हिमाचल दे बी मते सारे क्रांतिकारी जोधेयां जी जान लाई अंग्रेजां दे नक्कां धूं देई ता। देह्या ई इक्क महान क्रांतिकारी होर होया जिसदा नां ऐ ऋषिकेश लट्ठ।

बचपन से ही क्रांतिकारी

मजूदा समे च हिमाचल प्रदेशे दे ऊना जिले दी अम्ब तसीला दे धुसाड़ा मुहल्ले दे नेड़ैं गगडून ग्रांऐं च इक्क अमीर लट्ठ बाह्मण परुआरे दे मुखिया शिवदत्त उर्फ दित्ता राम होरां दैं घरैं माता रुक्मिणी देवी दिया कुक्खा ते 2 जनवरी 1891 दे सुभ ध्याड़ैं इक्की मुन्नुएं दा जन्म होया तिसदा नां रक्खेया ऋषिकेश लट्ठ। ऋषिकेश लट्ठ पंज भाऊ कनै दूंह भैंणा च सबते बड्डे थे। बचपने ते ई ऋषिकेश देशभगती ते ओत- प्रोत क्रांतिकारी बचारां आळे थे कनै अक्सर अंग्रेज अधिकारियां नैं उळझी पौंदे थे। इस करी पिता होरां ते डांट भी पौंदी थी।

लाहौर जाई होये क्रांतिकारी

ऋषिकेश होरां दी मूहरली पढ़ाई ऊना जिलैं इ होई। बड्डियां क्लासां दी पढ़ाई ताईं लाहौर गए कनै डीएवी कॉलेज च दाखला लेया। जाहलु सैह बीए थे करा करदे तां मसहूर क्रांतिकारी परमानन्द, सरदार अजीत सिंह,, लाला हरदयाल, एमए सूफी, अम्बा प्रसाद, लालचंद्र फलक बगैरा सौग्गी होई। तिन्हां सारेयां च देसे दी आजादिया ताईं लग्न दिक्खी तिन्हां दे रंग्गे च रंगी गे। ऋषिकेश अंग्रेजी हुकूमता दे खिलाफ आंदोलन च गुप्त तरीके नै हेस्सा लैणा सुरू करी ता। अंग्रेजी हुकूमता गिरफ्तारिया दे आदेश दित्ते तां बाकी साथियां नै सलाह बणाई भई जेला च बंद होणै दी बजाय कुछ बाहरले देसे च जाई आजादिया दी लड़ाई लड़ी जाए।

करची होई के इरान पुज्जे

ऋषिकेश लट्ठ लुकदे-लुकांदे साल 1906 च लाहौर ते कराची पुज्जे कनै इरान दा जहाज पकड़ी बसरा बंदरगाह जाई रेह। तित्थु शहीद भगत सिंह दे चाचा सरदार अजीत सिंह मिल्ले। बसरा ते 28 दिन पैदल जात्रा करी सिराज पुज्जे। इत्थु बी अंग्रेजी दूतावास जो गुप्त सूचना पुज्जी गइयो थी, गुप्तचर पिच्छैं लग्गेयो थे। अंग्रेजी राजदूतै ऋषिकेश लट्ठ दा पता देणे आळे जो 20,000 रुपये ईनाम दी घोषणा करी दितियो थी जिसदी खबर टाइम्स आॅफ लंदन बी छपियो थी, पर ऋषिकेश दी सूझ-बूझ करी के अंग्रेजी पुळस गिरफ्तार नी करी सकी।

लाज्जे तांई मिल्ल्या इनाम

इस दुरान सरदार अजीत सिंह दिया सलाह पर डाक्टर दा रूप धारेया कनै इस्फान सैहरे दे सफरे गधेयां दे काफिले च सामल होई गे। एह यात्रा 45 ध्याड़े चल्ली। जाहलु जातरा पर चल्ले तां जेबा च सिर्फ पंज रुपये थे। काफिले दे सरदार से दा मुंड्डू बुमार होया। काफिले दे सरदारैं साद्दा दित्ता, इन्हां दे लाज करने पर सरदारे दा मुन्नु ठीक होई गेया। सरदार बड़ा खुस होया कनै सवारी ताईं इक्क गधा, बारह सेर रोटी, पंद्रह सेर पनीर कनै दो रपेये नाम दित्ता।

अखबारा दा संपादन

इस दुरान ईरान दी सरकारा अंग्रेजी राजदूत जो लिक्खेया भई चाहैं कोई बि राजनीतिक अपराधी हुन्न सारे ई तीह् तिक्कर रह्यी सकदे जीह् तिक्कर ईरान च रैंहदेयां ईरान सरकारा खलाफ कोई अपराध न करन। इस्फान पुज्जी के इक मस्जिदा च रेह, तिन्हां दिना तित्थु परवाना नाएं दा अखबार छपदा था। ऋषिकेश तिस च संपादक बणी गे। ऋषिकेष दे औणे परंत एह अखबार भारत दी आजादी दा खुल्ली के प्रचार करना लगी पेया। अंग्रेजां जो पता चल्ला तां तिन्हां ईरान सरकारा जो लिखेया। सरकारी हुक्मनामे ते बाद अखबार बंद होई गेया कनै ऋषिकेश बेकार। रोटी कमाणे ताईं पुराणे जुत्तेयां दा बपार शुरू कित्ता।

रानी राजकुमार दे मास्टर

किच्छ दिना बाद अजीत सिंह बी इत्थु आई पुज्जे कनै भेष बदली के मौलवी दे रूपे च कुसी दैं घरैं ठैहरे। ऋषिकेश कनै तिन्हां विदेशी धरती पर मिली के भारत दी आजादी दी लड़ाईया दा कार्यक्रम बणाया। गांह चल्ली के ल्हात बदलोए कनै इरानी राजकुमार दे मास्टर लगी गे। इस समैं ईरान च बादशाह दे खलाफ बगावत होई गई। लोकां कौमी सेना बणाई। ऋषिकेश होरां इरानी देशप्रेमियां दा साथ नभाया कनै राष्ट्रीय दल पास्से ते सेना दे एक अफसर दे रूपे च हेस्सा लेया। राष्ट्रीय दल (कौमी पार्टी) दी जित्त होई कनै तेहरान औणे पर ईरान सरकारा अमीरे मजाहिर दा पदक देई के सम्मानित कित्ता। इसते बाद सरदार अजीत सिंह तेहरान ते स्विट्जरलैंड चली गे। ईरान सरकार इन्हां ते बड़ीखुस थी, इस करी यूरोप पढ़ने ताईं छात्रवृत्ति दित्ती। ऋषिकेश रूस, आस्ट्रिया, हंगरी, फ्रांस, हालैंड, जर्मनी, यूनान, ब्रिटेन, सीरिया, रोमानिया घुमदे रेह।

तुर्की, यूनान फिर अमेरिका

तिन्हां दिनां तुर्की च सक्रिय यंग इंडिया सोसाइटी भारते दे क्रांतिकारियां दी मदद करदी थी। तिसादे इक्क सदस्य नै गुप्त सूचना दित्ती भई अंग्रेज जसूस तिन्हां जो पकड़ने दी फिराक च हन्न। गिरफ्तारी ते अद्धा घंटा पैहलें ई जर्मन जहाजे च बैठी गे कनै यूनान पुज्जे कनैं इस्तांबुल बंदरगाह पुज्जे। इत्थु इरानी राजदूत सौग्गी मिल्ले कनै बोल्या भई मैं हवाई जहाजे बारे तकनीकी जानकारी ताईंअमरीका जाणा चांहदा। ईरानी राजदूत ते छात्रवृत्ति लेई अमरीका पुज्जे। सन 1913 च अमरीका दे पश्चिमी कनारे दे राज्यां च बसणे आळे भारतीय लोकां दे दिलो- दमाग पर भारत दी गुलामी बारे क्रांतिकारी बचार जोर पकड़ा करदे थे। आरगन राज्य च लाला हरदयाल होरां गदर नाएं ते पत्र नकाळने दा सुझाव दित्ता।

युगांतर प्रैस दा साहित्य

जाहलु सारी दुनिया च पहला विश्वयुद्ध छिड़ेया तां तिन्हां दिनां कैलिफोर्निया दे सान फ्रांसिस्को शहरे च गदर पार्टी दे मुख्यालय दे रूप च युगांतर आश्रम दी स्थापना कीत्ती। इस दा संबंध भारते दे क्रांतिकारियां कन्नै होया। युगांतर प्रैस ते छपणे आळा क्रांतिकारी साहित्य ऋषिकेश लट्ठ होरां अपणे डाक बिभाग च कम करदे भाई लक्ष्मी स्वरूप लट्ठ होरां जो लगातार भेजदे रेह, जिसजो सैह गांह महाशय बजीर चंद शर्मा, भगवती चरण कनै सीताराम जो दिंदे रेह।

जर्मन महिला ने कित्ता ब्याह

कुछ समें बाद लट्ठ जर्मनी आई गे कनै दंत चिकित्सा च डिग्री लेई लई। जर्मनी च रैंहदयां साल 1921 च ऋषिकेश लट्ठ होरां इक्क अमीर जर्मन औरता नै ब्याह करी लेया कनै तिसा दा ना कमला देवी रक्खेया। 19 मार्च 1923 जो तिन्हां दैं बेटी जम्मी तिसा दा नां सावित्री रक्खेया। बेटिया दी पढ़ाई बी भारतीय परम्परा पद्धति अनुसार करुआई। अमीर जर्मन महिला नै तिन्हां ब्याह इस खातर कित्ता था भई समे समे पर पैसा लेई के अपने दल दी सिओआ करी सकन। साल 1926 च सईद करीमजादा नाएं ते ईरानी पासपोर्ट बणुआई के सैह ईरान चली आए कनै हमख्याल साथियां नै मिली के स्वतंत्रता संग्राम दे संघर्ष च औहत पांदे रह्यी सकन।

देसे जो ओणे दी हसरत

ऋषिकेश लट्ठ दे मने च जींदे जी अपणी मातृभूमि जो चूमणे दी बड़ी इच्छा थी, तिन्हां बथेरी कोशिश बी कित्ती, पर अंग्रेजी सरकारा इजाजत नी दित्ती। तिन्हां अपणे पिता जो इक्की चिट्ठिया च लिखेया था, भई मेरी सेहत हुण खराब रेह्या करदी, मेरा दिल चांहदा भई मातृभूमि च औआं पर एह संभव नी लगदा। घर कनै वतने दी मुहब्बत तड़फांदी रैंहदी। इत्थु होर बी बड़े देसभगत हन्न जिन्हां जो अंग्रेजां देसे ते बाहर कड्डी तेया, मिंजो कदी- कदी अफसोस हुंदा कि मैं माता-पिता दी कोई सिओआ नी करी सकेया। भरिया जवानिया च देस छड्डणा पेया, पर फिरी मिंजो ख्याल औंदा कि किच्छ बी होई जाए अपणे तरीके नै अपणे देसे दी पूरी सिओआ करनी ऐ।

तेहरान च ली आखरी सांस
हिमाचल प्रदेश दे इस वीर क्रांतिकारी ऋषिकेश लट्ठ होरां चौबी साल बतन वापसी दी आसा च देस नकाळा झेलदेया ई 3 फरबरी 1930 जो तेहरान च सदा सदा लई हाक्खीं मूंदी लइयां। तिन्हां दी समाधि पर किच्छ देह्या लिक्खेया –

Here rests CH. RK Lathh, my loving Husband , A true father of his daughter and freedom fighter of india. bande matram.
Born02/01/1891
Died 03/02/1930

इतिहासे में दर्ज शूरवीर
हिमाचल दे इस क्रांतिकारी वीर सपूत दे बारे जिक्र हूज हू आॅफ इंडिया, मार्टियर वोलियम-२, अफेयर्स आफ द गदर पार्टी तथा द रोल आफ आॅनर विदाऊट नेम बगैरा च मौजूद ऐ। इस क्रांतिकारी दियां यादां सहेजणे तांई राजा महेंद्र प्रताप होरां मति आर्थिक मदद कित्ती। सैह चांहदे थे भई दिल्ली च इन्हां दी प्रतिमा लगाई जाए।

अधूरी ही रेई घोषणा
इस स्वतंत्रता सेनानी दे शहीदी समारोह जेहड़ा कि 3 फरवरी, 1980 जो ऊना जिला दे धुसाड़ा ग्राएं रक्खेया था, उस च ताहलकणे मुख्यमंत्री शांता कुमार होरां आई के इस महान शहीद दे नाएं पर इत्थु स्वास्थ्य संस्थान खोलने दा ऐलान कित्ता था। स्वतंत्रता सेनानी दे भतीजे तथा ऋषिकेश लट्ठ के सगे भाई पी.सी. लट्ठ दे पुत्तर कुलदीप कुमार लट्ठ बोलदे थे भई तिन्हां जो अपने ताऊ दे इस बलिदान पर गर्व है। कनै सैह चांहदे थे कि ऋषिकेश लट्ठ होरां दी यादा च कोई संस्थान बणाया जाए पर एह आस हाल्ली बी आस ई ऐ।


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *