अजब गजब – मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के इलाके के इस मंदिर में नम्बर प्लेट चढ़ाने से कभी ब्रेकडोन नहीं होती कार, मंदिर के सामने लगती हैं हर गाड़ी को ब्रेक, हर ड्राईवर मंदिर में रूककर लेता है देवता का आशीवार्द,  देवता बनशीरा को चढते हैं गाड़ियों के कलपुर्जे

Spread the love

अजब गजब – मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के इलाके के इस मंदिर में नम्बर प्लेट चढ़ाने से कभी ब्रेकडोन नहीं होती कार, मंदिर के सामने लगती हैं हर गाड़ी को ब्रेक, हर ड्राईवर मंदिर में रूककर लेता है देवता का आशीवार्द,  देवता बनशीरा को चढते हैं गाड़ियों के कलपुर्जे
मंदिर से लौट कर वीरेंद्र भारद्वाज की रिपोर्ट
यूं तो आपने मंदिर में अमूमन धूप जलाकर प्रसाद के रूप में कोई मिठाई या फल ही चढ़ाए होंगे, लेकिन आज हम आपको जिस मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं उसमें ऐसा कुछ नहीं चढ़ाया जाता। इस मंदिर में चढ़ाए जाते हैं गाडि़यों के पुर्जे, नम्बर प्लेट और घर के पुराने औजार। यह मंदिर हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के इलाके सराज का है.
मगरूगला में देव बनशीरा का मंदिर
मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का गृहक्षेत्र सराज। यह क्षेत्र काफी दुर्गम भी है और देव संस्कृति को लेकर काफी प्रसिद्ध भी। इसी क्षेत्र में मगरूगला नामक स्थान के पास है देवता बनशीरा का मंदिर। देवता बनशीरा को जंगल का देवता कहा जाता है और यही कारण है कि इनका मंदिर जंगल के बीचों बीच स्थित है।
न मंदिर में छत, न कोई पुजारी
इस मंदिर की न तो कोई छत है और न यहां कोई पुजारी मिलता है। लेकिन मान्यता मंदिर की मिलों दूर तक है। मान्यता भी ऐसी कि इसे सुनकर हर कोई हैरान रह जाए। जी हां, इस मंदिर में धूप-दीप-ध्वजा-नारियल और कोई प्रसाद नहीं चढ़ाया जाता। यहां चढ़ाए जाते हैं गाडि़यों के खराब पुर्जे, नम्बर प्लेट और घर के पुराने औजार।
सदियों से है मान्यता
मगरू महादेव मंदिर के पुजारी हेतराम बताते हैं कि देवता के इतिहास के तो कोई प्रमाण नहीं लेकिन, देवता सदियों से इसी स्थान पर विराजमान है और इसे जंगल का देवता कहा जाता है। लोग प्राचीन समय से ही मंदिर में अपने घरों के पुराने औजार चढ़ाते थे, अब इसमें गाडि़यों के पुर्जे और नम्बर प्लेट भी शामिल हो गई। ऐसी मान्यता है कि ऐसा करने से उस वस्तु पर देवता की कृपा दृष्टि बनी रहती है और कोई संकट नहीं आता।
मंदिर में नम्बर प्लेट्स के ढेर
मंदिर परिसर में पड़े ढेरों कलपुर्जे और नम्बर प्लेट इस बात की तरफ इशारा कर रही हैं कि वाहन चालकों की इस मंदिर के प्रति कितनी गहरी आस्था है। यहां से गुजरने वाले वाहन चालक मंदिर के आगे अपनी गाड़ी को ब्रेक जरूर लगाते हैं और माथा टेककर आशीवार्द प्राप्त करते हैं। टैक्सी चालक खेम सिंह यादव बताते हैं कि यदि गाड़ी का कोई पुर्जा बार-बार खराब हो और उसे इस मंदिर में चढ़ाया जाए तो फिर वह पुर्जा खराब नहीं होता। गाडि़यों की नम्बर प्लेट इसलिए चढ़ाई जाती हैं ताकि देवता की कृपा गाड़ी पर बनी रहे।
मंदिर के प्रति गहन आस्था
हालांकि इन बातों पर यकीन करना संभव नहीं लगता, लेकिन यह लोगों की आस्था ही है जो इस बात का दर्शा रही है कि मंदिर के प्रति उनकी कितनी अटूट श्रद्धा है। यह आस्था इस बात का प्रमाण है कि विभिन्न प्रकार के मंदिर और उनकी अपनी विशेष प्रकार की मान्यताओं के कारण ही हिमाचल प्रदेश का देवभूमि कहा जाता है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *