कभी शिमला में म्युनिसिपल कार्पोरेशन में क्लर्क की नौकरी करते थे फिल्म गीतकार राजेंद्र कृष्ण, शिमला में ही 1945 में हुए अज़ीमुश्शान ऑल इंडिया मुशायरा में पहली बार पढ़ी थी शायरी, शायर-ए-आजम जिगर मुरादाबादी की दाद से बढ़ा हौसला, शिमला से मुंबई पहुंच गये गीत लिखने

कभी शिमला में म्युनिसिपल कार्पोरेशन में क्लर्क की नौकरी करते थे फिल्म गीतकार राजेंद्र कृष्ण, शिमला…

यात्रा वृतांत : पंजाबी की जुबां पर ‘बडका जी इडी न कोई फिकर न कोई फाका, इडी न कोई चोरी न कोई डाका’, पहाड़ी बोले, ‘यारां बेलियां बिन नईयो सरदा’

पंजाब के चौधरी लक्की सिंह का यूनीक बिजनेस आइडिया: फिट भी, हिट भी यात्रा वृतांत :…

 बरमूडा ट्राएंगल जैसी भारत में भी तिब्बत-अरुणाचल सीमा पर है रहस्यमयी शंगरी ला घाटी, जहां जाने से आदमी से जहाज तक हो जाते हैं गायब

फोकस हिमाचल नेटवर्क तिब्बत और अरुणाचल की सीमा पर पड़ती है शंगरी ला घाटी, जिसका  तंत्र-मंत्र…

कवि गोपाल शर्मा की समीक्षा : संघर्ष और साहस की अभिव्यक्ति है कवि विनोद ध्रब्याल राही का काव्य संग्रह “चांद पर लाजो”

विज्ञान का विद्यार्थी जब कविता लिखने उतरता है, तो वह नये प्रयोग करता है और परिणाम…

साहित्यकार भूपेंद्र जम्वाल ‘ भूपी’ का पहाड़ी भाषा पर विचार : ‘पहाड़ कन्ने पहाड़ी’

जित्थू तिकर अपणी गल्ल कुसी जो दसणे दा सवाल है, सबनां जो भाषा या बोलिया दी…

कई महान विभूतियों की यादगारों की गवाह है चंबा की यह ऐतिहासिक जगह, डलहौजी की मिट्टी, देशभक्तों के निशान

फिरंगियों को ललकारने वाले नेताजी सुभाष चंद्र बोस,’गीतांजली’ पर मिले नोबल पुरस्कार को ठुकराने वाले गुरूदेव…

 कसौली में पैदा हुए, मसूरी को बनाया घर, भारत में बचपन की स्मृतियां और प्रेम के कारण इंग्लैड से लौट आने वाले लेखक रस्किन बांड की जिंदगी से एक दिलचस्प कहानी, बकौल रस्किन – ‘आसान नहीं बच्चों का ध्यान किताबों की तरफ खींचना’

कसौली में पैदा हुए, मसूरी को बनाया घर, भारत में बचपन की स्मृतियां और प्रेम के…

चंबा में रावी नदी के पास ऐतिहासिक साहो गांव में है चंद्रशेखर मंदिर, यहां चौकोर पत्थर के बीच से निकलें तो कष्ट होते हैं दूर, चंबा नगर बसाने वाले राजा साहिल वर्मा ने किया था चंद्रशेखर मंदिर का निर्माण

चंबा में रावी नदी के पास ऐतिहासिक साहो गांव में है चंद्रशेखर मंदिर, यहां चौकोर पत्थर…

20 फीट का यह विश्व का सबसे बड़ा इंक पेन डिजिटल एजुकेशन का करेगा प्रसार, सिरमौर के नौरंगाबाद स्कूल के अध्यापकों का आविष्कार : अध्यपकों के न होने पर भी बच्चों पर रखेगा नजर, सौर ऊर्जा से चार्ज होने वाले 40 किलो के करीब इस पेन में लगा है सीसीटीवी, रात को रोशनी भी बिखेरेगा

20 फीट का यह विश्व का सबसे बड़ा इंक पेन डिजिटल एजुकेशन का करेगा प्रसार, सिरमौर…

गुफा में मौजूद है पांच हजार साल पुरानी मूर्ति : मंडी और कुल्लू के बीच बने पंडोह बांध से कुछ आगे चलकर व्यास नदी के दूसरी ओर यह एक पर्वत पर शोभायमान है हणोगी माता मंदिर

फोकस हिमाचवल ब्यूरो मंडी की रिपोर्ट हिमाचल प्रदेश के अलग-अलग शोभा वाले अनेक मंदिरों में से…